1673+ Rula Dene Wali Shayari In Hindi | रुला देने वाली शायरी

Rula Dene Wali Shayari In Hindi , रुला देने वाली शायरी
Author: Quotes And Status Post Published at: August 21, 2023 Post Updated at: November 13, 2023

Rula Dene Wali Shayari In Hindi : अब पूछते नहीं वो हाले दिल हमारा, लगता है जरूरते पूरी हो गयी है उनकी ! अब यूं ना रुलाया कर ए मेरी जिंदगी, मुझे तो चुप कराने वाला भी कोई नहीं है !

प्यार तो हमने एक तरफ़ा ही सच्चा देखा हे,दो तरफा प्यार में तो हमने अक्सर धोखा खाते लोगो को देखा है.

आंखों को सुकून मिलता हैजब तुम सामने होती होतुम्हारे दूर चले जाने सेआँखों में नमी रहती है।

बूँद बूँद में खतरा है इश्क़ के दरिया में संभल कर उतरना

अदाएं कातिल होती हैं,आँखें नशीली होती हैं,मोहब्बत में अक्सर होंठ सूखे होते हैं,और आँखे😰गीली होती हैं !

अजीब तरह से गुजर रही है ज़िन्दगीसोचा कुछ किया कुछ हुआ कुछऔर मिला कुछ !!

तुम्हे लगता था कि मैं जानता कुछ भी नहीं,मुझे पता था की रास्ता बदल रहे हो तुम !

बरबाद करना था तो किसी औरतरीके से करतेजिन्दगी बनकर जिन्दगी से जिन्दगीही छीन ली तुमने.!

उसकी आंखों में वफा देखी थीमहकती फूलों कि अदा देखी थीये ना सोचा था वो बेवफा होगाउसमें तो चाहत की इंतहा देखी थी !!

प्यार के उजाले में गम का अंधेरा आता क्यों है जिसको हम चाहे वही रुलाता क्यों है अगर वह मेरा नसीब नही तो खुदा ऐसे लोगों से मिलाता क्यों है

यह जो तुम हर किसी आँखों में डूब जाते होसच बताओ और कितनो को चाहते होऔर बात इश्क़ में इबादत की करते हो तुमखुद कितने बेईमान हो ये कैसे भूल जाते हो !!

देख कर तुम्हे कुछ इस तरह बेहक जाऊ में, तुम रुबरु आओ तो नज़रो में ठहर जाऊ में.

जिसे देख कर हमारी आँखों में आँसू जानते है, वहीं कुछ लोग तो ज़िन्दगी वीरान कर जाते है।

दुःख इस बात का नहीं कि तुम गए,दुःख तो इस बात का हे,की तुमने जाते जाते पीछे मुड़कर न देखा.

खौफ नहीं मरने का, मैं इश्क़ मौत से करता हूँ लाल हूँ मैं धरती माँ का, हिंदुस्तान को दिल में रखता हूँ ||

👀निगाहों से 👍भी 🤕चोट ✔️लगती है.. 😘जनाब.. ☝️जब 👉🤵कोई 👀देख ✔️कर भी 😏अन्देखा ✔️कर 😢देता 👍है..!!

“ हम सिमटते गये उनमें औरवो हमें भुलाते गए,हम मरते गये उनकी बेरूखी सेऔर वो हमें अजमाते गए….!!

अगर पसंद नहीं मेरा साथ तोह दूर हो जाओयूँ हर रोज़ बिजी होने का बहाना मत बनाओ।

हुनर मोहब्बत काहर किसी को कहाँ आता है,लोग हुस्न पर फ़िदा होकरउसे इश्क़ कह देते हैं.।

” ख़ुदखुसी ” हमेसा जिस्म ही नही करते।कुछ “खयाल” समय की “चौखट” पर यूँ ही झूल जाया करते है।

नसीब का प्यार औरगरीब की दोस्तीकभी धोखा नही देतीं ।

जिन्दगी कुछ ऐसी मोड़ पे आकर रुक सी चुकी है, की मजबूरी जीने की हो गई है और चाहत मारने की !

मैंने उसे बहुत मनाया मैंने उसका हर तकलीफ में साथ दिया मैं बहुत दुखी था फिर भी मैंने उसको हर वक्त सहारा दिया

“ अश्क़ से आजआँखों में क्यों हैं आये हुए,गुजर गया है ज़माना तुझे भुलाये हुए….!!

