1743+ Painful Shayari In Hindi | Dard Shayari In Hindi

Painful Shayari In Hindi , Dard Shayari In Hindi
Author: Quotes And Status Post Published at: September 15, 2023 Post Updated at: April 25, 2024

Painful Shayari In Hindi : प्यार मैं कहना जरुरी नहीं होता, प्यार मैं तो समझा जाता है💔 लबो पर जब किसी के दर्द का अफ़साना आता है, हमें रह-रह कर अपना दिल-ए-दीवाना आता है💔

तेरी खामोशी भी कभी कभी..आँखें नम कर देती है..!

प्यार सभी को जीना सिखा देता है,वफ़ा के नाम पे मरना सिखा देता है,प्यार नहीं किया तो करके देख लो यार,ज़ालिम हर दर्द सहना सिखा देता है।

प्यार मुहब्बत का सिला कुछ नहींएक दर्द के सिवा मिला कुछ नहींसारे अरमान जल कर ख़ाक हो गएलोग फिर भी कहते हैं जला कुछ भी नहीं

ज़रा सी ज़िंदगी है, अरमान बहुत हैं, हमदर्द नहीं कोई, इंसान बहुत हैं, दिल के दर्द सुनाएं तो किसको,

ए बारिश जरा खुलकर बरस जा,यह क्या तमाशा है,इतनी रिमझिम तो मेरी आंखों से रोज होती है।

आंखों में आंसू मोहब्बत की निशानी हैसमझो तो मोती ना समझो तो पानी है।

तेरे शलूक से कोई सिकायत नही कसम सेमेरे अन्दर ही शायद कोई कमी होगी

दिल आज तक तकलीफ में है,और तकलीफ देने वाला दिल में.

जिस नजरों से नजर अंदाज करते होउन्हीं नजरों से ढूंढते रह जाओगे।

मरना लिखा होगा तो मर जायेंगे वैसे भी मर मर के जी रहे है💔

नफ़रत करना तो हमने कभी सीखा ही नहींमैंने तो दर्द को भी चाहा है अपना समझ कर

बजंर नहीं हूँ मैं,मुझमें बहुत, सी नमीं हैदर्द बंया नहीं करता हूँबस इतनी सी कमी है.

कुछ जख़्म सदियों के बाद भीताज़ा रहते है,फ़राज़ वक़्त के पास भीहर मर्ज़ की दवा नहीं होती।।

पूछा किसी ने की याद आती है उसकी मैं मुस्कुराया और बोला तभी तो जिन्दा हूँ💔

दिल टूटा है तेरे इंतज़ार में, बेवफ़ाई की सज़ा भुगत रहे हैं हम। 😔💔

रोज़ पिलाता हूँ एक ज़हर का प्याला उसे,एक दर्द जो दिल में है मरता ही नहीं है।

हसता हुआ चेहरा सिर्फ दिखावा है आँखों की बेबसी देखी है साँसों का सिलसिला थकने लगा हैं दिल वी वीरानगी किसने देखी है

मैं एक दर्द हूँ दोस्तों, और दर्द किसी को नहीं चाहिए💔

टूटता हुआ तारा सबकी दुआ पूरी करता है,क्योंकि उसे टूटने का दर्द मालूम होता है.

कौन समझ पाया है आज तक हमें, हम अपने हादसों के इकलौते गवाह है💔

दर्द को आधार से जोड़ दो साहब,जिन्हें मिल गया उन्हें दुबारा ना मिले।

दिल में है जो दर्द वो दर्द किसे बताएं, हंसते हुए ये ज़ख्म किसे दिखाएँ, कहती है ये दुनिया हमे खुश नसीब, मगर इस नसीब की दास्ताँ किसे बताएं!

मंजिलों से बेगाना आज भी सफ़र मेरा, है रात बेसहर मेरी दर्द बेअसर मेरा।

बेनाम आरजू की वजह ना पूछिए,कोई अजनबी था रूह का दर्द बन गया

“ बिन मागें जो मिल जाए वो है धोखा,और फरेब और जो मांगकरभी न मिले वो है सच्चा इश्क…!!

