2150+ Kasam Shayari In Hindi | कसम पर शायरी

Kasam Shayari In Hindi , कसम पर शायरी
Author: Quotes And Status Post Published at: October 2, 2023 Post Updated at: October 25, 2023

Kasam Shayari In Hindi : कसम से बहुत सताते हो तुम,अक्सर बिना आवाज, बिना दस्तक, दबे पाँव,मेरे ख्यालों में चले आते हो तुम… हम तुम्हे कभी खोना नहीं चाहते,कसम खुदा की तुम्हारे सिवा,हम किसी और के होना नहीं चाहते…

उस जगह मत जाओ जहाँ लोग आप को बर्दाश्त करते हो, बल्कि वह जाओ जहाँ लोग एप्प का इंतज़ार करते हो!

छोटी सी एक ज़िंदगी थी, ~ वो भी किसी की नफ़रत में गुज़र गई…

वो नमाज़ ऐ इश्क़ हमें भी सीखा या रब, जिसमे हमें सिर्फ अज़ान का इन्तेज़र हो।

लग रहा है बहुत झूठी कसमें खाई है तुमने मेरीदिन पर दिन मेरी तबियत खराब होती जा रही है 🍂

उसके पास फेसबुक नहीं है,फिर भी वह हमाराजन्मदिन याद रखती हैवह है “माँ”

“अपनी फील्ड के पक्के खिलाड़ी बनो, वरना लोग आपको खिलौना बनाते रहेंगे।”

हर उस आंख में चुभना है,जिसने मुझे देखकर कभीनज़रेफेरी थी।

आज़माना अपनी यारी को पतझड़ में मेरे दोस्त  सावन में तो हर पत्ता हरा नजर आता है..

में मेरी जिंदगी का एक्का हू.. !!बादशाह नही जो रानी कीगुलामी करू….!!

“इंसान के दिमाग में दो तरह के घोड़े दौड़तें हैं, एक Negative और दुसरा Positive, इनमें जितेगा वहीं जिसको ज्यादा खुराक मिलेगी।”

कितनी मोहब्बत है तुझसे कोई सफाई नहीं देंगे, ~ साये की तरह रहेंगे तेरे साथ लेकिन दिखाई नहीं देंगे !!

फ़ुरसत में याद करना हो तो कभी ना करना ~ हम तन्हा ज़रूर है मगर फ़ज़ूल नहीं

सच है तुम्हे किसी से न मतलब न कुछ गरज, ~ दिन रात घर में गैर के महमान हमी तो है

जिसको गलत तस्वीर दिखाई उसको ही बस खुश रख पाया….. जिसके सामने आईना रक्खा हर शख्स वो मुझसे रूठ गया………

कुछ लोगों का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने ~ और कुछ इस सोच में डूबे हैं की आज वो सोयेंगे कहां

तेरे वादे तू ही जाने मेरा तो आज भी वही कहना है ~ जिस दिन मेरी साँस टूटेगी उसी दिन तेरी आस छूटेगी…

चलते रहेंगे काफिले मेरे बगैर भी यहां… एक तारा टूट जाने से फलक सूना नहीं होता

“जितना कठिन संघर्ष होगा, उतनी ही शानदार जीत होगी।”

फिर बैठे बैठे वादा उसने कर लियाफिर उठ खड़ा हुआ वही रोग इंतज़ार का।

तेरी याद ही आखिरी सहारा थी ~ बडी भूल की तुझे भूल कर…

मुझ ग़ुलाब को नहीं मालूम, ~ किन दो पन्नों के बीच, मेरी लाश.. कब से दफ़न है… **************************************

इतनी बदसलूकी ना कर, ऐ जिंदगी ~ हम कौन सा यहाँ बार बार आने वाले हैं।

खामोश 🤫था मै ✊तुमनेकमज़ोर😟 समझ लिया🤨🤨

हर कोई पूछता है ‘करते क्या हो तुम . ~ कि जैसे..मोहब्बत कोई काम ही नही..!

लोग कहते है….. दुआ कबुल होने का भी वक्त होता है हैरान हु मै ,किस वक्त मैने तुझे नही माँगा

हुआ सवेरा तो हम उनके नाम तक भूल गए ~ जो बुझ गए रात में चरागों की लौ बढ़ाते हुए

परछाई से कभी मत डरिए क्यूंकि परछाई होने का मतलब रौशनी कहीं आस पास ही है।

हम 🤨तो अपने 😏दुश्मनों को भी❌ चाहते है,क्योकिं😯 उन्ही के😥 कारण तो🤟 हम Publicity पाते है♥️♥️♥️

बदले बदले से लगते हो क्या बात हो गयी ?शिकायत मुझसे है या किसी और सेमुलाकात हो गयी ।

सुन बेटा🤨टेंसन में सिर्फ़😥 तु नहीं तेरा❌ पुरा ख़ानदान 🤟होगापंगा 😇जो मुझसे ✊लियाअब 🤨देख क्या 😒बुरा बुरा अंजाम✊ होगा

आजकल सफाईयां देना छोड़ दी है मैंने,हां मैं बहुत बुरी हूँ, यही सीधी सी बात है.

