1404+ Sad Shayari On Love Hurts In Hindi | Hurt Shayari

Sad Shayari On Love Hurts In Hindi , Hurt Shayari
Author: Quotes And Status Post Published at: July 26, 2023 Post Updated at: October 7, 2023

Sad Shayari On Love Hurts In Hindi : इस दर्द को भी कैसे न दिल से लगाएं? ये भी तो मेरे प्यार ने सौगात में दी है हर्फ़-हर्फ़ इस कदर था तल्खियों से भरा आखिरी ख़त तेरा दीमक से भी खाया ना गया

वो मुझे जो जान कहा करता है अब दूसरी लड़कियों के संग घूमते वक़्त मुझे अनजानों की तरह मिलता है।

चांद से भी हसीन आपका चेहरा लगता है, इसीलिए इस चेहरे पर मेरा ये दिल धड़कता है !

आंसुओं का कोई रंग नही होता, जब ये आते हैं तब कोई संग नही होता।

ना चाँद🌑 अपना था और ना तू अपना था😏काश दिल भी मान लेता की सब सपना था

दिल के दर्द को वो समझता नहीं, और मैं किसी गैर से कहता नहीं।

वैद को भी जख्म दिखाने से डरता हूँ मैं ऐसा लगता है कहीं वो भी मरहम के नाम पर ज़ख्मों पर नमक ना छिड़क दे।

गलतियां तेरी चलो माफ़ी है मगर ....... धोखा तेरा ना कबीले माफ़ी है।

माना की हम गलत थे जो तुझसे चाहत कर बैठे पर रोओगे तुम भी ऐसे वफ़ा की तलाश में

प्यार तो Sab करते है,कोई Dil से करता हैतो कोई Deemag से।

जब उसने हँसकर सुनाया वफाओं के किस्से, वो बताना भूल गया दर्द कितना आया उसके हिस्से

मत किया कर ऐ दिल किसी से इतनी मोहब्बत,जो लोग बात नही करते वो प्यार क्या करेंगे।

“भूल जाओ कि तुम्हें चोट लगी है लेकिन उस चोट से तुमने क्या सीखा उसे कभी नहीं भूलना।

वक्त और अपने जब दोनो एक साथ चोट पहुंचाए तो इंसान बाहर से ही नही अंदर से भी टूट जाता है।

तूने तोड़ दिया मेरा दिल तो मैं मर नहीं जाऊँगा, सिर्फ़ तेरी ख़ुशी के खातिर खुदा के सजदे में सर झुकाऊँगा।

यह सोच कर मैं रुका था कि आसमाँ है यहां ज़मीन भी पांव के नीचे, सो अब धुवाँ है यहां

अजीब मामला है मेरी शायरी का, जिसके लिए लिखता हू उसे खबर ही नही !

सीधे सीधे जहर दे दोलेकिन किसी को झूठी कसमझूठा प्यार और झूठा भरोसाऔर झूठी तसल्ली मत देना।

जाने अंजाने हम तुमसे एक तरफा, प्यार कर बैठे तुम्हें बिना बताए !

उस खुदा का हाथ है सर पे बेशक मेरे साथ है वो फिर खुदा से रूठे हो क्यों ऐसी तो कोई बात नहीं

ज़नाज़ा इसलिए भारी था उस गरीब का वो अपने सारे अरमान साथ लेकर गया था

रिश्ता नहीं रखना तो हम पर नजर क्यों रखते हो, जिन्दा है या मर गये तुम ये खबर क्यों रखते हो

हद से 😎बढ़ जाएं ताल्लुक💖 तो गम मिलते हैं !!हम इसी वास्ते 🍪हर शख्स से 🙋कम मिलते हैं !!

कोशिश बहुत की राज़-ए-मुहब्बत बयाँ न हो, मुमकिन कहाँ था की आग लगे और धुँआ न हो

सिमट गया मेरा प्यार भी चंद अल्फाजों में, जब उसने कहा मोहब्बत तो है पर तुमसे नहीं

प्यार को कोई पैसे से नहीं खरीद सकता हैपर इसके लिये बहुत ही भारी कीमत चुकानी पड़ती है

बहुत खास थे कभी नजरों में किसी के हम भी, मगर नजरों के तकाजे बदलने में देर कहाँ लगती.

हर रात खुला रखता हूँ दरवाजा अपने घर का, शायद कोई लुटेरा मेरे गम लूट जाए।

मैं अपनी गज़लों में उलझा रहता था वो नए हर्फ मेरे लिए लाया करती थी मैं गैरों की लिखता रहता था और वो मेरी तारीफ मुझे सुनाया करती थी

जिंदगी से वादा यूं भी निभाना पड़ गयाखुल के रोना चाहा था पर मुस्कुराना पड़ गया

बुरा वक्त बुरे लोगों से बेहतर होता है।

इस मोहोब्बत की अदालत में हमेशा बेगुनाह ही सजा का हक़दार होता है।

बाज़ी-ए-मुहब्बत मेंहमारी Badkismati तो देखो,चारों इक्के थे हाथ में,और EK बेग़म से हार गये।

की मेरी शामों में एक सवेरा है, मैं हकीकत से आ रहा हूँ पर अभी-भी ख्वाबों में वो मेरा है।

खामोशियां बेवजह नही होती..कुछ दर्द आवाज छीन लिया करते हैं।

दिन कुछ ऐसे गुजरता है कई, जैसे अहसान करता है कोई

जिक्र से नहीं #फिक्र से पता चलता है..!इस #दुनिया में कौन अपना है कौन पराया है..!

