1912+ Ladki Ki Tarif Me Shayari In Hindi | लड़कियों की तारीफ के लिए शब्द, स्टेटस व शायरी

Ladki Ki Tarif Me Shayari In Hindi , लड़कियों की तारीफ के लिए शब्द, स्टेटस व शायरी
Author: Quotes And Status Post Published at: July 31, 2023 Post Updated at: June 8, 2024

Ladki Ki Tarif Me Shayari In Hindi : अपना चांद सा चेहरा देखने की इजाजत दे दो, इस खूबसूरत शाम को और सजाने की इजाजत दे दो। एक लाइन में क्या तेरी तारीफ़ लिखूं पानी भी जो देखे तुझे तो प्यासा हो जाये

भाव खाने वाली लड़कियों पर शायरी – आप love shayari की मदद से किसी भी लड़की को खुश कर सकते हो । क्यूकी लड़किया शायरी सुनना पसंद करती है ।

कितनी खूबसूरत हैं आँखें तुम्हारी,बना दीजिये इनको किस्मत हमारी,इस ज़िंदगी में हमें और क्या चाहिए,अगर मिल जाए मोहब्बत तुम्हारी

तू भी मेरे दिल के Library की वो डायरी है, जिसे हम पढ़ना कम और देखना, ज्यादा पसंद करता है ।

छुपा लूं मैं दिल में उनकी सूरत, आंखों में उतार लूं मैं उनकी मूरत, जहां भी देखूं फिर मैं बस वो ही वो नजर आये।

शोख़ी से ठहरती नहीं क़ातिल की नज़र आज, ये बर्क़-ए-बला देखिए गिरती है किधर आज।

नशा हम किया करते हैं,इलज़ाम शरब को दिया करते हैं,कसूर सराब का नहीं उनका है,जिन्का चेरा हम जाम में तलाश किया करते हैं..!!

हुस्न वालों को संवरने की क्या जरूरत है,वो तो सादगी में भी क़यामत की अदा रखते हैं।

ना चाहते हुए भी आ जाता हैं लबों पे तेरा नामकभी तेरी तारीफ में तो कभी तेरी शिकायत मे

तेरी बाहो में सुबह तेरी ज़ुल्फो में रात करनी है तू इतनी खूबसूरत है मुझे ज़िन्दगी तेरे नाम करनी है।

तू चाँद और मैं सितारा होता?आसमान में एक आशियाना हमारा होता?लोग तुम्हे दूरसे देखते,नज़दीक से देखने का हक बस हमारा होता।।

काश तुम समझ सकते मोहब्बत कें उसूलो को, किसी कें दिल में समां कर तन्हा नहीं करते.

तेरी नज़रों ने मुझे कायल कर दिया, तेरी खुबसूरती ने मुझे घायल कर दिया, तेरे प्यार ने मुझे दीवाना कर दिया, कैसे बताऊं मेरा क्या हाल कर दिया।

तेरा अंदाज़-ए-संवरना भी क्या कमाल है, तुझे देखूं तो दिल धड़के ना देखूं तो बेचैन रहूं।

देखा उन्होंने ऐसी नज़र से कि मेरे होश उड़ गए, देख उनका हुस्न जैसे कोई तार उनसे जुड़ गए।

जुबां कड़वी और दिल साफ़ रखता हूँ,कौन का कहाँ बदल गया सबका हिसाब रखता हूँ।

दुप्पट्टा क्या रख लिया सर पर ,वो दुल्हन नजर आने लगी।उनकी तो अदा होगी,अपनी तो जान जाने लगी ।

इश्क के फूल खिलते हैं तेरी खूबसूरत आंखों में,जहां देखे तू एक नजर वहां खुशबू बिखर जाए

उस के चेहरे की चमक के सामने सादा लगा आसमाँ पे चाँद पूरा था मगर आधा लगा

तुम एक खुशबू की तरह हो,जो जिंदगी को सुंदर बनाती है।

मेरे दिल के धड़कनों की वो जरूरत सी है,तितलियों सी नाजुक, परियों जैसी खूबसूरत सी है।

तुम बस मुस्कुराते रहो…! मरी साँसें चलती रहेगी…!!

