1872+ Mom Shayari In Hindi | माँ के लिए शायरी

Mom Shayari In Hindi , माँ के लिए शायरी
Author: Quotes And Status Post Published at: September 14, 2023 Post Updated at: October 13, 2023

Mom Shayari In Hindi : सीधा साधा भोला भाला में ही सबसे अच्छा हूँ,कितना भी हो जाऊ बड़ा माँ में आज भी तेरा छोटा बच्चा हूँ। भीड़ में भी सीने से लगा के दूध पिला देती है,बच्चा अगर भूखा हो तो माँ शर्म को भुला देती है।

खूबसूरती की इंतहा बेपनाह देखीजब मैंने मुस्कुराती हुई माँ देखी

उम्र भर तेरी मोहब्बत मेरी खिदमतगार रही माँ, मैं तेरी खिदमत के काबिल जब हुआ तू चली गयी माँ.

मैंने कभी भगवान को नहीं देखा है,लेकिन मुझे इतना यकीन हे की,,वो भी मेरी माँ की तरह होगा।

दिल की गहराइयों से एक सबक सिखा हैं,बिना मां बाप के सारा जीवन फीका हैं

आंखें खोलूं तो चेहरा माँ का हो,आंखें बंद तो सपना माँ का हो,मैं मर भी जाऊं तो कोई गम नहीं,बस कफ़न मिले तो दुपट्टा मेरा माँ का हो।

माँ दुनिया का एकमात्र ऐसा शब्द है, जिसे किसी परिभाषा की ज़रूरत नहीं। क्योंकि यह शब्द नहीं एहसास है।

सुना – सुना सा मुझे घर लगता है, माँ नहीं होती तो बहुत डर लगता है.

दुश्मन तो चाहता था मुझको मिटाना मगर, माँ की दुआओ ने मुझको बचा लिया।

ऐ अँधेरे देख मुँह तेरा काला हो गया, माँ ने आँखें खोल दी, घर में उजाला हो गया.

माँ भगवान से भी ज्यादा कीमती है,क्योंकि भगवान ने तो हमारी किस्मत मेंसुख और दुख दोनों लिखे हैं।जबकि माँ सिर्फ सुख ही लिखती है।Love you MAA😘😘

अगर हम शब्द है तो वो पूरी भाषा हैमाँ की बस यही परिभाषा है।

सारी दुनिया फिकर करना छोड़ सकती हैलेकिन मेरी माँ नहीं !!

लेकर आशीर्वाद निकला करो घर से मां का, मुंह नहीं देखना पड़ेगा सफलता मैं तुम्हें कभी ना का.

भूख तो एक रोटी से भी मिट जाती माँ,अगर थाली की वो रोटी तेरे हाथ की होती।

माँ तेरी याद आती है, आ मेरे पास, थक गया हूँ, गोद में सुला दे, बालों में उँगलियाँ फेर कर फिर से बचपन की लोरी गाए

मेरे शब्दों में इतनी शक्ति नहीं है कि मैं माँ शब्द को पूरी तरह से समझा सकूं।

सीधा साधा भोला भाला मैं ही सब से सच्चा हूँ कितना भी हो जाऊं बड़ा माँ आज भी तेरा बच्चा हूँ

उसे है ईश्वर ने बनाया कुछ इस तरहकी अपने दिल में किसी को भी दे दे वह जगहबस थोड़ा सम्मान और आदर है माँगतीमेरी माँ है सब कुछ जानती

सर फिरे लोग हमें दुश्मन-ए-जां कहते हैं हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी मां कहते हैं

मौसम बदल जाते हैंमंज़िल बदल जाते हैंसुना है वक्त आने पे लोग बदल जाते हैंरिश्ते भी बदल जाते हैंपर माँ बाप का प्यार कभी नहीं बदलता

जिसके होने से मैं खुद को मुक्कम्मल मानता हूँ, मेरे रब के बाद मैं बस अपनी माँ को जानता हूँ.

