2327+ Shy Shayari In Hindi | बेस्ट हिंदी शायरी

Shy Shayari In Hindi , बेस्ट हिंदी शायरी
Author: Quotes And Status Post Published at: October 3, 2023 Post Updated at: April 12, 2024

Shy Shayari In Hindi : इश्क की उम्र नहीं होती,ना ही दौर होता है,इश्क तो इश्क है,जब होता है बेहिसाब होता है। होठों पर नाम हे तेरा,दिल में याद हे तेरी,ज़माने से हमें क्या लेना,जब तुझमे बसी है जान मेरी।

हैवान बनकर बुरा सोचने की बजाये, इंसान बनकर अच्छा सोचना ही, जीवन जीने का प्रथम और आखिरी उदेश्य है !

शायद हम तुम्हारे हाथ 🤝 की रेखाओं में अभी नज़र नहीं आएंगे,क्योंकि जब हम आयेंगे 🤔 तो तुम्हारे कहने से भी नहीं जायेंगे … ।। 😍😉

मुझे बहुत प्यारी है तुम्हारी दी हुई हर एक निशानी, अब चाहे वह दिल का दर्द हो या आंखों का पानी।।

जब गैरों पे वो फिदा होने लगा, धीरे धीरे मुझसे जुदा होने लगा।

अच्छे होते हैं वो लोग जो आकर चले जाते हैं, थोड़ा ठहर कर जाने वाले बहुत रुलाते हैं !

मेरी ज़िंदगी मेरी जान हो तुम,मेरे जीवन का दूसरा नाम हो तुम..Meri zindagi meri jaan ho tum,Mere jeevan ka dusra naam ho tum..

मुझे मालूम है कि तुम बोहोत खुश हो इस जुदाई सेअब बस ख्याल रखना तुम्हे मुझ जैसा नहीं मिलेगा।

प्यार तो आज भी तुमसेउतना ही है,बस तुम्हे एहसास नही ओर हमनेजताना छोड़ दिया….

अपने दिल के अरमानों को,तुमसे जताना चाहते हैं,कितना पसंद करते हैं,तुमको यह तुम्हें बताना चाहते हैं।

सुबह शाम बस यही काम रह गया हाथों में तस्वीर ज़ुबान पे उसका नाम रह गया

दिल के रिश्ते किस्मत से मिलते है, वरना मुलाकात तो हज़ारों से होती है

बिना हुनर के भी वो चार ओलाद पाल लेती है, कैसे कह दूं कि माँ अनपढ़ है मेरी।

वो मेरे रु-बा-रु आया भी तो बरसात के मौसम में,मेरे आँसू बह रहे थे और वो बरसात समझ बैठा।

सख्त राहों में भी आसान सफर लगता है, यह मेरी मां की दुआओं का असर लगता है।

उम्मीदों का फटा पैरहन,रोज़-रोज़ सिलना पड़ता है।तुम से मिलने की कोशिश में,किस-किस से मिलना पड़ता है।

तुम अपने दिल को इतना ज्यादा बेकरार न करना,पसंद कर लो मुझे, पापा की पसंद का इंतजार न करना।

अर्ज़ किया है-कुछ भी अगर ज़िन्दगी में है पाना,तो अपने अन्दर विश्वास को जगाना।मंजिल की आपसे ना रहैगी दूरी,अगर मन में हो श्रद्धा-सबुरी।

चंद सवालों का मोहताज बन जाता है रिश्ता,काश विश्वास इतना हो की कुछ पूछने की जरूरत ही न पड़े।

रूह के रिश्तो की यह गहराइयां तो देखिए,चोट लगती है हमें और दर्द मां को होता है।

ज़िन्दगी की मोड़ पे ये कैसा वक़्त आयादिल का ज़ख़्म ज़ुबा पर आयाना रोते थे कभी काटों की चुभन सेआज न जाने क्यों फूलों की महक से रोना आया।

हाथों की लकीरों मैं तुम हो ना हो….. जिदंगी भर दिल में जरूर रहोगे….

