1872+ Mom Shayari In Hindi | माँ के लिए शायरी

Mom Shayari In Hindi , माँ के लिए शायरी
Author: Quotes And Status Post Published at: September 14, 2023 Post Updated at: October 13, 2023

Mom Shayari In Hindi : सीधा साधा भोला भाला में ही सबसे अच्छा हूँ,कितना भी हो जाऊ बड़ा माँ में आज भी तेरा छोटा बच्चा हूँ। भीड़ में भी सीने से लगा के दूध पिला देती है,बच्चा अगर भूखा हो तो माँ शर्म को भुला देती है।

माँ ना होती तो वफ़ा कौन करेंगा,ममता का हक़ भी कौन अदा करेंगा,रब हर एक माँ को सलामत रखना,वरना हमारे लिए दुआ कौन करेंगा।

एक औरत अपनी ज़िन्दगी में सबसे ज्यादा दर्द हमें पैदा,करते वक़्त सेहती है तभी तो हर बच्चे के दिल में उसकी,माँ ही रहती है मेरी जान मेरी माँ।

माँ अधूरे इस जीवन का पूरा हिस्सा है.तुझ बिन सब कुछ एक किस्सा है। हर गम भुलाती है।

माँ तो जन्नत का फूल है ,प्यार करना उसका उसूल है ,दुनिया की मोहब्बत फिजूल है ,माँ की हर दुआ कबूल है !!

मां के बारे में कुछ लिखूंइतनी मेरी हैसियत नहीमां की ममता किसी जन्नत से कम नही..

माँ जैसीएक बेटी को जब कोई कहेकि “तुम बिल्कुल अपनीमाँ जैसी” लग रही हो,वह पल उसके लिए बहुत खास होता है।

मुझे फर्क नही पड़ता ये दुनिया मुझे क्या कहती है,में बहुत अच्छा हु, माँ ये मेरी कहती है

माँ तो जन्नत का एक फूल है, प्यार करना ही उसका उसूल है, दुनिया की मोहब्बत फ़िज़ूल है, माँ की हर दुआ कबूल है

कदम जब चूमले मंज़िल तो जज़्बा मुस्कुराता है,दुआ लेकर चलो माँ की तो रस्ता मुस्कुराता है।

हमारी गलतियों को छुपा करहमेशा जो सबसे बचाती रहती हैवो माँ ही होती है

काला टीका दूध मलाई आज भी सब कुछ वैसा है, मैं ही मैं हूँ हर जगह प्यार ये तेरा कैसा है?

अपनों से खुलता है, न ही गैरों से खुलता है. ये जन्नत का दरवाज़ा है, माँ के पैरो से खुलता है। Happy Mother’s Day

जब भी Motivation कम होने लगे तो अपनी माँकी तरफ देखना और वापस उस काम को करनेमें लग जाना जो करने करने का मन नहीं कर रहा !!

बेपनाह हो या बेइंतहा,हर लफ्ज़ छोटा है,मां के दुलार के आगे।

मां वो सितारा है जिसकी गोद में जाने के लिए हर कोई तरसता है,जो मां को नहीं पूछते वो जिंदगी भर जन्नत को तरसता है।

माँ की एक प्यारी सी smile हीमेरे दिन भर की थकान मिटा देती है

मेरे होने की वजह मेरी माँ है,मेरे जीवन की ख़ुशी मेरी माँ है,सब का अपना-अपना खुदा होता है,मेरे लिए तो खुदा मेरी माँ है।

पहाड़ो जैसे सदमे झेलती है उम्र भर लेकिन, बस इक औलाद के सितम से माँ टूट जाती है।

जब जब कागज पर लिखा मैंने मां का नाम, कलम अदब से बोल उठी हो गए चारों धाम।

घुटनों से रेंगते – रेंगते कब पैरो पर खड़ा हो गया, माँ तेरी ममता की छाँव में न जाने कब बड़ा हो गया.