धूप मैं बाप और चूल्हे पर माँ जलती है तब जाकर औलाद पलटी है। Dhup me baap aur chulhe par maa jalti ha tab jakar aulad palti hai.

रात भर मैंने ख्वाबों में जन्नत की सैर की, जब सुबह उठा तो मेरा सर माँ की गोद में था

गिन लेती है दिन बगैर मेरे गुजारें हैं कितने,भला कैसे कह दूं कि माँ अनपढ़ है मेरी।

वो मेरी माँ है त्रिलोक उस की मुठ्ठी में हैं, मरजाना भी कहती है तो मेरी उम्र बढ़ जाती है। Happy Mother’s Day

कोई दुआ असर नहीं करती,जब तक वो हम पर नजर नहीं करती,हम उसकी खबर रखे न रखे,वो कभी हमें बेखबर नहीं करती।

मां तेरे दूध का हक़ मुझसे अदा क्या होगा,तू है नाराज तो खुश मुझसे खुदा क्या होगा।

हमारी हर तकलीफ में हमारा सहारा होती है, मां जब पास हो तो जिंदगी बहारा होती है.

मौत के लिए बहुत सारे रास्ते हैंपर जन्म के लिए सिर्फ एक है माँ

तकलीफ मुझे होती हैऔर वो पूरी रात नहीं सोती हैकैसे बताऊँ मैं उसके बारे मेंसाहब माँ लफ़्ज़ों में बयाँ नहीं होती है

सबने बताया कि, आज मां का दिन है!!कौन बताएगा कि वो कौन सा दिन है!!जो मां के बिन है!!मदर्स डे की हार्दिक शुभकामनाएं!!

पैसो से सब कुछ मिलता है पर, माँ जैसा प्यार कही नही मिलता।

मां कहती नहीं लेकिन सब कुछ समझती है,दिल की और जुबां की दोनों भाषा समझती है।

आज माँ तेरी याद मे रो रहा था, मैं कैसे बताऊ उनका बेटा बीमार है।

भगवान हर जगह नहीं हो सकते,इसलिए उसने माँ बनायीं।

जो शिक्षा का ज्ञान दे उसे शिक्षक कहते है,और जो खुशियों का वरदान दे उसे मां कहते है।

उस माँ का कभी साथ मत छोड़ना,जो आपको मेले में खोने के डर से तुम्हारा हाथ तक नही छोड़ती थी !!उसको हरदम प्यार से रखना

न जाने क्यों आज अपना ही घर मुझे अनजान सा लगता है,तेरे जाने के बाद ये घर-घर नहीं खाली मकान सा लगता हैअज्ञात

ऊपर जिसका अंत नहीं उसे आसमां कहते है,जहाँ में जिसका अंत नहीं उसे माँ कहते है।

दुनिया भाग रही है जन्नत पाने कोकोई बातये उन्हें माँ घर पर ही है।

ऐ अँधेरे देख मुँह तेरा काला हो गया, माँ ने आँखें खोल दी घर में उजाला हो गया।

जब तक नींद ना आए हमें,तब तक वो कभी ना सोती थी,इधर दर्द हमें हो,उधर मां रोती थी।

कोई तूफानों से कह दे कि जीत की उम्मीद छोड़ दें, मेरी मां का आशीर्वाद कभी हार नहीं सकता। हैप्पी मदर्स डे

मां ने जब सर पे हाथ फेरा तो हिम्मत मिल गई,उसके कदमों में सर झुकाया, तो जन्नत मिल गई को,और जब मां मेरे साथ चली,तो लगा मानो सारी दुनिया की खुशी मिल गई।

माँ तू तो फुल है.गले लगाना तेरा उसूल है.तेरे आगे सब फिजूल है.माँ तू हर दुआ में कबूल है​।

दोस्तों आज जरूर आप कामयाब हो गए होंगे!!लेकिन आज के लाखो रुपये बेकार है!!उस एक रूपये के सामने!!जो माँ स्कूल जाते वक़्त हाथ में देती थी!!

