1297+ Narazgi Shayari In Hindi | नाराजगी शायरी हिंदी में

Narazgi Shayari In Hindi , नाराजगी शायरी हिंदी में
Author: Quotes And Status Post Published at: September 19, 2023 Post Updated at: November 6, 2023

Narazgi Shayari In Hindi : गलती तो सबसे होती है, हाँ मुझसे भी हो गयीअब माफ़ भी कर दे मुझे, क्यों दूर इतना हो गईएक गलती के लिए क्यों ऐसे साथ छोड़ गयी आज कुछ लिख नही पा रहा,शायद कलम कोमुझसे नाराजगी हैं कोई।

क्यों किसी से इतना प्यार हो जाता है, एक पल का इंतज़ार भी दुश्वार हो जाता है, लगने लगते है अपने भी पराये, और एक अजनबी पर ऐतबार हो जाता है.,

कोई खास फर्क नहीं पड़ता अब ख़्वाहिशें अधूरी रहने परबहुत करीब से कुछ सपनों को टूटते हुये देखा है मैंने

मोहब्बत की ये भी एक शर्त है साहेब, सबकुछ पा कर सबकुछ खोना पड़ता है.

किस बात पे खफा हो, नाराज लग रहे हो,लगते हो जैसे हरदम, ना आज लग रहे हो।

“कितना क्यूट होता है न वो रिलेशनशिप, जो रोज लड़ते भी हैं और एक- दूसरे के बिना रह भी नहीं पाते।”

थोड़ा “स्ट्रिक्ट” हैथोड़ा “मस्तीखोर” हैथोड़ा “नाराज़” होने वाला हैथोड़ा “गुस्सा” करता हैपर “जैसा” भी है सिर्फ “मेरा” है..

देखो नाराज़गी मुझसे ऐसे भी जताती है वो,छुपाती भी कुछ नही जताती भी कुछ नही..!!

खुश रहो तुम हमसे दूर रह के जनता हु एक दिन आओगे मिलने हमसे

हम रूठे भी तो किसके बहाने रूठे, कौन है जो आएगा हमें मनाने, हो सकता है तरस आ भी जाए आपको, पर दिल कहाँ से लाये आपसे रूठ जाने के लिए.,

मुझे पढ़कर भी तुम जो जवाब नहीं देते हो नायाद करोगे जब हम तेरे लिए लिखना छोड़ देंगे

सुनो तुम बादाम खाया करो, नरागज़ी में तुम मेरा प्यार भूल जाते हो.

नाराजगी का ये दर्द अब सहा नहीं जाता बिन तेरे अब एक पल भी अब रहा नहीं जाता।

मुझे नफरत है, जब GoodBye कहना ही आखरी रास्ता है तुम्हें खुश रखने का

कोशिश न❌ कर सभी को 😅खुश रखने की😜कुछ🤔 लोगों की🤫 नाराज़गी भी जरूरी है💯💯चर्चा में😇 बने रहने के लिए💯💯

नाराज़ हो तो मत करो हम से बात तेरी ख़ामोशी अब हम से जुदाई माँगति है

अब गिला क्या करना उनकी बेरुखी का !!दिल ही तो था भर गया होगा !!

देखा है जिंदगी मनाने को कुछइतने करीब से लगने लगे हैतमाम चेहरे अजीब से!

धड़कन बनके वो दिल में समा गए हैं,याद बनके हर पल यादों में आ गए,आंसू निकल गए जब उनकी याद आ गई,यादों के बनके बादल ख्वाबो में आ गए।

“लोग अपने लिए सही इंसान तो ढूंढते हैं लेकिन खुद कभी वो सही इंसान नहीं बनना चाहते।” ― Relationship Quotes

रिश्तों से बड़ी चाहत क्या होगी, दोस्ती से बड़ी इबादत क्या होगी, जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा, उसे ज़िंदगी से कोई और शिकायत क्या होगी.,

नसीबों 😇का मारा मैं🤟 और तेरी मोहब्बत❤️ से हारा मैं, तू दिल 💖में बस गयी है👍 ऐसे, तुझसे नाराज़गी😓 में भी रोया मैं 😭😭

मुस्कुराने से भी होता है ग़में-दिल बयांमुझे रोने की आदत हो ये ज़रूरी तो नहीं

नाराजगी वहाँ मत रखिएगा मेरे दोस्त,जहाँ आपको ही बताना पड़े आप नाराज है..!!