याद करोगे एक दिन मुझे यह सोच कर कीक्यों नही कदर की मैने उसके प्यार की…!

मत कर भरोसा यहां पर,क्योंकि ये धोखेबाजों की दुनिया है,यहां लोग अपने मतलब के लिए,झूठी कसम भी खा लेते हैं.!💔💯

मैंने कोरोना का रोना देखा है! और उम्मीदों का खोना देखा है!!

भगवान 🕗ने हमारे 🤘नसीब में !!प्यार🧏 कम और इंतजार ज्यादा 👁️लिखा है !!

कभी ऐसा ख़्वाब में भी नहीं देखा था की ऐसा दिन भी देखना पड़ेगा।Kabhi aisa khaab mein bhi nahin dekha Tha ke aisa din bhi dekhana padega.

अजीब है मेरा अकेलापनना खुश हूं ना उदासबस खामोश हूँ!

हर रोज़ करते है तुम्हारे लौट आने की तमन्ना,इसलिए दिन रात रहने लगे अब चौकन्ना !!

मानता ही नहीं कमबख्त दिल उसे चाहने से, मैं हाथ जोड़ता हूँ तो ये गले पड़ जाता है.

इस वक़्त ने मुझे ना जाने कैसे-कैसे दिन दिखाए हैमेरे अपनों में ही छिपे परायों के चेहरे दिखाए है

अपनी शोहबत में जिसे करते थे रोशन उसे जंगल के अंधेरे में अकेला छोड़ क्यों देते हैं…

बंद रखूँ मैं उम्र भर आँखें !!! तुम अगर जो मेरे ख्वाब बन जाओ

लिखना तो ये था कि #खुश हूँ तेरे बगैर भी,पर कलम से पहले #आँसू कागज़ पर गिर गया..!

तुम्हें लगता है कि मैं बदल गया? असल में तुमने कभी मुझे जाना ही नहीं।

ऐ दिल थोड़ी सी हिम्मत कर ना यार दोनों मिल कर उसे भूल जाते है।

कभी कभी किसी को जाने देने में इतना दर्द नहीं होता जितना उसके साथ रहने में होता है।

कुछ रिश्ते मुनाफा नहीं देतेपर अमीर जरूर बना देते हैं

अगर किसी से मोहब्बत बेहिसाब हो जाए, तो समझ जाना वो नसीब में नहीं है तुम्हारे

सूखे पत्तों की तरह बिखरे हैं हम तो किसी ने समेटा भी तो सिर्फ जलाने के लिए !!

बुला रहा है कौन #मुझको उस तरफ,मेरे लिए भी क्या कोई #उदास बेक़रार है..!

सुकून थी ज़िन्दगी मोहब्बत के बगैर क्यों मिली नज़रें हम अंधे अच्छे थे हर शौक छोड़ दिया मोहब्बत के आगे क्यों बने अच्छे हम बुरे अच्छे थे

जीवन सुख दुःख का एक घूमता चक्र है जो ना समझा ये, वो नादान है, वो नादान है

वफ़ा करके भी कुछ हासिल न हुआ,फिर भी दिल देता है उनको हज़ारो दुआ !!

घर के सारे साजो सामान जब अपने साथ ले जाते हैं ले जाते हैं घर की रोशनी, हवा, खुशियां सारी तो अपनी यादों को क्यों छोड़ जाते हैं

यह सोच कर मैं रुका था कि आसमाँ है यहांज़मीन भी पांव के नीचे, सो अब धुवाँ है यहां

Tukraya था हमनेभी बहुतो को तेरी खातिर,तुझसे फासला भी शायद,उन की Baddua का असर हैं।

कुछ पुराने घाव कभी भी ठीक नहीं होते हैं और थोड़ा सा Hurt होने पर फिर से भयंकर दर्द देते है

आईना आज फिर रिशवत लेता पकड़ा गया, दिल में दर्द था, और चेहरा हस्ता हुआ पकड़ा गया।

ये दिल बैठा सा जाता है जब याद हमें तुम आते हो जब हो गए तुम औरों के, हमको फिर क्यों तड़पाते हो

हाँ हो गयी गलती मुझसे में जानता हूँ पर फिर में तुझे अपनी जान मानता हूँ। - अज्ञात

चले जायेंगे तुझे तेरे हाल पर छोड़ कर कदर क्या होती है ये तुझे वक़्त सिखा देगा

मेरी 🌌कदर तुझे उस दिन 🧏समझ !!आएगी 🌵जिस दिन !!तेरे ✌️पास दिल तो होगा 🕗मगर !!दिल से💥 चाहने वाला कोई 🕗नही होगा !!

कभी वो कहीं मिले तो कहना उससे एक पागल है जो तेरे लिए शेर लिखते रहता है उसे फूलों में भी खुशबु तेरी ही आती है उसे पत्थर में भी तेरा ही अक्स दिखता है

आजकल खुदा से मांगता हूँ खुशियाँ उसके लिए विश्वास नहीं होता ये मैं हूँ ?प्यार से पहले जिसे, खुद वो क्या था पता नहीं था !

पिंजरे के जो आदी हो उन पंछी को आसमान में छोड़ देना ठीक नहीं अच्छी अच्छी बस्ती डूब जाती है दरियाओं से बैर करना ठीक नहीं

प्यार एक रबर बैंड की तरह होता है, जो 2 लोगों द्वारा खिंचा होता है । जब एक छोड़ता है इससे दूसरे को तकलीफ होती है।

मुझे लिखना है तुम्हें मेरी नई ग़ज़ल बनोगे क्या मुझे चलना है एक उम्र मेरे साथ तुम चलोगे क्या

Recent Posts