1297+ Narazgi Shayari In Hindi | नाराजगी शायरी हिंदी में

Narazgi Shayari In Hindi , नाराजगी शायरी हिंदी में
Author: Quotes And Status Post Published at: September 19, 2023 Post Updated at: November 6, 2023

Narazgi Shayari In Hindi : गलती तो सबसे होती है, हाँ मुझसे भी हो गयीअब माफ़ भी कर दे मुझे, क्यों दूर इतना हो गईएक गलती के लिए क्यों ऐसे साथ छोड़ गयी आज कुछ लिख नही पा रहा,शायद कलम कोमुझसे नाराजगी हैं कोई।

आज मौसम भी कमबख्त खुशमिज़ाज है,क्या करे अब हमारा यार थोड़ा नाराज है।

आप केवल उसे ही चोट पहुंचा सकते हैं जो आपसे प्यार करता है उसे नहीं जो आपसे नफरत करता है

“रिश्ते चाहे कितने ही बुरे हो उन्हें तोड़ना मत क्योंकि पानी चाहे कितना भी गंदा हो, अगर प्यास नहीं बुझा सकता पर आग तो बुझा सकता है।”

मेरी नाराज़गी को मेरीबेवफ़ाई मत समझना,नाराज़ भी उसी से होते हैजिससे बेइंतिहा मोहब्बत हो।

हुस्न और इश्क का हर नाज़ है पर्दे में अभी,अपनी नजरों की शिकायत किसे पेश करूं

“तेरे नाम से हमने इतनी मोहब्बत कर रखी है कि गुस्से में भी तेरा नाम सुनकर मुस्कुरा देते हैं।” ― Relationship Quotes

तुम्हे मूर्ख कहना वहां के सभी मूर्ख लोगों का अपमान होगा। मुझे बस तुमसे नफरत है!

पहले सी बात न थी, इश्क अब फीका था !!अभी-अभी उन्होंने नजरअंदाजी का हुनर सीखा था !!

ठुकरा दिया तूने अच्छा कियामुझे मोहब्बत चाहिए अहसान नहीं

नाराज़ करने वाले तेरी कोई खाता हि नही मोहब्बत क्या होति है, शायद तुझे पता हि नही

एहसान मानता हूँ की आप मेरे जिंदगी मे आये,खुशियों के शाम मेरे जिंदगी मे लाये,अब क्या हुआ मुझसे नाराज हो आप,पता है आपको हमने कितना मनाया।

काश मैं एक ऐसी दुनिया में रहती जहां कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपके रिश्ते में क्या हुआ है

जब तड़पेगी तू प्यास से तूझे वो बादल याद आएगा,जब छोड़ जाएगा तूझे वो तब तूझे ये पागल याद आएगा..!!

आवाज कांपती है अपना हाल बताते हुए, मैं खुद से रूठ गया हूँ तुझे मनाते हुए।

लब तो खामोश रहेंगे ये वादा है मेरा तुमसे गर कह बैठें कुछ निगाहें तो खफा मत होना

तुझसे लाख तकरार होती है पर,बहना दिल में बस तेरे लिए प्यार होता है।

तुम क्यों नाराज़ हो मेरे चुप रहने से,,जब की तुम्हे कोई फर्क नहीं पड़तामेरे कुछ भी कहने से…

किसी को मनाने से पहले ये जान लेना,कि वो तुमसे नाराज है या परेशान..!!

देखो नाराज़गी मुझसे ऐसे भी जताती हैं वो,छुपाती भी कुछ नही जताती भी कुछ नही।

उसकी हर गलती भूल जाता हूँ जब वो मासूमियत से पूछती है नाराज है क्या !

मैं तुमसे, तुमसे और बस तुमसे नाराज रहता हूँ, और तुम जानते हो कि ये स्टेटस किसके लिए है

“किसी भी रिश्ते को तोड़ने से पहले एक बार अपने आप से पूछ जरूर लीजिएगा, कि आज तक उस रिश्ते को निभा क्यों रहे थे।”

जब से तू मुझसे रूत गया है, मेरा वज़ुद मुझ से छूट गया है।

तुझ 🙄से नहीं तेरे⏳ वक़्त से 😥नाराज हूँ…👍जो कभी 😦तुझे मेरे 😥लिए नहीं मिला…🙏

तुम्हारी हर अदा है सबसे नियारीजब रूठ जाती हो तुमतो लगती हो बहुत प्यारी !!