जख्मो को उनके अब अपना बना बैठे कसूर बस इतना था बस की उनसे दिल लगा बैठे।

लोग अक्सर एक ही भूल कर जाते है,नाराजगी जिससे हो उसे छोड़ जमाने को बताते है..!!

खफा होने से पहले कोई वजह तो बताते जाते, वजह नहीं तो ना सही झूठा कोई इल्जाम ही लगा जाते

मत पूछो कैसे गुजरता है हर पल तुम्हारे बिनाकभी बात करने की हसरत कभी देखने की तमन्ना

तू क्यों दूर है इतना मुझसे, तुझे चाहता हूँ मैं पूरे दिल से सुन ले मेरी आरज़ू तू ही मेरी जान है, तू ही सारा जहाँ है

जब से तुमने रुठे को मनाना छोड़ा दिया,तब से हमने खुदा से भी नाराज होना छोड़ दिया।

सितम हमारे सारे छांट लिया करो,नाराज़ होने से अच्छा हमे डांट लिया करो..!!

कहीं नाराज न हो जाए उपरवाला मुझसेहर सुबह उठते ही सबसे पहले तूझेजो याद करता हूँ

“सभी रिश्तों का एक नियम है जिस व्यक्ति से आप प्यार करते हैं, उसे कभी भी अकेला महसूस न करने दें, खासकर जब आप वहाँ हों।”  ― Relationship Quotes

हम रूठे भी तो किसके बहाने रूठेकौन है जो आएगा हमें मनानेहो सकता है तरस आ भी जाए आपकोपर दिल कहाँ से लाये आपसे रूठ जाने के लिए

नाराज़गी भी है लेकिन किसको दिखाऊंप्यार भी है लेकिन किससे जताऊँवो रिश्ता ही क्या जिसमे भरोसा ही नहीं,अब उन पर हक़ ही नहीं कैसे बताऊं।

सुन जाना एक तेरे चक्कर में,अब तो खुदा भी हमसे नाराज हो गया..!!

यूँ तो हम रोज तुम्हे याद करते है,दौर नाराजगी का ख़त्म हो फिर बात करते है।

“तेरा मेरा रिश्ता जज़्बात से जुड़ा है, ये वो संगम है जो बिन मुलाकात से जुड़ा है।”

झगड़ा तब होता है जब शिकायत होती है,और शिकायतें उनसे होती है जिनसे प्यार होता है..!!

नाराज़गी हो तो जता लेना, लेकिन नफ़रत न करना, चाहत किसी और हो जाएं तो बता देना, बस बेवफाई न करना।

कुछ सवाल नहीं पूछते कुछ जवाब नहीं देते, कम से कम नाराज़ हो हमसे इतना तो बता दो।

वो दिल न रहा जो नाज़ उठाऊँ मैं भी हूँ ख़फ़ा जो वो ख़फ़ा है

“नाराजगी से बचने का सबसे अच्छा तरीका है सच्चाई से सीधा सामना करना।”

“हर रिश्ते में अमृत बरसेगा शर्त इतनी है कि शरारते करों पर साजिशे नहीं।”

खामोशियां ही बेहतर हैं,शब्दों से लोग नाराज़ बहुत हुआ करते हैं।

“कुछ रिश्ते बस online होते हैं, जो नेट बंद होते ही टूट जाते हैं।”

बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने सेहो सके तो लौट के आजा किसी बहाने सेतू लाख खफा हो पर एक बार तो देख लेकोई बिखर गया है तेरे रूठ जाने से

जैसे मैं तुम्हारी हर नाराजगी समझता हूं,काश वैसे ही तुम मेरी सिर्फ एक मजबूरी समझते।

लडाई कितनी भी हो हमफिर भी तुमको मना सकतेहै सोचा तुमसे बात करनेकी फिर याद आता है तुमनेकहा था आप जा सकते है !