मंजिलों से बेगाना आज भी सफ़र मेराहै रात बेसहर मेरी दर्द बेअसर मेरा

जब जब मैने दर्द लिखा शब्दो ने मेरे हाथ पकड़ लिए💔

यूँ तो हर एक दिल में दर्द नया होता हैबस बयान करने का अंदाज़ जुदा होता हैकुछ लोग आँखों से दर्द को बहा लेते हैंऔर किसी की हँसी में भी दर्द छुपा होता है

ना जाने क्या मासूमियत है तेरे चेहरे में,सामने से ज्यादा तुझे तो चोरी चुपके देखना अच्छा लगता है हमें।

दर्द ही सही मेरे इश्क का इनाम तो आया।खाली ही सही होठों तक जाम तो आया।मैं हूँ बेवफा सबको बताया उसने,यूँ ही सही चलो,उसके लबों पर मेरा नाम तो आया।

मैं बे-दर्द हूॅं, फरेबी हूॅं….जिद्दी हूँ और, पत्थर दिल भी हूं,क्योंकि मासूमियत खो दी है मैंने,वफा करते करते दोस्त।

खुद ही रोए और खुद ही चुप हो गए, ये सोचकर की कोई अपना होता तो रोने ना देता.

प्यार उससे करो जो दिल से अच्छा हो,उससे नहीं जो केवल दिखने में अच्छे हो…Pyaar usse karo jo dil se accha ho,Usse nahi jo keval dikhne mein acche ho…

खो जाओ मुझ में तो मालूम हो कि दर्द क्या है? ये वो किस्सा है जो जुबान से बयाँ नही होता💔

तलाश मेरी थी और भटक रहा था वो, दिल मेरा था और धड़क रहा था वो, प्यार का तालुक भी अजीब होता है, आंसू मेरे थे सिसक रहा था वो

खामोशियाँ कर देतीं बयान तो अलग बात है, कुछ दर्द हैं जो लफ़्ज़ों में उतारे नहीं जाते।

कोई ऐसा चाहिए जो हाथ थाम करकहे वक़्त ही तोह है आज बुरा है तोकल बेहतरीन होगा।

सब सो गए अपना दर्द अपनों को सुना के,कोई होता मेरा तो मुझे भी नींद आ जाती

कौन तेरे झूठ को भी सच मानेगा कौन तेरी बातों में खो जायेगा कौन तुझे यूँ चाहेगा बोल कौन तेरा बस यूँ हो जायेगा

फर्क नहीं पड़ता की कोन आपको पाने केलिए तड़पता है मायने तो ये रखता है कीआपको कौन खोने से डरता है।

तारे और इंसान में कोई फर्क नहीं होता, दोनो ही किसी की ख़ुशी के लिऐ खुद को तोड़ लेते हैं।

कुछ पूरे हुए खाब कुछ अधूरे हुए हैं हम उनसे बिछड़कर भी जुड़े हुए हैं मोहब्बत की हमें भी सज़ा मिली है हम वफ़ा करके भी बुरे हुए हैं

दर्द के साथ जीना सीख लिया,बहते आंसुओं को पीना सीख लिया।तेरे इश्क़ ने बहुत कुछ सिखा दिया,ज़िन्दगी की असलियत को दिखा दिया।

कुछ रिश्ते आजकलउस रास्ते पर जा रहे हैं,न साथ छोड़ रहे हैं,और न ही साथ निभा पा रहे हैं…

शायरी में कहाँ सिमटता है दर्द-ए-दिल दोस्तो,बहला रहे हैं खुद को जरा कागजों के साथ।

ज़र्रा ज़र्रा बिखर गया तेरी याद में, कतरा कतरा ही सही दर्द में मोहलत दे दे।

एक नया दर्द मेरे दिल में जगा कर चला गया, कल फिर वो मेरे शहर में आकर चला गया, जिसे ढूंढते रहे हम लोगों की भीड़ में, मुझसे वो अपने आप को छुपा कर चला गया।

जिस तरह मैंने तुझें चाहा,कोई और चाहे तो भूल जाना मुझें…Jis tarah maine tujhe chaha,Koi aur chahe toh bhool jana mujhe…

कुंवारे लड़कों का तो ठीक हैलेकिन ये दो-दो बच्चों के बाप भीदर्द भरी शायरी डाल देते हैये बात मेरी समझ में नहीं आती.