देखा करो कभी अपनी माँ की आँखों में,ये वो आईना है जिसमें बच्चे कभी बूढ़े नहीं होते।

मेरी हर कोशिश को खुदा सफल कर देता है,मेरी माँ का होना मुझे मुकम्मल कर देता है।

बात बात पर बेवजह दुआ देने वाली,सिर्फ एक ही हस्ती है और वो है, मां

सारी दुनिया फिक्र करना छोड़ सकती है,लेकिन मेरी माँ नहीं।

माँ से बड़ा कोई भगवान हो ही नहीं सकताक्योंकि जब भगवान को भी अवतार लेना होता हैतो उससे भी माँ की कोख की ही जरूरत पड़ती है

घर में धन, दौलत, हीरे, जवाहरात सब आए, लेकिन जब घर में मां आई तब खुशियां आई।

दम तोड देती हैमाँ-बाप कीममता जबबच्चे कहते हैं कीतुमने किया ही क्या हैहमारे लिए

माँ तेरी याद आती है आ मेरे पास मैं थक गया हूँ एक बार बालों में उँगलियाँ चलाकर सुला दे, बचपन की लोरी फिर से सुन ले।

जन्नत के हर लम्हे का दीदार किया था, गोद में लेकर जब मॉ ने प्यार किया था

🤔जरा सी 😇बात है पर हवा🙁 को कौन समझाए😌,कि मेरी 🤱माँ दिए से 🔥मेरे लिए काजल👼 बनाती है।🤱🤱

मुश्किल घड़ी में ना पैसा काम आया,ना रिश्तेदार काम आये,आँख बंद की तो सिर्फ मां याद आयी। Best Maa Shayari Hindi

पहाड़ो जैसे सदमे झेलती है उम्र भर लेकिन,बस इक औलाद की तकलीफ़ से माँ टूट जाती है।

बालाएं आकर भी मेरी चौखट से लौट जाती हैं,मेरी माँ की दुआएं भी कितना असर रखती हैं।

पेट पर लात खाके फिर भी प्यार लुटाती है, एक माँ ही है जो सच्चे प्यार की मूरत कहलाती है.

वो लिखने लगे खत खुदा को,मैंने भी कलम थाम ली।शब्द लिखे कागज पर,और मां की अंगुली थाम ली।

माँ 🤰के लिए क्या लिखूँ ?❤️माँ ने🤱 खुद मुझे😍 लिखा है 💯💯💯

ख़ुदा ने ये सिफ़त दुनिया की हर औरत को बख्शी है, कि वो पागल भी हो जाए तो बेटे याद रहते है।

ना जाने क्या था “माँ” की उस “फूँक” में हर “चोट” ठीक हो जाया करती थी “माँ” की हल्की सी एक “चपत” ज़मीन को सारा “दर्द” ही “गायब” कर दिया करती थी

मेरे  सांसे बंद सी हो जाती हैजब कभी भी मेरी मां बीमार होती है

अब हर चेहरे में कमी नजर आती है मैनेअपनी माँ को कुछ ज्यादा ही देख लिया !!

चाहे कितना भी गम हो माँ को देखते ही मुस्कुराने लगता हूँजब पास होती है मेरी माँ मैं सारा गम भूल जाता हूँ

माँ की आंचल के साए में कोई  गम छूट  भी नहीं पाता हैजब माँ के गोद में सोता हूं तो आसमान को छू लेता हूं

चलती फिरती आंखों से अजान देखी है, मैंने जन्नत तो नहीं देखी, लेकिन माँ देखी है.

अगर आपको लगता है कि माँ बनना एक फुल टाइम जॉब है, तो एक वर्किंग मॉम बनने की कोशिश करें, यह दो फुल टाइम जॉब करने जैसा है, आधे समय के वेतन के साथ!

माँ के लिए कुछ लाइन…हर मंदिर , हर मस्जिद , औरहर चौखट पर माथा टेका ,दुआ तो तब कबूल हुई जब मां केपैरों में माथा टेका..!👩‍👧❤👩‍👧

यूँ तो मैंने बुलन्दियों के हर निशान को छुआ, जब माँ ने गोद में उठाया तो आसमान को छुआ।

माँ के हाथो में जादू है, किस्मत सँवारने का ! फिर वो हाथ चाहे सिर पर फिरे, या फिर गालो पर।

माँ ममता है माँ दया हैमाँ संसार है माँ ही है जिससे परिवार हैI love you mom👩‍👧❤👩‍👧

