1297+ Narazgi Shayari In Hindi | नाराजगी शायरी हिंदी में

Narazgi Shayari In Hindi , नाराजगी शायरी हिंदी में
Author: Quotes And Status Post Published at: September 19, 2023 Post Updated at: November 6, 2023

Narazgi Shayari In Hindi : गलती तो सबसे होती है, हाँ मुझसे भी हो गयीअब माफ़ भी कर दे मुझे, क्यों दूर इतना हो गईएक गलती के लिए क्यों ऐसे साथ छोड़ गयी आज कुछ लिख नही पा रहा,शायद कलम कोमुझसे नाराजगी हैं कोई।

नफरत करोगे तो अधुरा किस्सा हूँ मैमुहब्बत करोगे तो तुम्हारा ही हिस्सा हु मै !

शिकायतें करनी छोड़ दी हैं मैंने उससे, जिसे फर्क मेरे आँसुओं से नहीं पड़ता, मेरे नाराजगी से क्या होगा।

नाराज़ सौ दफा कर एक बार मनाते हो, रहते किसी और के साथ हो और हमे अपना बताते हो।

हो सकता है हमने आपको कभी रुला दियाआपने तो दुनिया के कहने पे हमें भुला दियाहम तो वैसे भी अकेले थे इस दुनिया मेंक्या हुआ अगर आपने एहसास दिला दिया

“मुलाकात जरुरी है अगर रिश्ते निभाने हो, वरना लगाकर भूल जाने से पौधे भी सुख जाते हैं।”

क्यों ना❌ खफा हो 😅ज़माना मुझसे, मैं 😅तो खुद ही खुद 👍से अब बात😇 नहीं करता🙏🙏

नाराज खुशियाँ ही होती है,गमों के तो इतने नखरे नही होते !!!

तुझसे नहीं तेरे वक्त से नाराज़ हूँ मैं जो तुझे कभी मेरे लिए मिला ही नहीं.

नाराजगी मुझसे कुछ ऐसे भी जताती है वो,खफा जिस रोज हो जाती है काजल नहीं लगाती है वो।

लोग कहते हैं कि तू अब भी ख़फ़ा है मुझसे, तेरी आँखों ने तो कुछ और कहा है मुझसे।

जब तड़पेगी तू प्यास सेतूझे वो बादल याद आएगाजब छोड़ जाएगा तूझे वोतब तूझे ये पागल याद आएगा !

हक हूँ में तेरा हक़ जताया कर, यूँ खफा होकर ना सताया कर

उनके हम पर नाराजगी जताने की एक अलग ही वजह है, उनकी नाराजगी को दूर करने की हमारे पास बहुत अच्छी जगह है।

दुश्मन के सितम का खौफ नहीं हमको,हम तो आपके के रूठ जाने से डरते है।

नाराज़गी है नजाने फिर भी ये दिल क्या चाहता है ख्याल तुम्हारा अक्सर रूठने के बाद भी आता है।

जिस की हवस के वास्ते दुनिया हुई अज़ीज़, वापस हुए तो उसकी मोहब्बत ख़फ़ा मिली.,

अजीब अदा है लोगों की, नजरें भी हम पर नाराजगी भी हमसे.,

किसी को मनाने से पहले, ये ज़रूर जान लेना,कि वो शख्स तुमसे नाराज़ है या परेशान।

“दोस्त है पुराना, याराना अपना सबसे न्यारा, तेरी दोस्ती की खातिर वार देंगे, तुझ पर ये जग सारा।” ― Relationship Quotes

नाराज़गी जायज़ है तुमसे,मगर नफ़रत मुमकिन नही।

नाराजगी ना रखना की आपजैसी चाहत हम ना कर पाएजितनी कर पाए उसमें ख़ुद के लिए हसीं भी ना ले आएं

मत पूछो कैसे गुजरता है हर पल तुम्हारे बिनाकभी बात करने की हसरत कभी देखने की तमन्ना.