कितना संभलकर चलूंगा मैं कभी ना कभी तो गिरुंगा मैं सौप कर जिंदगी उस खुदा को फिर एक दिन मौत से मिलूंगा मैं

दर्द दो तरह के होते हैं;एक दर्द आपको दर्द देता हैं;और दूसरा दर्द,आपको बदल देता हैं.

वो खुश हैं मुझे दर्द में देखकर इसलिए मैं मरहम से दूरी बना रहा हूँ

“हकीकत कुछ और ही होती है, हर गुमसुम इंसान पागल नही होता।”

तुमसे दूर जाना पड़ा मुझेतुमने मोहब्बत के शिवा सब कुछ दिया।

गुजरा वक्त दिल की बात सुनाएगाकभी साथ थे हर पल याद आयेगागौर से पलटना ज़िन्दगी के पन्नों कोकभी न कभी तो हमारा नाम भी नज़र आएगा।

उसकी दर्द भरी आँखों ने जिस जगह कहाथा, अलविदा आज भी वही खड़ा है दिलउसके आने के इंतजार में ।

सब कुछ पा लिया चमसे इश्क़ करके।बस कुछ रह गया तो वो तुम ही थे।

कुछ लोग दिल पर इस तरह असर कर जाते हैं,टूटे हुए शीशों मे भी साबुत नज़र आते हैंमिलते तो हैं घड़ी भर के लिए,मगर दिल में उतर जाते हैं।

वो पत्थर कहाँ मिलता है बताना जरा ए दोस्तजिसे लोग दिल पर रखकर एक दूसरे को भूल जाते हैं।

ये जो तुम लफ़्ज़ों से बार बारचोट देते हो नादर्द वही होता है जहांतुम रहते है ।

मुझे पता था कि,आज नहीं तो कल तुम मेरासाथ छोड़ ही दोगे,लेकिन इतनी जल्दी छोड़ दोगे,ये नहीं पता था ।

ऐसा नहीं कि आप याद आते नहींखता सिर्फ इतनी है कि हम बताते नहींरिश्ता आपका अनमोल है हमारे लियेसमझते हो आप इसलिये हम जताते नहीं !!

तेरे प्यार की निशानी तेरा गम ही तो है मेरे पास वो भी बतादूँ तो रहेगा क्या मेरे पास

इक बेवफा को दिल में पनाह देकर मैं अपने ही क़तल का गुनहगार हो गया

सूख गई जो डाली उसपर फूल नहीं खिलते, इस दुनिया की रीत यही है जिसे चाहो वहीं नहीं मिलते.

“ मुझे छोड़कर वो खुश हैतो शिकायत कैसी,अब मैं उन्हें खुश भीन देखूँ तो मोहब्बत कैसी….!!

माना कि तुझको मै हासिल ना कर सका,मोहब्बत थी तुझसे बयां ना कर सका,लेकिन किसी को पा लेना ही मोहब्बत नहीं होता,चाहे मै तेरे काबिल ना बन सका.

अच्छा तो कुछ भी नहीं,पर जो भी हैं सही हैं..Accha to kuch bhi nahi,Par jo bhi hain sahi hain..

करा लूँ में अपने हर दर्द का इलाज, जो डॉक्टर तुम मेरी हो जाओ तो।

एक दिन वो बात भी होगी मोहब्बत वाली बरसात भी होगी प्यार में तुझे भी प्यार मिलेगा उससे वो वाली मुलाकात भी होगी

झगडा तभी होता हैं जबदर्द होता है,और दर्द तब होता हैंजब प्यार होता है

बाज़ आजाओ मोहब्बत सेमोहब्बत करने वालोंहमने इसमे एक उम्र गुज़ारीमिला कुछ भी नहीं ।

“तुम अपने ज़ुल्म की इन्तेहा करदो, क्या पता फिर कोई हमसे बेज़ुबाँ मिले न मिले।”

दिल के दरिया मे धड़कन की कश्ती है ख्वाबो की दुनिया मे यादो की बस्ती हैमोहब्बत के बाज़ार मे चाहत का सौदा वफ़ा की कीमत से तो बेवफ़ाई सस्ती है

