1297+ Narazgi Shayari In Hindi | नाराजगी शायरी हिंदी में

Narazgi Shayari In Hindi , नाराजगी शायरी हिंदी में
Author: Quotes And Status Post Published at: September 19, 2023 Post Updated at: November 6, 2023

Narazgi Shayari In Hindi : गलती तो सबसे होती है, हाँ मुझसे भी हो गयीअब माफ़ भी कर दे मुझे, क्यों दूर इतना हो गईएक गलती के लिए क्यों ऐसे साथ छोड़ गयी आज कुछ लिख नही पा रहा,शायद कलम कोमुझसे नाराजगी हैं कोई।

ऐसी नाराजगी हमसे की हम मना ना सके,बस गयी मेरे दिल मे वैसी वो, की हम भुला ना सके,बस दर्द है, तो इस बात की,कितनी मोहब्बत थी इस दिल मे, हम बता ना सके।

रूठ कर मुझे यूँ रुलाओं ना नाराज होकर मुझे यूँ सताओं ना जाना ही हैं तो एक बार में कहदो यूँ हर पल इस जिंदगी को जलाओं ना!!!

“रिश्ते अगर निभाने हो तो पचास ग्राम की जीभ को साठ किलो के शरीर पर हावी ना होने दे।”

आज मौसम भी कमबख्त खुशमिज़ाज है,क्या करे अब हमारा यारा थोड़ा नाराज है।

चाहे कितना भी हो झगड़ा, हमारे बीच प्यार है तगड़ा।

नखरे तेरे, नाराजगी तेरी देख लेना,एक दिन जान ले लेगी मेरी..!!

दो बातें ज़्यादा करोगे तुम मुझसे, कभी कभी मैं इसीलिए भी रूठ जाता हूँ।

एक नाराज़गी सी है जहन में जरुर, पर मैं खफ़ा किसी से नहीं।

क्यों नाराज़ होते हो मेरी इन नादान हरकतों से,कुछ दिन की ज़िन्दगी है,फिर चले जाएंगे तुम्हारे इस जहाँ से

“हर रिश्ते में विश्वास रहने दो, ज़ुबान पर हर वक़्त मिठास रहने दो।”

खामोशियां🤫 ही बेहतर👍 हैं,शब्दों 😦से लोग😔 नाराज़ बहुत 👍हुआ करते हैं💯💯

भले ही मैं तुमसे बहुत नफरत करता हूँ फिर भी मैं तुमसे प्यार करना बंद नहीं कर सकता

जल जाते हैं मेरे अंदाज़ से मेरे दुश्मन, एक मुद्दत से मैंने न मोहब्बत बदली और न दोस्त बदले।

आज तुम रूठे रूठे से लगते हो,कोई तरकीब तो होगी मानाने की,ज़िन्दगी गिरवी रख देंगे हम अपनी,बस तुम कीमत तो बताओ मुस्कुराने की।

जबवो नाराज होती है, तब मुझे_दुनिया की सबसे महँगी चीजउसकी “मुस्कान “लगती है।।

कहीं नाराज न हो जाए उपरवाला मुझसेहर सुबह उठते ही सबसे पहले तूझेजो याद करता हूँ

ख़फ़ा हैं फिर भी आ कर छेड़ जाते हैं तसव्वुर में, हमारे हाल पर कुछ मेहरबानी अब भी होती है.,

रूठ कर उनसे बिखर जायेंगे किसी गैर को अपना कह कर जी ना पाएंगे वो ना मिलें तो मर ही जायेंगे मगर किसी गैर से दिल ना लगायेंगे।

हर बार सिर्फ बाते ही काफी नहीं होती, हर खता की माफ़ी नन्ही होती।

कच्ची नहीं पक्की है ये दोस्ती,रिश्तो से नहीं प्यार से बनी है ये दोस्ती,भाई-बहन के प्यार कि जीवन भर की है ये दोस्ती।

रूठना तुमने सिख लिया मेरा दिल तोड़के,खुश है तू किसी और के साथ, नया रिश्ता जोड़के।

हर बात ख़ामोशी से मान लेना यह भी अंदाज होता हैं नाराजगी का!!!