खाली पड़ा था मकान मेरा,जब माँ घर आयी तो घर बना।

बिन मां के जीवन कैसे बीतेयह सोचकर जी घबराता हैजिसकी मां नही होती उनकाजीवन कैसे गुजर जाता है..

ज़िन्दगी में ऊपर वाले से इतना जरूर मांग लेना की, माँ के बिना कोई घर ना हो, और कोई माँ बेघर ना हो।

माँ ना हो तो वफ़ा कौन करेगा.हर हक़ तेरा अदा कौन करेगा.माँ के प्यार को हमेशा सलामत रखना.वरना हमारी जीवन की दुआ कौन करेगा​।

भूल जाता हूँ परेशानियाँ जिंदगी की सारी,मां अपनी गोद में जब मेरा सर रख लेती हैं।

स्कूल का वो बस्ता मुझे फिर से थमा दे माँ, जिंदगी का सफ़र मुझे बड़ा मुश्किल लगता है।

हर रिश्तो में मिलावट देखी, कच्चे रंगों की सजावट देखी, सालों साल से देखा है माँ को, ना उसके चेहरे पर थकावट देखी, ना ममता में कोई मिलावट देखें.

जब भी घर से बाहर निकलुमाँ एक ही शब्द कहती है “संभल कर जाना”बाकी सारे कहते हैं “जल्दी आना”

दुआएं मां की पहुंचाने को मीलों मील जाती हैं कि जब परदेस जाने के लिए बेटा निकलता है

माँ कर देती है पर गिनाती नहीं है, वो सह लेती है पर सुनाती नहीं है।

“माँ” के प्यार की जगह कोई नहीं ले सकताLove you MAA😘😚

मंजिल दूर और सफर बहुत है,छोटी सी जिंदगी की फिक्र बहुत है,मार डालती यह दुनिया कब की हमें,लेकिन मां की दुआओं में असर बहुत है….

राहे मुश्किल थी रोकने की कोशिश बहुत की,लेकिन रोक न पाए क्योंकि मैं घर से मां के पैर छू निकला था।

माँ ना होती तो वफ़ा कौन करेगा, ममता का हक़ भी कौन अदा करेगा, रब हर एक माँ को सलामत रखना, वरना हमारे लिए दुआ कौन करेगा.

कभी मुस्कुरा दे तो लगता है जिंदगी मिल गयी मुझको,माँ दुखी हो तो दिल मेरा भी दुखी हो जाता है।

जख्म जब बच्चे को लगता है तो मां रोती है,ऐसी निस्बत किसी और रिश्ते में कहां होती है।

सारी दुनियां फिकर करना छोड़ सकती है…लेकिन मेरी माँ नही..

हर गली, हर शहर, हर देश-विदेश देखा,लेकिन मां तेरे जैसा प्यार कहीं नहीं देखा।

हमें इस संसार में लाने वाली माँ है. हम सब अपनी माँ से बहोत प्यार करते है और दुआ करते है की माँ हमेशा खुश रहे.

हालातों के आगे जब साथ ना जुबां होती है,पहचान लेती है खामोशी में हर दर्द,वो सिर्फ “माँ” होती है।

हर मंदिर, हर मस्जिद और हर चौखट पर माथा टेका,दुआ तो तब कबूल हुई जब मां के पैरों में माथा टेका।

कोई कितना भी अच्छाक्योंनाहो , मांकीकमी को पूरा नहीं कर सकता ..

डाँटकर बच्चो को खुद अकेले में रोटी हैवो माँ है साहब,उसकी ममता की कुछ ऐसी होती है

बे’गैरत है वो औलाद जो माँ को रुला देती है,माँ तो बच्चों की हर खता को हंसकर भुला देती है।

मांग लू ये मन्नत कि फिर यही जहां मिले,फिर वही गोद फिर वही माँ मिले।

जिंदगी में चैन की सांस यानी माँतपती धूप में ठंडी छांव यानी माँ

Recent Posts