उसकी हर गलती भूलजाता हूँ जब वो मासूमियतसे पूछती है नाराज है क्या !

हमसे कोई कहता हो जाये तो माफ़ करना हम याद ना कर पाए तोमफ करना दिल से तो हम आपको कभी भूलते नहीं पर ये दिल ही रुक जाये तो माफ़ करना!!!

मिले हो तुम मुझको बड़े नसीबों से,चंचल हो, शरारती हो,पर बहन हर पल तुम मेरे दिल में रहती हो।

तू क्यों दूर है इतना मुझसे तुझे चाहता हूँ मैं,पूरे दिल से सुन ले मेरी आरज़ू,तू ही मेरी जान है तू ही सारा जहाँ है..!!

मोहब्बत की ये भी एक शर्त है साहेब,सबकुछ पा कर सबकुछ खोना पड़ता है !!

अच्छे पानी को ख़राब कर देती है, एक ग़लतफ़हमी सब ख़राब कर देती है.

नाकाम थी मेरी सब कोशिशें उस को मनाने की, पता नही कहा से सीखी जालिम ने अदाये रूठ जाने की..!

कितना करीब थी तू मेरे जैसे सांसो में समायी हो,एक दम से कैसे कह दिया कि तुम मुझे भूल जाओउस पल ऐसे लगा जैसे मेरी मौत आयी हो

“रिश्ते ऐसे बनाओ कि जिसमें शब्द कम और समझ ज्यादा हो, झगड़े कम और नजरिया ज्यादा हो।”

देखो नाराज़गी मुझसे ऐसे भी जताती हैं वो, छुपाती भी कुछ नही जताती भी कुछ नही।

इतना गुस्सा किसलिए, किस बात की गुरूर है,आपकी सेवा मे तो आपका ये हाजिर हुजूर है।

सुनों ना! कभी कभी मेरा मन भी नाराज होने का करता हैं, पर ये सोच के खुश हो जाते हैं मनाएगा कौन।

मुझसे नाराज हो क्या जो नज़रे हमसे चुराते हो वो कौन सी ऐसी बात हैं जो होंठो मे अपनी छुपाते हैं!!!

हमसे नाराज़ हो तो कुछ तो बताओ कही सालो की मोहब्बत कुछ पल में न बिखर जाए

“रिश्ते एहसास के होते हैं, अगर एहसास हो तो, अजनबी भी अपने होते हैं और अगर एहसास नहीं तो, अपने भी अजनबी होते हैं।”

हमारे बीच दूरियां बढ़ी है इसका मतलब ये थोड़ी,कि मैं उससे इश्क़ करना छोड़ दूँ..!!

हमारे बीच चाहे कितना भी झगड़ा हो यूं हमसे दूर रहा नही जाता, उसकी नाराजगी का गम देख हमसे सहा नही जाता।

लडाई कितनी भी हो हमफिर भी तुमको मना सकतेहै सोचा तुमसे बात करनेकी फिर याद आता है तुमनेकहा था आप जा सकते है!

नाराजगी अजीब होती है मोहब्बत की राहों में भी,रास्ता कोई बदलता है मंजिल किसी और की खो जाती है..!!

खुद 👍के बनाए🤗 रिश्तों मै😅उलझता😜 जा रहा हूं👍एक 🤔तुझे पाने🤟 की ज़िद मै😁खुद को😔 खोता जा🙄 रहा हूं😦😦😦

बेशक किसी की गलती पर उससे नाराज रहो,मगर इतना भी नाराज़ मत हो जाओ,कि वो इंसान को खुद से ही नफरत हो जाए..!!

ये मत सोचो रूठोगी तो मै मना लूँगा,अरे आज तक तो मैंने अपने खुदा को नहीं मनाया ।

ऐ ग़म-ए-ज़िंदगी न हो नाराज़, मुझको आदत है मुस्कुराने की..

नाराज नहीं हूँ तेरे फरेब से गम ये हैं की तेरा यकीन अब कैसे करू!!!

Recent Posts