आज खुद कोइतना तन्हा महसूस कियाजैसे लोग दफना कर चले गएहों …।

हम दोनों की बेवकूफी से रिश्ता ख़राब हो गया, अब दोनों एक दूसरे से दूर होके बेचैन रहने लगे हैं।

पैर से उसने छुआ जैसे ही दरिया को मछलियों से खुशबु उसके जैसी आने लगी

बस मेरी खुशियों में हिस्सेदारी कर देना तुम, सारे गमों की जिम्मेदारी में ले लूंगी

क्या पूछते हो शोख निगाहों का माजरा,दो तीर थे जो मेरे जिगर में उतर गये।

जिंदगी का खूबसूरत रिश्ता है विश्वास,जिसे मिल जाये वो तन्हाइयो में।भी खुश है और जिसे,न मिले वो भीड़ में भी अकेला है।

ए चांद आंखों के सामने ना आया कर,हर रात मुझे उसकी याद ना दिलाया कर

तुम रूठा ना करो मुझसे मुझे मनाना नहीं आता इश्क़ तो करता हूँ तुमसे पर जताना नहीं आता

घर में धन, दौलत, हीरे, जवाहरात सब आए, लेकिन जब घर में मां आई तब खुशियां आई।

उसकी डांट में भी प्यार नजर आता है,माँ की याद में दुआ नजर आती है।

सब्र रख ये मुसीबत के दिन भी गुज़र जायेंगे, जो आज मुझे देख कर हसते है, कल मुझे देखते ही रह जायेंगे!!

सच्ची मोहब्बत वादों से नहीं,परवाह से जाहिर होता हैं..Sacchi mohabbat wado se nahi,Parwah se jahir hota hain…

तेरे हर सवाल का जवाब सिर्फ यही है, हां मैं गलत हूँ और तू सही है !

कुछ यादें ऐसी होती हैं जिन्हेंयाद करके होंठ तो हंस देते हैंलेकिन आंखें रो देती हैं।

बेटा थोड़ा सब्र रख, हमारी एक ही झलक पूरा माहोल को बदल देगी!!

जो दूसरों के चहेरों पे मुस्कराहट देखना चाहता है। ऊपरवाला उनकी मुस्कराहट कभी नहीं छीनता !

ना बांधा कोई बंधन ना रस्मो का इक़रार किया तुम दिल को ऐसे भाये बस सीधा सच्चा प्यार किया…..

नखरे तो सिर्फ मम्मी पापा उठाते है, दुनिया वाले तो बस उंगली उठाते है!!

मुहब्बत तभी करो जब उसे निभा सको, मजबूरियों का सहारा लेकर किसी को छोड़ना वफादारी नहीं होती।

आँखों मे आँसू तभी आते हैजब आप सच्चे होआपको समझने वाला कोई ना हो ।

रखो भरोसा अपनी मेहनत पर, ना कि अपनी किस्मत पर, सपनों की तैयारी पूरी रखो, फिर सफलता का स्वाद चखो

हाथों की लकीरों पर ऐतबार कर लेना,विशवास वो दूरबीन है,,जिस से जीत नज़र आने लगती है।

अजब लुत्फ़ का मंज़र देखता रहता हूँ बारिश मेंबदन जलता है और मैं भीगता रहता हूँ बारिश में

मुझे दीवाना क्यों नहीं करते कोई इशारा क्यों नहीं करते तुम इश्क़ करके तो देखो तुम इश्क़ दोबारा क्यों नहीं करते

अपना बनाकर फिर कुछ दिनो मेबेगाना बना दियाभर गया दिल हमसे और मजबूरी काबहाना बना दिया ।

ये मत सोचना 🤔 कि तुम्हारे बिना मर ⚰️ जायेंगे हम,वो लोग भी जी ❤️ रहे हैं जिन्हें छोड़ा था मैंने तुम्हारी खातिर😥 … ।।

थोड़ा मैं , थोड़ी तुम, और थोड़ी सी ❤️ मोहब्बत ,बस इतना 😝 काफी है, जीने के लिये 💞 … ।।

“दिल नहीं भूल सकता तुम्हे धड़कनो की जरुरत हो तुम तुम्हीसे है मेरी दुनिया हँसी मेरी मोहब्बत,मेरी जिंदगी हो तुम !

