1872+ Mom Shayari In Hindi | माँ के लिए शायरी

Mom Shayari In Hindi , माँ के लिए शायरी
Author: Quotes And Status Post Published at: September 14, 2023 Post Updated at: October 13, 2023

Mom Shayari In Hindi : सीधा साधा भोला भाला में ही सबसे अच्छा हूँ,कितना भी हो जाऊ बड़ा माँ में आज भी तेरा छोटा बच्चा हूँ। भीड़ में भी सीने से लगा के दूध पिला देती है,बच्चा अगर भूखा हो तो माँ शर्म को भुला देती है।

प्यार तो माँ ने किया हैंज़माने ने तो बस सौदें किए हैं…!!

लोगों ने अक्सर मुझ से पूछा की भाई तुमनेजन्नत देखी है क्या मेने भी मुस्कुरा कर जबाबदिया की कभी तुमने घर में अपनी माँ देखी है।

कोई फर्क नहीं पड़ता आपकी उम्र कितनी है, कभी कभी आपको सिर्फ माँ की ही जरूरत होती है !

मेरी ख्वाहिश है की मै फिर से फरिश्ता हो जाऊ,माँ से इस तरह लिपटु की बच्चा हो जाऊ।

ज़िन्दगी की पहली उस्ताद माँ ज़िन्दगी की पहली दोस्त भी माँ ज़िन्दगी भी माँ क्योकि ज़िन्दगी देने वाली भी माँ।

कुछ इस तरह वो मेरे गुनाहों को धो देती है, माँ बहुत गुस्से मे होती है तो रो देती है.

ख़ुद की जिम्मेवारी और काम को सौंपबड़े गुमान से बैठा है,ख़ुदा ने जबसे माँ बनाई हैखुद इत्मिनान से बैठा है।👩‍👧❤👩‍👧

अगर मोहब्बत करनी ही है तोअपनी “माँ” से करो,उससे तुम्हें हमेशा वफा ही मिलेगीबेवफाई कभी नहीं मिलेगी।

मां भले ही पढ़ी-लिखी हो या नहीं, पर संसार का दुर्लभ व महत्वपूर्ण ज्ञान हमें मां से ही प्राप्त होता है…

बिना हुनर के भी वो चार ओलाद पाल लेती है,कैसे कह दूं कि माँ अनपढ़ है मेरी।

मेरी दुनिया में जो इतनी शोहरत है,मेरी मां की बदौलत है।

माँ की दुआ कभी खाली नहीं जाती,माँ की बात कभी टाली नहीं जाती,अपने सब बच्चे पाल लेती है बर्तन धोकर,और बच्चों से एक माँ पाली नहीं जाती​।

कोई सरहद नहीं होती,कोई गलियारा नहीं होता,अगर मां की बीच होती,तो बंटवारा नहीं होता।

लेके प्यार हम माँ के दीवाने है,हम अमीर है क्योंकि हमारे हिस्से में,आशीर्वाद के खजाने हैं।

गम हो, दुःख हो या खुशियाँमाँ जीवन के हर किस्से में साथ देती है,खुद सो जाती है भूखीपर और बच्चों में रोटी अपने हिस्से की बाँट देती है।

जो हो सके तो इसको संभाल कर रखना, ये माँ का प्यार है बाजार में नहीं मिलता

किसी को जन्नत तो किसी को दो जहान चाहिए, किसी को धन दौलत तो किसी को मकान चाहिए, मुझे नहीं गरज़ इन नेअमतों की या रब, जिसकी खिदमत से मिले सब वो माँ चाहिए.