मौत से लड़ कर जिसने हमें जन्म दिया,उस माँ का दिल कभी मत तोड़ना।

जिसने दी है जिंदगी और चलना सिखाया है,वो माँ मेरी उस भगवान का साया है।

जो मांगू सब देती है,जितना लाड चाहूं उतना तू करती है,मेरी मां कितनी प्यारी है ना तू,हर मुश्किल में मेरा साथ देती है।

बुज़ुर्गों का मेरे दिल से अभी तक डर नहीं जाता दोस्तो,कि जब तक जागती रहती है माँ मैं घर नहीं जाता।

कैसे भुला दूँ मैं अपने पहले प्यार कोकैसे तोड़ दूँ उसके ऐतबार को,सारा जीवन उसके चरणों में अर्पण कर दूँछोड़ दूँ उसकी खातिर मैं इस संसार को।

देखा करो कभी अपनी माँ की आँखों मेंये वो आईना है जिसमें बच्चे कभी बूढ़े नहीं होते

मां की दुआ को क्या नाम दूं, उसका हाथ हो सर पर तो मुकद्दर जाग उठता है।

मंजिल दूर है और सफर बहुत है, छोटी सी जिंदगी की फिक्र बहुत है, मार डालती यह दुनिया कब की हमें, लेकिन माँ की दुआओं में असर बहुत है.

आज एक तलाश मै हूं, ज़िन्दगी के सबसे खूसूरत सुकून की, और ये सुकून माँ की गोद से शुरू होकर मेरी नींद आने तक रहता हैं।

उजाले में भी अंधेरा से डर लगता हैमेरी माँ जब घर में होती हैतभी जाकर वे मकान घर लगती है

माँ तेरे दूध का हक मुझसे अदा क्या होगा!तू है नाराज ती खुश मुझसे खुदा क्या होगा!

हजारों गम हो फिर भी मैं खुशी से फूल जाता हूंजब हंसती है मेरी मां तो मैं हर गम भूल जाता हूं👩‍👧❤👩‍👧

वैसे तो दोस्तों मां को शब्दों में, लफ्जों में बयां नहीं कर सकते लेकिन हमने मां के लिए कुछ शायरी लिखि हैं। आप पढ़ सकते हैं।

जब सिर पे माँ का हाथ होता हैमुसीबतों में भी मुस्कुराने लगता हूंये मेरी माँ की दुआ का असर हैजो सारी मुसीबतें हंसते-हंसते सह लेता हूं

माँ उबालती रही…बच्चे फ़रेब खा के चटाई पे सो गए,इक माँ उबालती रही पत्थर तमाम रात।अज्ञात

जमाने ने इतने सितम दिए की रूह पर भी जख्म लग गया, मां ने सर पर हाथ रख दिया तो मरहम लग गया।

पढ़ी लिखी हो या अनपढ़ होजिंदगी में आगे कैसे बढ़ना हैवो माँ ही सिखाती है

जिसके होने से मैं खुद को मुक्कम्मल मानता हूँ,मेरे रब के बाद मैं बस अपनी माँ को जानता हूँ।

वह माँ ही है जिसके रहते,जिंदगी में कोई गम नहीं होता,दुनिया साथ दे या ना दे पर,माँ का प्यार कभी कम नहीं होता।

तेरे ही आंचल में निकला बचपन तुझसे ही तो जुड़ी हर धड़कन कहने को तो मां सब कहते पर मेरे लिए तू है भगवान हैप्पी मदर्स डे

लबों पर उसके कभी बद-दुआ नहीं होती, बस एक माँ है जो कभी खफा नहीं होती

पूरी दुनिया मेंगलतियां निकालने वाले तोहजारों मिल जाएंगेलेकिनउन गलतियों को माफ करने वालीएक “माँ” ही होती है।

सारी रौनक देख ली दुनिया की, मगर जो सकून तेरे पहलू में है माँ वो और कहीं नहीं है।

माँकैसे भुला दूं मैं अपने पहले प्यार कोकैसे तोड़ दूं उसके ऐतबार कोसारा जीवन उसके चरणों में अर्पण कर दूँछोड़ दूं उसके खातिर मैं इस संसार को

Recent Posts