तू खुश है मेरे बगेर इसमे गलत कुछ भी नही में खुश हू तेरे बगेर इसमे सच कुछ भी नही।।

उसने होठों से छू करदरिया का पानी गुलाबी कर दिया,हमारी तो बात और थी उसनेमछलियों को भी शराबी कर दिया।

कुछ अपना अंदाज हैं कुछ मौसम रंगीन हैं,तारीफ करूँ या चुप रहूँ जुर्म दोनो ही संगीन हैं।

खुदा ने बड़ी ही फुरसत से बनाया होगा, ऐसा कभी भी सोचा मुझसे भी खुबसूरत मेरा यारा होगा।

कितनी खूबसूरत हैं आँखें तुम्हारी, बना दीजिये इनको किस्मत हमारी, इस ज़िंदगी में हमें और क्या चाहिए, अगर मिल जाए मोहब्बत तुम्हारी।

तारीफ क्या करू में तुम्हारी क्यूंकि, तुम्हीं एक तारीफ हो !

किसकी खूबसूरती का दीदार करें हमआज वो और ताजमहल दोनों आमने सामने हैं

सोचता हु हर कागज पे तेरी तारीफ करु,फिर खयाल आया कहीँ पढ़ने वाला भी तेरा दीवाना ना हो जाए।

आज तेरी गली के सामने से गुजरेंगे,मोहब्बत की निगहों से देख लेना,,क्या पता हम किसी के या हो जाए।

एक लाइन में क्या तेरी तारीफ लिखूँ,पानी भी जो देखे तुझे तो, प्यासा हो जाये।

खुशबु आ रही है कहीं से ताज़े गुलाब की,शायद खिड़की खुली रह गई होगी उनके मकान की।

उसी जगह से ही अक्सर मैं तेज गुज़रा हूँ किसी का रुक के जहाँ इंतिजार करना था

कागज भी पास है और कलम भी मेरे पास है मगर लिखू भी तो किया लिखू जब दिल तेरे पास है।।

पिये हमने हज़ारों जाम पर तेरी आंखों का नशा ही अलग है, देखे हमने भी हज़ारों जलवे पर तेरी अदा की बात ही कुछ और है।

हमारा क़त्ल करने की उनकी साजिश तो देखो,गुजरे जब करीब से तो चेहरे से पर्दा हटा लिया।

ये आईने क्या दे सकेंगे तुम्हें तुम्हारी शख्सियत की खबरकभी हमारी आँखों से पूछो कितने लाजवाब हो तुम

रात बड़ी मुश्किल से खुद को सुलाया है मैंने,अपनी आँखों को तेरे ख्वाब का लालच देकर।

उसके चेहरे के तिल पर फिदा मेरा दिल है, हंसती है तो जान ले लेती है, इस दुनिया में वो सबसे खूबसूरत है।

तुम्हारे खूबसूरत चेहरे की मेरी आंखों में तस्वीर बन गई, न जाने कब तुम मेरी तकदीर बन गई.

फूलों से खूबसूरत कोई नहीं, सागर से गहरा कोई नहीं, अब आपकी क्या तारीफ करूं, खूबसूरती में आप जैसा जैसा कोई नहीं..।

बहुत खूबसूरत वो रातें होती थी..!!जब तुमसे दिल की बातें होतीं थी..