जब – जब कागज पर लिखा मैने माँ का नाम ,कलम अदब से बोल उठी हो गये चारो धाम।

जिंदगी की पहली शिक्षक माँ,जिंदगी की पहली दोस्त माँ,जिंदगी भी माँ, क्योंकि जिंदगी देने वाली भी माँ।

एक नहीं सातो जीवन कुर्बान, माँ मेरा सबसे बड़ा भगवान।

उम्र का लंबा सफरतय करने के बाद पता चलाकी माँ जो कहती थींसही कहती थीं

सख्त राहों में भी आसान सफर लगता है, यह मेरी मां की दुआओं का असर लगता है।

चलती फिरती आंखों से अजां देखी है,मैंने जन्नत तो नहीं देखी लेकिन मां देखी है।

माँ मैं तुझको खोना नहीं चाहती तुझे देख रोना नहीं चाहती तुझ से जुड़ गया है दिल मेरा तेरे सिवा कुछ पाना नहीं चाहती।

घिस –घिस कर घाव भरने वाली नीम की छाल है माँ,टूट जाती फिर भी फिर भी फल पकती वो डाल है माँ

सख्त राहों में भी आसान सफर लगता है,यह मेरी माँ की दुआओं का ही असर लगता है।

माँ तेरे दूध का हक़ मुझसे अदा क्या होगा तू है नाराज तो खुश मुझसे खुदा क्या होगा

राहे मुश्किल थी रोकने की कोशिश बहुत की लेकिन !!रोक न पाए क्योंकि मैं घर से मां के पैर छू निकला था !!

पूछता है जब कोई,दुनिया में मोहब्बत है कहाँ,मुस्कुरा देता हूँ और याद आ जाती है माँ।

बर्तन माज कर माँ चार बेटो को पाल लेती है, लेकिन चार बेटो से माँ को दो वक्त की रोटी नही दी जाती।

वो शिर पर हाथ रखे तो हिम्मत मिल जाए, और एक बार गले लगाकर मुस्करा दे तो जन्नत मिल जाए।

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होतीबस एक माँ है जो कभी खफा नहीं होती

वह माँ है जिसे रहते जिंदगी में कोई गम नहीं होतादुनिया साथ दे या ना दे पर मां का प्यार कभी कम नहीं होता👩‍👧❤👩‍👧

जब भी बैठता हूँ तन्हाई में मैं तो उसकी यादें रुला देती हैं,आज भी जब आँखों में नींद न आये तो उसकी लोरियांमुझे झट से सुला देती हैं।

है एक कर्ज़ जो हर दम सवार रहता है,वो माँ का प्यार है . सब पर उधार रहता है ! !

मंज़िल दूर बहुत है, छोटी सी ज़िन्दगी में फ़िक़रें बहुत है, मार डालती दुनिया हमें कब की लेकिन, माँ की दुआओं में असर बहुत है। Happy Mother’s Day

हजारों गम हो फिर भी,मैं ख़ुशी से फुल जाता हूँ,जब हंसती है मेरी माँ,मैं हर गम भूल जाता हूँ।

जिस के होने से मैं खुदको मुक्कम्मल मानती हूँ ,मेरे रब के बाद मैं बस अपने माँ – बाप को जानती हूँ।

जो दर्जा माँ का था वो माँ को दिया हैमैंने बटुए में कभी महबूब की फोटो नहीं रखी !!

लोग चले है जन्नत को पाने अरे उनबेख़बरों को बता दो की माँ घर पर ही है।

भूख तो एक रोटी से भी मिट जाती माँ, अगर थाली की वो रोटी तेरे हाथ की होती।

माँ ! के आगे यूँ ही कभी खुल कर नहीं रोना,जहाँ बुनियाद हो, इतनी नमी अच्छी नहीं होती।

हर रिश्ते में मिलावट देखी,कच्चे रंगों की सजावट देखी,सालों-साल से देखा है माँ को,न उसके चेहरे पर थकावट देखी,न ममता कोई कोई मिलावट देखी।

जब भी बोला हमनें माँ का नाम,साँस धम के बोली चारो धाम.!!

माँ तो माँ ही होती हेजो हमें पहचान ही लेती हे कीआंखे न सोने से लाल हे या रोने से। – maa ke liye shayari

कोई नहीं चुप कराता मुझको रातें यूं ही कट जाती हैं,आंखें रोती रहती है मां बस तेरी याद आती है।

मैंने कभी भगवान को नहीं देखा लेकिन मुझे यकीन है कि वो भी मेरी माँ की तरह होगी!