टुटते हुवे तारे से भी तुझें मांगा हें ओर बता तुझसे कैसी मोहोबत करू…🙂🍁

किसी मोड़ पर उसका दीदार हो जाये,काश उसे भी मुझ पर एतवार हो जाये,उसकी पलके झुकें और इकरार हो जाये,काश उसे भी मुझ से प्यार हो जाये.

तुम क्या उसकी बराबरी करोगे वो तुफानो में भी रोटिया सेक देती है,और वो माँ है जनाब डरती नहीं है मुस्किलो को तो चूल्हे में झोक देती है

बात वफ़ा की होतीतो कभी ना हारतेबात नसीब की थीकुछ कर ना सके..!

कभी दूर तो कभी पास थे वो,न जाने किस किस के करीब थे वो,हमे तो उन पर खुद से भी ज्यादा भरोसा था,लेकिन ठीक ही कहता था ये जमाना, वेबफा थे वो.

मुझे ऐसा ही ज़िन्दगी का एक पल चाहिए,प्यार से भरी बारिश और संग तू चाहिए।

अभी मैं हूं तो तुम मेरी चाहत को नहीं समझोगे,जब मैं नहीं रहूंगा तब तुम मेरे प्यार को तरसोगे।

अपनी मोहब्बत से सजाना है तुझको,कितनी चाहत है तुझसे ये बताना है तुझको,राहों में तेरी बिछाकर मोहब्बत अपनी,इश्क के सफर पर ले जाना है तुझको.

करेगा ज़माना भी हमारी कदर एक दिन, बस ये वफादारी की आदत छूट जाने दो. 🍁🍁🍁

माँ की बूढी आंखों को अब कुछ दिखाई नहीं देता,लेकिन वर्षों बाद भी आंखों में लिखा हर एक अरमान पढ़ लिया।

मैंने तुझको टूटकर चाहा,जैसे खुद ही दुख का बीज बोया हो,ऐसा कोई शख्स नहीं दुनिया में,जो मोहब्बत करके नहीं रोया हो।

बरसात का बादल तो दीवाना है क्या जाने,किस राह से बचना है किस छत को भिगोना है।

बारिशों से अदब-ए-मोहब्बतसीखो फ़राज़,अगर ये रूठ भी जाएँ,तो बरसती बहुत हैं।

हम भी अब मोहब्बत के गीत गाने लगे हैं,जब से वो हमारे ख्वाबों में आने लगे हैं.

मोहब्बत करना है, फिर से करना है,बार बार करना, हजार बार करना है,लेकिन सिर्फ तुम से ही करना है.

हमें नही आती है साहब किसी और की बुराई क्योकि हमें तो दुनिया वालो ने, पहले से ही बदनाम किया हुआ है !

“खुदा हर नजर से बचाए आपको चाँद सितारों से ज्यादा सजाए आपको दुःख क्या होता है ये कभी पता न चले खुदा जिंदगी में इतना हँसाए आपको !

खुलते हैं मुझपे राज कई इस जहान के,उसकी हसीन आँखों में जब झाँकता हूँ मैं।

पहले बारिश होती थी तो याद आते थे,अब याद आते हो तो बारिश होती है

जमाने ने इतने सितम दिए की रूह पर भी जख्म लग गया,मां ने सर पर हाथ रख दिया तो मरहम लग गया।

कुछ लोग हमारा दिल रोज दुखाते हैं….. फिर भी हम उनसे बात करके खुश हो जाते हैं..!!

उनकी आंखों में मुझे,अपना संसार नजर आता है,क्योंकि उनको भी मेरी आंखों में,मेरा प्यार नजर आता है।

काश! तुम भी मुझसे मिलने के लिए तरस जाओ,आखों में देखकर मेरे दिल की बात समझ जाओ।

Recent Posts