“हर किसी को उतनी जगह दो दिल में जितनी वो आपको देता है, वरना या तो खुद रोओगे या वो आपको रुलायेगा।”

“वो कभी मेरी थकान का कारण भी पूछा करता था आज रोने से भी उसे फर्क नहीं पड़ता।”

चाँद के बिना चाँदनी अधूरी होती है, नाराज़गी ना हो तो मोहब्बत अधूरी होती है.

बिन तेरे अधूरा हूँ मैं,तू मिल जाए तो पूरा हूँ मैं..Bin tere adhura hoon main,Tu mil jaye toh pura hoon main..

कुछ इस तरह वोरिश्तों की नुमाइश करती हैखुदको अच्छी दिखाने के लिएवो अक्सर मेरी बुराई करती है !

निकाल दिए गए कुछ दिलों से,उन्हें हमसे गीला भी नहीं,और एक हम हैं के कबसे ज़हेन में नाराजगी लिए बैठे हैं।

यूँ तो हम रोज तुम्हे याद करते है, दौर नाराजगी का ख़त्म हो फिर बात करते है।

गुस्सा😡 मतकर मुझपे 😔रूठ के जाती है🤔 तो जा,👍ये मत ❌सोचना मनाने 👍तेरे पीछे-पीछे😁 आऊँगा😌😌😌

मंज़िल है तो रास्ता क्या है हौसला है तो फांसला क्या हैवो सजा देकर दूर जा बैठे किस्से पूछूँ मेरी खता क्या है

डाँटो शिकायत करो मुझसे, चाहने वाले हो तो चाहत करो मुझसे।

छेड़ मत हर दम न आईना दिखा अपनी सूरत से ख़फ़ा बैठे हैं हम

थकान भरी है जिंदगीपर मुझे अब खुद से छुट्टी चाहिये

बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने से हो सके तो लौट के आजा किसी बहाने से तू लाख खफा हो पर एक बार तो देख ले कोई बिखर गया है तेरे रूठ जाने से

कई बार अच्छी यादों को भूल जाना ही बेहतर होता है

खुशबू तेरे प्यार की, मेरे मन में छाई हे, शायद तुमने याद किया, जोर की हिचकी आई हे।। ⚛》》》》》◆《《《《《⚛

“कुछ बातें अधूरी रहे तो ही अच्छा है, बातें पूरी होने पर अक्सर रिश्ते ख़तम हो जाते हैं।”

लोग कहते हैं कि तू अब भी ख़फ़ा है मुझसे तेरी आँखों ने तो कुछ और कहा है मुझसे

मेरी फितरत में नहीं है किसी से नाराज होना,नाराज वो होते हैं जिनको अपने आप पर गुरुर होता है।

तू क्यों दूर है इतना मुझसे, तुझे चाहता हूँ मैंपूरे दिल से सुन ले मेरी आरज़ूतू ही मेरी जान है, तू ही सारा जहाँ है

बेशक मुझपे गुस्सा करने का हक है तुम्हे,पर नाराजगी में हमारा प्यार मत भूल जाना।

झगड़ा तब होता है जब शिकायत होती है |और शिकायतें उनसे होती है जिनसे प्यार होता है

आप नाराज़ हो, रूठे,की खफा हो जाए,बात इतनी भी ना बिगड़े की जुदा हो जाए ।।

मेरी नाराज़गी को मेरीबेवफ़ाई मत समझना,नाराज़ भी उसी से होते हैजिससे बेइंतिहा मोहब्बत हो।

ख़यालातों के बदलने से भी निकलता है नया दिनसूरज के चमकने से ही सवेरा नहीं होता

अगर लोग बिना किसी कारण के आपसे नफरत करते हैं, तो उन्हें एक अच्छा कारण दो

आज कुछ लिख नही पा रहा,शायद कलम कोमुझसे नाराजगी हैं कोई।

“नाराजगी से कुछ भी हासिल नहीं होता, बल्कि नुकसान होता है।”

तुम्हें दिल से चाहा था हमने, मगर तुम हुए ना हमारे, हम ही से ही ये बेरुखी क्यों, सभी दोस्त है तुमको प्यारे.