ऐ रात मुझे माँ की तरह गोद में ले ले आज,दिन भर की मशक़्क़त से बदन टूट रहा है।

ना जाने 😞क्यों आज के 🙁इंसान इस बात से😧 अनजान है,🤔छोड़ 😌देते है बुढ़ापे में 🙏जिसे वो माँ तो 🤰एक वरदान है🤗🤗🤗

मेरी खातिर तेरा रोटी पकाना याद आता है,अपने हाथो को चूल्हे में जलाना याद आता है।

“कौन सी है वो चीज़ जो यहाँ नहीं मिलती,सब कुछ मिल जाता है पर माँ नहीं मिलती”

हर मंदिर, हर मस्जिद और हर चौखट पर माथा टेका,दुआ तो तब कबूल हुई जब मां के पैरों में माथा टेका..!!

वक्त बीत गयाऔर बीत गईं सारी बातेंमाँ तेरे जाने के बादकुछ बचा है तो बस खामोश घरऔर उदास मेरी दिन और रातें

मैंने कभी भगवान को नहीं देखा है, लेकिन मुझे इतना यकीन हे की, वो भी मेरी माँ की तरह होगा!

वो उजला हो के मैला हो या मँहगा हो के सस्ता हो,ये माँ का सर है इस पे हर दुपट्टा मुस्कुराता है।

मेरे साथ अगर तेरी ममता की कहानी न होती,मैं तो होता मगर खुशनुमा ये जवानी न होती।

तुम क्या सिखाओगेमुझे प्यार करने का सलीका,मैंने माँ के एक हाथ से थप्पड़ तोदुसरे हाथ से रोटी खायी है।

अनुभव कहता है माँकी आवाज सुकून देती है चाहे वोफोन पर ही क्यों न हो !!

इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है, माँ बहुत ग़ुस्से में होती है तो रो देती है।

तो दोस्तों माँ पर काफी बातें हो गयी है, अब आपको माँ स्टेटस पढ़नी चाहिए।

तेरे क़दमों में ये सारा जहां होगा एक दिन, माँ के होठों पे तबस्सुम को सजाने वाले।

खूबसूरती की इंतहा बेपनाह देखी,जब मैंने मुस्कुराती हुई माँ देखी !!

जो बना दे सारे बिगड़े काम,माँ के चरण में होते चारों धाम।

घुटनों से रेंगते-रेंगते जब पैरों पर खड़ा हुआ,माँ तेरी ममता की छाँव में जाने कब बड़ा हुआ।

उसके होठो पर कभी बदुआ नहीं होती,बस एक माँ है जो कभी कफा नहीं होती।

माँ है, तो जीवन है, माँ है, तो प्यार है, लेकिन माँ छोड़ दें, तो सभी बेकार है।

मत 😢कहिये मेरे साथ🙏 रहती है माँ,🤱कहिये की 🤩माँ के साथ 🤰रहते है हम।🤗😍

माना कि तू पढ़ी-लिखी नहीं है,लेकिन जिंदगी को पढ़ना तोमुझे तूने ही सिखाया है ” माँ “

वो जमीन मेरा वही आसमान है,वो खुदा मेरा वही भगवान है,क्यों मैं जाऊं उसे कहीं छोड़ के,माँ के कदमों में मेरा सारा जहान है।

हालात बुरे थे मगर अमीर बना कर रखती थी !!हम गरीब थे यह बस हमारी मां जानती थी !!

ज़िन्दगी की हर ख़ुशी मिल जाती है जो चाहो वो मंज़िल मिल जाती है यु तो मिल जाता है ज़िन्दगी में सब कुछ पर माँ से बड़ी प्रेमिका नहीं मिल पति इस दुनिया में।

मेरी उलझन समझा दे मुझे परवाह नहीं माँ का हाथ मेरे सिर पर है, मैं आवारा नहीं…!!!

Recent Posts