मिट जायेगा गुनाहों का तसव्वुर इस जहां सेअगर हो जाये यकीन के भगवान देख रहे है

“दो लोगों के बीच का रिश्ता हमेशा किसी तीसरे की वजह से ख़राब होता है।”

कैसे 😔नराज़गी जतायें 🤔उन से, जब दिमाग😁 इलज़ाम👍 लगाता है तो दिल 💖उनकी वकालत के लिए 🤟खड़ा हो जाता है 💯💯💯

किस बात पे खफा हो नाराज लग रहे हो,लगते हो जैसे हरदम ना आज लग रहे हो..!!

हर बात ख़ामोशी से मान लेना यह भी अंदाज होता है नाराजगी का!!!

मुझको हसरत कि हक़ीक़त में न देखा उसको, उसको नाराज़गी क्यूँ ख़्वाब में देखा था मुझे.,

“अपने रिश्तों और पैसों की कद्र एक समान करें, दोनों को कमाना मुश्किल है, लेकिन गवाना बहुत आसान।”

हम तब तक ही खास है,जब तक की वो मेरे साथ है..!!

हम बेबस हैं बे-परवाह नहीं हम उदास हैं खफ़ा नहींकदर करते हैं दोस्तों की दिल सेहम जिंदगी में मजबूर तो हो सकते हैं लेकिन बेवफ़ा नहीं

मोहोब्बत है इतनी की तुम्हे बता नहीं सकते नाराज़गी चाहे हो जितनी मगर तुझे एक पल के लिये भी भुला नहीं सकते।

कुछ 🤔दूर हमारे 😇साथ चलो,हम दिल ❤️की कहानी👍 कह देंगे,समझे😦 ना जिसे😅 तुम आखो 😜से,वो बात🤔 जुबानी कह देंगे👍👍

जिंदगी😇 मे अपनापन 🤝तो हर🤔कोई दिखाता है पर😜 अपना है🤔कौन यह⏳ वक़्त ही बताता है 💯💯

दोस्ती में नाराजगी : एक बात बताओ, ये जो तुम नाराज़ हो.. तुम्हें मनाने के लिए कोनसे ब्रांड की चप्पल लाऊँ

कुछ इस तरह वोरिश्तों की नुमाइश करती हैखुदको अच्छी दिखाने के लिएवो अक्सर मेरी बुराई करती है !

ना आँखों में चमक ना होंठों पर कोई हलचल है,तेरी नाराजगी का ऐसा असर है कि अब तो गम पल-पल है..!!

इंतजार रहता है तुम्हाराकभी सबर से और कभी बेसबरी से

आज तो दिल भी धमकियाँ दे रहा हैकरो याद उसे वरना धड़कना छोड़ दूंगा !

निकाल दिए गए कुछ दिलों से,उन्हें हमसे गीला भी नहीं,और एक हम हैं के कबसे ज़हेन में नाराजगी लिए बैठे हैं।

इश्क़ मै उसका हाथ क्यो छूटजाता है मोहब्बत सच्ची होकरभी हर कोई क्यों टूट जाता है !!

इस बेरूखी पे आपकी यूं आ गई हंसी !!आंखें बता रही हैं ज़रा सी हया तो है !!