टूटे हुए सपने से खुली, आज सुबह फिर आँख, सपना आज फिर चुभेगा दिन-भर….!! 💞 💞

जिंदगी में अब मेरे पास उसके सिवा रहा क्या है जिंदगी में अब मेरे पास कुछ नहीं रहा है मेरे पास एक दर्द रहा है उसके सिवा मेरे पास क्या रहा है

गर जो मेरे मरने से, तेरे सारे मसले हल हो जाए, ऐसी जिंदगी से तो बेहतर हैं, हम तेरी ख़ुशी के लिए मर जाए |

“ काश वो समझते इस दिल की तड़प को,तो हमें यूँ रुसवा न किया जाता,यह बेरुखी भी उनकी मंज़ूर थी हमें,बस एक बार हमें समझ तो लिया होता…!!

विदा तो होना ही था आपको आज हो या कलपर जुदा कभी मत होना ये वादा करो अब।

मरने वाले को रोने वाले हजार मिल जाएंगे, मगर जो जिन्दा हैं उसे समझने वाला एक भी नहीं मिलता |

बड़े ही अजीब हैं ये जिंदगी के रास्ते,अंजान मोड़ पर कुछ लोग अपने बन जाते हैं,मिलने की खुशी दें या न दें,मगर बिछड़ने का गम ज़रूर दे जाते हैं ।

मैं कैसे बताऊं उसको और कैसे अपने प्यार पर यकीन दिलाऊं उसके लिए अब इससे ज्यादा और कुछ कर नहीं सकता मैंने सब कुछ किया उसके लिए हम भी मर नहीं सकता

कुछ लोग आपकी कदर इसलिए नहीं करते क्योंकिआप उन्हें एहसास दिला चुके होते है कि आप उनके बैगर नहीं रह सकते

“बनना है तो किसी के दर्द की दवा बनो, जख्म तो हर इंसान देता है।”

क्रोध भी क्या करू तुमसे,आज भी हस्ते हुए अच्छी लगती हो…Krodh bhi kya karoon tumse,Aaj bhi hastein hue acchi lagti ho…

“मोहब्बत भी हाथों में लगी मेहँदी की तरह होती है- कितनी भी गहरी क्यों ना हो फीकी पड़ ही जाती है।”

खुसी मिलती उसके आने पर बेसुमार।पर जब वो जाती है तो दिखता भी है खुमार।

मोहब्बत में लाखों ज़ख्म खाये हमने,अफसोश उन्हें हम पर ऐतबार नहीं,मत पूछों क्या गुजरती है दिल पर,जब वो कहते है हमें तुमसे प्यार नहीं है.

खुद को इतना मज़बूत कर लिए है हमने वो क्या उसकी याद भी आना मुश्किल है

गहरी थी रात लेकिन हम खोए नही,दर्द बहुत था दिल में मगर हम रोए नही।कोई नही हमारा जो पूछे हमसे,जाग रहे हो किसी के लिए या किसी के लिए सोए नही।

अब टूट गया दिल तो बवाल क्या करें,खुद ही किया था पसंद अब सवाल क्या करें।

इतने ज़ख़्म खाए हुए है अब इश्क़ भी होता नही दर लगता है इस ज़माने में कहीं सब बेवफा तो नही

कभी कभी दूर होना पड़ता हैमोहब्बत की गहराईयो को मापने के लिए।

बहुत चाहा उसको जिसे हम पा न सके,ख्यालों में किसी और को ला न सके,उसको देख के आंसू तो पोंछ लिए,लेकिन किसी और को देख के मुस्कुरा न सके…

याद है अब तक तुझ से बिछड़ने की वो अँधेरी शाम मुझेतू ख़ामोश खड़ा था लेकिन बातें करता था काजल।

मिट जाए तो फिर मिटने दे सब ज़ख्म मेरे दिखने दे मैं एक टूटा शायर हूँ मुझे गम मेरे लिखने दे

शीशा के सामने हस्ता हुवा पकड़ा गया, दिल में दर्द था और हंसता चेहरा पकड़ा गया।

कभी सिसकने का, कभी आह भरने का समय ही नही है,,,,,,,, जीने का न सही, कह ना पाओ गे इक दिन, आज मरने का समय ही नही है,,,,,,,

Recent Posts