इश्क़ मै उसका हाथ क्यो छूटजाता है मोहब्बत सच्ची होकरभी हर कोई क्यों टूट जाता है !!

या वो थे ख़फ़ा हम से या हम हैं ख़फ़ा उन से, कल उन का ज़माना था आज अपना ज़माना है.,

नाराजगी मुझसे कुछ ऐसे भी जताती हैं वो खफा जिस रोज हो जाती हैं काजल नहीं लगाती हैं वो!!!

“बहुत विनम्रता चाहिए, रिश्तों को निभाने के लिए, छलकपट से तो सिर्फ महाभारत रची जाती हैं।”

शिकायतें करनी छोड़ दी हैं मैंने उससे,जिसे फर्क मेरे आँसुओं से नहीं पड़ता,मेरे नाराजगी से क्या होगा।

नाराज़ हो कर भी नाराज़ नहीं होते,ऐसी मोहब्बत है तुमसे

“अपना और पराया क्‍या है, मुझे तो बस यही पता है, जो भावनाओं को समझे वो अपना, और जो भावना से परे हो वो पराया।”

बेशक मुझपे गुस्सा करने का हक है तुम्हे,पर नाराजगी में हमारा प्यार मत भूल जाना..!!

किसी को मनाने से पहले, ये ज़रूर जान लेना, कि वो शख्स तुमसे नाराज़ है या परेशान.

काश तुझे मेरी जरूरत हो मेरी तरह !!और मैं तुझे नज़रअंदाज करूँ तेरी तरह !!

“नाराजगी शब्दों में नहीं बल्कि कामों में दिखाई देती है।”

हर एक शख्स खफा मुझसे अंजुमन में था, क्योंकि मेरे लब पे वही था जो मेरे मन में था।

चेहरे अजनबी हो जाये तो कोई बात नही लेकिनरवैये अजनबी हो जाये तो बडी तकलीफ देते हैं

हमें 🙄कहाँ है सलीका🤝 नाराज़ होने 😔का, वो मुस्कुरा 😁भी जाते तो😜 हम मान जाते😇😇

तुम हसते हो मुझे हँसाने के लिए, तुम रोते हो मुझे रुलाने के लिए, तुम एक बार खफा होकर तो देखो, मर जायेंगे तुम्हें मानाने के लिए।

ज़िन्दगी का ये हूनर भीआज़माना चाहिएजंग अगर अपनो सेहो तो हार जाना चाहिए!

“जीवन में कभी ये हुनर भी आना चाहिए यदि जंग अपनों से हों तो हार भी जाना चाहियें।”

सुलगती जिन्दगी से मौत आ जाये तो बेहतर है अब हमसे दिल के अरमानों का मातम नही होता |

मुझसे नाराज़ हो क्या, जो नज़रे हमसे चुराते हो, वो कौनसी ऐसी बात है, जो होथो मै अपनी दबाते हो.,

हम दुआएं करेंगे उनपर एतवार रखना, न कोई हमसे कभी सवाल रखना, अगर दिल में चाहत हो हमे खुश देखने की, बस हमेशा मुश्कुराना और अपना ख्याल रखना

हर ख्वाहिश तेरी पूरी हो जाए,जो हो कुछ अधूरी तो वह मेरी हो जाए,दुआ है रब से बहना तेरा हर पल,खुशियों की बारिश से भीग जाए।

हमारा जीवन दो भागों में बनता हुआ है, दुखी और नाराजगी वाला

देखा है जिंदगी मनाने को कुछइतने करीब से लगने लगे हैतमाम चेहरे अजीब से !