पराये धोखा दें तोइतना दर्द नहीं होता,अपने जब दें तोबर्दाश्त नहीं होता।

ख़ुद को बेवफ़ा कहने की है हिम्मत नहीं, पर दिल जानता है कि तू वफ़ादार नहीं। 😔🙏

दर बदर हर तरफ भटके हम सुकून के लिए सुकून तो ना मिला पर दर्द मिल गया।Dar badar har taraf bhatake ham sukoon ke Lie sukoon to na mila par dard mil gaya.

“ दिल की करनी पड़ती है,साहबवरना दिल कुछ करने नहीं देता…!!

आज तेरी याद सीने से लगाकर हम रोये, तन्हाई में तुझे पास बुलाकर हम रोये… कई बार पुकारा इस दिल ने तुम्हे, हर बार तुम्हे ना पाकर हम रोये।

ना कर तू इतनी कोशिशे,मेरे दर्द को समझने की,पहले इश्क़ कर,फिर ज़ख्म खा,फिर लिख दवा मेरे दर्द की

बहुत तकलीफ देते हैं वो जख्म जोबिना कसूर के मिले हों

सांसों के सिलसिले को ना दो जिंदगी का नाम,जीते हुए भी मर जाया करते हैं कुछ लोग।

दर्द देती है मुझे हमदर्दी हर किसी की,मेरी दुनिया उजाड़ी थी,एक इंसान ने यूं ही दिल देकर।

तड़प के देख किसी की चाहत में, तो पता चले के इंतज़ार क्या होता है, यु मिल जाए अगर कोई बिना तड़प के, तो कैसे पता चले के प्यार क्या होता है

“ सुना था कभी किसी सेये मोहब्बत की दुनिया है,हमने भी दिल लगा के देखा तो ये जाना,मतलब की दुनिया है…!!!

मत करो मुझसे मोहब्बत इस क़दर दिल तोड़ने पर मैं मजबूर हूँ तुम अपने ही किये पर फिर पछताओगे वफादारी से मैं कोसों दूर हूँ

खुद ही रोए और खुद ही चुप हो गए,ये सोचकर की कोई अपना होता तो रोने ना देता.

मुद्दतों बाद उसे खुश देखकरये एहसास हुआकाश के उसे हमने बहुत पहले हीछोड़ दिया होता

मिल जाएंगे तुमको और भी चाहने वाले दुनिया मेंमगर कर न पाएगा कोई मुकाबला मोहब्बत का मेरी

बहुत अजीब हैं ये बंदिशें मोहब्बत की,कोई किसी को टूट कर चाहता है,और कोई किसी को चाह कर टूट जाता है।

बहुत ही सही कहा है किसी ने,अपने कभी नहीं रुलाते।बल्कि रुलाते वो हैं,जिन्हें हम अपना समझने की,भूल कर देते हैं।

खामोशियाँ कर देतीं बयान तो अलग बात हैकुछ दर्द हैं जो लफ़्ज़ों में उतारे नहीं जाते

“ खुशी देने वाले भले हीहमेशा अपने नहीं होते,लेकिन दर्द देने वाले हमेशाअपने होते है…!!

“ मुझे देख कर जबउसने मुँह मोड़ लिया,एक तसल्ली हो गयीचलो पहचानते तो हैं..!!

फिर से एक उम्मीद पाल बैठी हूँ, फिर से तेरे पते पर चिट्टी डाल बैठी हूँ।

खाली मैं अंदर से टूटा हुआ क़िस्मत से और खुद से रूठ हुआ रूहानी ज़ख्म हैं दिखते नहीं मैं यादों से ज़ख्मों को सीता हुआ

कुछ और नहीं बस जीने का हुनर दे दे, तेरे बगैर अब हमसे जिया नहीं जाएगा💔

Recent Posts