इस 😁तरह मेरी😇 तरफ मेरा 🤝मसीहा देखे,दर्द दिल💔 में ही रहे 👍और दवा 😌हो जाए👍

अगर नाराज़ हो, ख़फ़ा हो, तो शिकायत करो मुझसे ख़ामोश रहने से दिलों की दूरियाँ मिटा नही करते

परवाह नहीं अगर ये जमाना खफा रहे, बस इतनी सी दुआ है की आप मुस्कुराते रहें।

गुस्से के बाद, मासा-अल्लाह क्या माल दिखती हो,खुदा कसम बहुत कमाल लगती हो,हम मांगे तो भी नहीं मिलता,लगता है गैरों को खैरात की तरह बाँटती हो ।

खामोशियां ही बेहतर हैं,शब्दों से लोग नाराज़ बहुत हुआ करते हैं।

नफरत करोगे तो अधुरा किस्सा हूँ मैमुहब्बत करोगे तो तुम्हारा ही हिस्सा हु मै !

कुछ लोग ये बात कभी नहीं समझ पाएंगे कि एक छोटी सी बात कभी कभी कितना दर्द दे जाती है

हालात जो भी हो,तू मेरे आसपास ही रहना..Halat jo bhi ho,Tu mere aaspaas hi rahna…

बेशक किसी की गलती पर उससेनाराज रहो मगर इतना भी नाराज़ मत हो जाओकी वो इंसान को खुदसे ही नफरत हो जाए।।

तुम हैरान हो मेरे चुप रहने पर, मेरी खामोशियों का इलज़ाम है तुम पर.

मोहोब्बत के इस सफर में मरने को अकेला ही छोड़ दिया अरे इतनी भी क्या नाराज़गी जो तूने दिल ही तोड़ दिया।

सितम हमारे सारे छांट लिया करो जान, नाराज़ होने से अच्छा है हमे डांट लिया करो.

तेरी हर बात ख़ामोशी से मान लेना, यह भी अन्दाज़ है मेरी नाराज़गी का.,

“कोई भी रिश्ता बनाना इतना आसान है जैसे मिट्टी पर मिट्टी लिखना पर उसे निभाना उतना ही मुश्किल है जैसे पानी पर पानी से पानी लिखना।” ― Relationship Quotes

मेरी फितरत में नहीं है किसी से नाराज होना,नाराज वो होते हैं जिनको अपने आप पर गुरुर होता है..!!

हवा ख़फ़ा थी मगर इतनी संग-दिल भी न थी हमीं को शमा जलाने का हौसला न हुआ।

नादान सी मोहब्बत है हमारी निभा लेना!!कभी तुम नाराज हुए तो हम झुक जाएंगे!!कभी हम नाराज रहे तो तुम सीने से लगा लेना!!

बारिश की बूंद की तरह है मेरी बहना,जो खुद बिखर कर घर को सजाती है,वो आती है तो घर में नए रंग भर जाती है,और मेरे दिल को खुशियों से भर जाती है।

जज्बातों 👍 भरे दिल को❤️ पल में जला🔥 दियानाराज़गी ने 😔उनकी आज मेरे ❤️दिल को रुला दिया😭😭😭

मैं बादल तो पहली बारिश हो तुम,मैं ठंडी हवा तो खुशबू हो तुम,मेरी प्यारी बहना,जिंदगी नहीं तुम जान हो मेरी।

चाहे कितनी भी हो नाराजगी हमें बताना, हमें यूं छोड़कर कही नही जाना, हमसे रहा नही जायेगा आपके बिना, हमारे बीच चलेगा रुठना मनाना।

अपनी बिगड़ी हुई तक़दीर को सवारने में लगा हूँ,आज मेरी खुशी मुझसे रूठी है मैं मानाने में लगा हूँ।

तुम रूठो तो हम तुम्हे मनाने आ जाएंगे,हम रूठे भी तो बताओ किस के भरोसे।

देखो नाराज़गी मुझसे ऐसे भी जताती हैं वो,छुपाती भी कुछ नही जताती भी कुछ नही।

तेरी🤔 हर बात👍 ख़ामोशी से 🤫मान लेना🤟यह भी🤝 अन्दाज़ है मेरी 🤟 नाराज़गी का😔

हम उम्र भर करते रहे इन्तेज़ार केकोई पैगाम आए उनका,और वो समझ बैठे थे केनाराज हैं हम उनसे।

आज तो दिल भी धमकियाँ दे रहा हैकरो याद उसे वरना धड़कना छोड़ दूंगा !

Recent Posts