जब तू छोटे छोटे कदमो से चलती थी,तेरी पायल मीठी राग सुनाती थी,बहुत प्यारी हो तुम बहना,जीवन भर यु ही संग रहना।

मैंने वफा को बेवफा होते देखा हैमैंने अपनी मोहब्बत कोकिसी ओर के बाहों में सोते देखा है !

तू एक नज़र हम को देख ले,बस इस आस में कब से बेकरार बैठे है..!!

याद रखना भी बहुत हिम्मत का काम है, क्यूंकि किसी को भुला देना आजकल बहुत आम बात है.,

जब 💔नफरत करते 😜थक जाओ😅एक 👍मौका प्यार❤️ को भी दे देना 💯💯💯

आज कल एक ख़ामोश आवाज़ हूँ मैं,क्योंकि खुद से ही नाराज़ हूँ मैं।

यदि एक बड़ा कदम उठाने की आवश्यकता है तो डरे नहीं,आप गहरी खाई को दो छोटी छलांग लगाकर पार नहीं कर सकते। शुभ शनिवार

नाराज हूँ मैं उससे उसने मनाया भी नहीं,वो लोगों से कहता फिरता है बेवफा हूँ मैं।

तुझे सताना अच्छा लगता है,तेरे नए-नए नाम रखना अच्छा लगता है,तेरे साथ वो पुराने पल जीने का मन करता है,भाई-बहन का यही रिश्ता अच्छा लगता है।

हम आपको कुछ पल के लिए भूल जाए तो माफ़ करना कभी रात में गुड नाईट न कह पाए तो माफ़ करना वैसे तो कभी आपको भूलते नहीं पर अगर ये धड़कन रुक जाए तो माफ़ करना

मुस्कुराने से भी होता है ग़में-दिल बयांमुझे रोने की आदत हो ये ज़रूरी तो नहीं

#Narajgi भी बहुत अजीब है, जिस से नाराजगी होती है वही हमारे दिल और दिमाग पर छाया रहता है!!

“रिश्तों में पैसा जरूर देखते हैं लोग, लेकिन सभी रिश्ते पैसों से नहीं बनते, कुछ रिश्ते को विश्वास और भरोसे से बनाया जाता है।”

उसे किसी से मोहब्बत थी और वो मैं नहीं थाये बात मुझसे ज्यादा उसे रुलाती थी

हो हमसे खफा हो गए, मनाने की बहुत कोशिश कि लेकिन दफा हो गए।

“रिश्तों की खूबसूरती एक दूसरे को समझने में है, खुद जैसा इंसान तलाश करोगे, तो अकेले रह जाओगे।”

एक बात कहूं मनाता भी वही है, जिसको आपकी नाराज़गी से फर्क पढ़े..!

हम तो तेरे दीवाने है, तुझे मना ही लेंगे,रूठकर ऐसे मुह ना बनावो ना,तुझे अपना बना ही लेंगे।

तेरी नाराजगी वाजिब हैं दोस्त मैं भी खुद से खुश नहीं आजकल!!!

हर बात खामोशी से मान लेना यह भी अंदाज़ होता है नाराज़गी का

जब 🤔तड़पेगी तू😌 प्यास सेतूझे वो ☁️बादल याद आएगा👍जब🤔 छोड़ जाएगा 😔तूझे वो🤔तब तूझे 😌ये पागल याद😅 आएगा 😔😔😔

इससे आगे एक और कदम बड़ लो ना, नरागज़ी छोड़कर मुझसे बात कर लो ना.

Recent Posts