तारीफों से जी भरा सा है,इक वो नहीं तो सब अधूरा सा है।

तेरा हसीन चेहरा देखने के बाद दिल ने फिर से हिम्मत की है प्यार करने की।

मैं तुम्हारी सादगी की क्या मिसाल दूँइस सारे जहां में बे-मिसाल हो तुम

पुरानी होकर भी ख़ास होती जा रहीमोहब्बत बेशर्म है जनाब, बेहिसाब होती जा रही है

असली खूबसूरती किसी की तारीफ की,मोहताज नहीं होती,उसके लिये तो बस,,आंखों की वाह वाही ही काफी होती है।

तारीफ करूँ क्या आपकी,कुछ अल्फ़ाज ही ना मिले,जब से देखा है आपकोदिल में अरमान है जगे..!!

एक लाइन में क्या तेरी तारीफ़ लिखू, पानी भी जो देखे तुझे तो प्यासा हो जाये.

किस से तुलना करूँ तेरी खूबसूरती की, तुझ सा खूबसूरत इस जहाँ में कुछ भी नहीं ।

तेरा हंसना भी क्या मुसीबत है,में यहां कोई बात करने आया था

चांद सा चेहरा उनका, बादलों सी घनी जुल्फें, जिनमें खोकर हम उनके हो गए।

देख तेरी खूबसुरती चांद भी शर्मा रहा है,तू कितनी खूबसूरत है ये फरमा रहा है।

खूबसूरती न सूरत में है ना लिबास में है, निग़ाहें जिसे चाहे उसे हसीन बना दे।

तुझसे ना मिलने के कसम खाकड़ो,मैंने हर राह मैं ढुंडा है तुझे।

बेवफ़ा तेरा चेहराभूल जाने क़ाबिल नहीं तू इतनी खूसूरत है मग़रदिल लगाने क़ाबिल नहीं।

दर लगता है इज़हार करने से,कितने पसंद हो तुम,क्योकि ज़िन्दगी बदल देगा हमारी,तुम्हारा इज़हार भी और इंकार भी ।।

तुम हक़ीकत नहीं हो हसरत हो, जो मिले ख़्वाब में वही दौलत हो, किस लिए देखती हो आईना,तुम तो खुदा से भी ज्यादा खूबसूरत हो।

ऐ मेरी कलम तू इतना सा एहसान कर दे,जो ना कह पा रही ज़ुबा वो बयां कर दे।

इस सादगी पर कौन नमर जाएं ऐ खुदा,लड़ते हैं और हाथ मेंतलवार भी नहीं..!!

बातें दिल की बोलती है आंखेंइसलिए जुबां को कैद किया है

मेरे जीने की नई आस हो तुम,मेरी जिंदगी की प्यास हो तुम,ढूंढता है दिल जिसे बेसब्र होकर,जिंदगी की वो तलाश हो तुम...Happy Propose Day...

जब यह चांद अधूरा आता है, मुझे बस एक ही ज़िक्र याद आता है, कि यह चांद इस चांद से कितना शर्माता है।

बड़ी आरजू थी महबूब को बेनकाब देखने कीदुपट्टा जो सरका तो कमबख्त जुल्फें दीवार बन गयी

क्या हुस्न था कि आँख से देखा हजार बार,फिर भी नजर को हसरत-ए-दीदार रह गयी।

तेरे चहरे की रोशनी से रोशन मेरी रात है पास है तू मेरे जब तारों को भी चांद का साथ है।

कुछ अपना अंदाज हैं कुछ मौसम रंगीन हैं,तारीफ करूँ या चुप रहूँ जुर्म दोनो ही संगीन हैं! ?

खूबसूरती अक्सर सांवलेपन में होती है, गोरे तो तब भी फरेबी थे और अब भी।

आपके होठो को अपने होठो से लगाना हैं बस इसी रात को पाने का हर के बहाना हैं

हाए वो राज़-ए-ग़म कि जो अब तक तेरे दिल में मिरी निगाह में है

अच्छे लगे तुम सो हमने बता दिया,नुकसान ये हुआ कि तुम मगरूर हो गए।।

एक लड़की की इज्ज़त करना उसे,ख़ूबसूरत कहने से ज्यादा खूबसूरत है।

Recent Posts