आग दिल मे लगी जब वो खफा हुए महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए।

पूछ लेते बस मिज़ाज मेरा, कितना आसान था इलाज़ मेरा।

“दोस्ती में नाराजगी से समझौता मत करो, क्योंकि दोस्ती वही सच्ची होती है जो नाराजगी के बाद भी ख़त्म न हो।”

चोट तूने पहुंचाई रो भी तू ही रहा है, खता भी तेरी और खफा भज तू ही रहा है।

नाराज़गी जायज़ है तुमसे, मगर नफ़रत मुमकिन नही।

नींद आरही हे इसकदर, की बैठे बैठे सो जाए, रुके हे आपके मैसेज के लिए, की आप हमसे गुड नाईट तो कह जाए….।।।।

क्या कहूँ क्या है मेरे दिल की ख़ुशी, तुम चले जाओगे ख़फ़ा हो कर.,

जिंदगी में अपनापन तो हर कोई दिखाता हैपर अपना हैं कौन ?यह वक़्त ही बताता हैं

तु हर साँस के साथ याद आती हैअब तु ही बता तेरी याद को रोक दूँ या अपनी साँस को

गलती तो सबसे होती है, हाँ मुझसे भी हो गयीअब माफ़ भी कर दे मुझे, क्यों दूर इतना हो गईएक गलती के लिए क्यों ऐसे साथ छोड़ गयी

जिंदगी में अपनापन तो हर कोई दिखाता हैपर अपना हैं कौन ?यह वक़्त ही बताता हैं

किसी को मनाने से पहले ये जान लेनाकि वो तुमसे नाराज है या परेशान।

मुझको छोङने की वजह तो बता देते.. मुझसे नाराज़ थे या..मुझ जैसे हज़ारों थे..

उदास कमरा उदास मौसम उदास जिन्दगी कितनी चीजो पर इल्जाम लग जाता हैं एक तेरे बात न करने पर!!!

किस बात पर खफा हो,यह जरूर बता देना।अक्सर दिल में छुपी नाराजगी से,रिश्तों की डोर कमजोर हो जाती है।

नाराज़गी भी मोहब्बत की बुनियादहोती हे,मुलाक़ात से भी प्यारी किसीकी याद होती हे..

जिंदगी का तराना यूं ही चलता रहे,मेरी बहना मुझसे यूं ही मिलती रहे,हर ख्वाहिश तेरी पूरी होती रहे।

सुबह की पहली किरण जैसी हो तुम,रोज सुबह आकर भाई-भाई कहकर उठाती हो तुम,मेरी प्यारी बहना मेरे जीवन में खुशी नहीं,खुशियों की सौगात हो तुम।

“वक्त, दोस्त और रिश्ते ये वो चीजें हैं, जो हमें मुफ्त मिलती हैं, मगर इनके बेशकीमती होने का अहसास तब होता है, जब ये कहीं खो जाती हैं।”

निकाल दिए गए कुछ दिलों से,उन्हें हमसे गीला भी नहीं,और एक हम हैं के कबसेज़हेन में नाराजगी लिए बैठे हैं।

तेरी बात को खामोशी से मान लेना,ये भी अंदाज़ है मेरी नाराज़गी का..!!

बहरों के आगे कुछ कहूँ मैं, इससे बेहतर होगा की चुप रहूँ मैं।

तुम हमसे फासले बरकरार ही रखनातुम पर अब लिखने की तैयारी है…आखों के करीब रख किताबे लिखी-पढ़ी नही जातीउसके लिए कुछ फासलें बहुत जरूरी है..

“रिश्तों को शब्दों का मोहताज ना बनाइये, अगर अपना कोई खामोश है तो, खुद ही आवाज लगाइये।” ― Relationship Quotes

तुम हो मेरी धड़कनतुम हो मेरी जान मान जाओ न अबऔर कितना करोगे हमें परेशान !

जब रूठ के जाती है, मुझको बहुत रुलाती है,क्या तुम मुझसे प्यार नहीं करती,जो मुझको इतना सताती है।

उसने सारी कुदरत को बुलाया होगा,फिर उसमें ममता का अक्स समाया हुआ,कोशिश होगी परियों को जमीन पर लाने की,तब जाके खुदा ने बहनों को बनाया होगा।

Recent Posts