हम 😇अपना Attitude🤟 तो वक्त 🕦आने पर दिखाएंगे, 😇शहर 🌃तू खरीद ✊उस पर राज़ 👑करके हम दिखाएंगे 🔥🔥🔥

ख़त्म हो रहा हूँ अपने ही अन्दर, ~ तुम्हें इतना ज़्यादा कर लिया है…

जब तुम्हें मुझे पाने का कोई शौक नहीं, तो मुझे भी तुमको खोने का कोई गम नहीं !!

कभी अपनी हसरतों को एक तरफ करके देखना ~ बहुत अकेले नजर आओगे!

डूबती कश्तियाँ थीं टूटते तारे थे कई हम ही कुछ समझे नहीं वरना इशारे थे कई ये अलग बात कि तिनके भी किनारा कर गए डूबने वाले ने तो नाम पुकारे थे कई!!!

जिस्म की दरारों से रूह नज़र आने लगी है, बहुत अंदर तक तोड़ गया है इश्क़ तुम्हारा !

सब छोड रहे हैं मुझे अपना बनाकर, ऐ जिंदगी तुझे भी इजाजत है… *************************************

कुछ तुजे पाने निकले .. कुछ मुजे समजाने निकले…

जिसकी आधी जिंदगीरसोई में ही चली जाती है।वह कोई और नहीं वह माँ होती है।

जो👍 चाहिए वो 🤨मेहनत से कमाऊँगा🤑🤑मेरी 🙏माँ ने किसी 😁की तरक्की पर🔥 जलना नही सिखाया💥💥💥

आखिर कैसे भुलादे हम उसे ~ मौत इन्सानो को आती है यादों को नहीं!

खो कर पछतावोगेना हम होंगे ना हमसा कोई और !

तेरे बदलने का दुःख नहीं हैं मुझकों,हम तो अपने यकीन पर शर्मिंदा हैं..Tere badalne ka dukh nahi hain mujhko,Hum toh apne yakeen par sharminda hain…

तुम क्या समझ पाओगी मेरे प्यार की कशिश, ~ जिसने फ़र्क़ ही नहीं समझा पसन्द और प्यार में.

जिस🤨 दिन इसे😯 जान जायेगा,🤟उस🤨 दिन जान😣 से जायेगा🔥🔥🔥

**

कितनी अजीब बात है ना!तकलीफ आते ही मुंह सेपहला शब्द माँ ही निकलता है।

बच्ची को धुप में रोते हुवे देखा, ~ क्या Fashion ने माँओं के आँचल जला दिए

वाह वाह कहने की आदत डाल लिजीये, मोहब्बत में अपनी बरबादियां लिखने का वक़्त आ गया हमारा…

होती है बड़ी ज़ालिम एक तरफ़ा मोहब्बत वो याद तो आते हैं मगर याद नहीं करते…!!!

तेरी याद के बिनाकुछ वक्त बिताया हैतेरे वादे की तरहहम भी खामोश गए।

इस तरह से छोड़ दिया उसने मुझे ~ जैसे रास्ता हो कोई गुनाह का

माँ की जरुरत हर उम्र में होती हैं।उम्र चाहे कितनी भी हो जाए,लेकिन सुकून तभी मिलता हैजब माँ अपना हाथ हमारे सर पर रखती हैं।

दिल के लिये हयात का पैगाम बन गईं ~ बैचैनियाँ सिमट के तेरा नाम बन गईं!!!

जलाओ वो शमा जिसे आँधी बुझा न सके,बनो वो चेहरा जिसे कोई मिटा न सके!

“हर बदलाव का स्वागत बांहे खोलकर करना चाहिए।”

ज़िन्दगी गुलज़ार है इसलिए यहाँ ग़मों को बांटना बेकार है।

Maa Shayari in Hindiतेरी डिब्बे की वो दो रोटिया कही बिकती नहींमाँ मेंहगे होटलों में आज भी भूख मिटती नहीं

ठहर 😌सके जो😍 लबों पे हमारे,🤟हँसी😁 के सिवा 😜है मजाल 🙄किसकी।🔥🔥🔥

जमाने भर की नीयत ‘बेनकाब’ हो गयी.. *************************************

ये कैसी मोहब्बत है की मै किस खुमार में हूँ, वो आके जा चुकी है मै अब भी इंतजार मे हूँ

जीत हासिल करनी हो तो काबिलियतबढाओ किस्मत की रोटी तो कुत्तों को भीनसीब हो जाती है.. ।।

गुज़रे हैं ऐसे हालात से,जहाँ आकर सभी गुज़र जाते हैं,जो अपने दर्द को ही दवा बना ले,उसपर किया गया हर वार बेअसर जाते हैं।

जिंदगी जीनी है तो हर, हाल में चलना सीख लो, खुशी हो या गम हर माहौल, में रहना सीख लो !

जुल्म हुआ तो खुदा से फरियाद कर ए बन्दे, ~ अदालतों में अब इंसाफ नही तमाशे होते है

अब तलक ये समझ ना पाए, हम ग़म तेरा क्यूँ ख़रीद लाये हम, इक हवेली थी मोम की, अपनी छत पे सूरज उतार लाये हम

अनजान राहों पर चल रहा था, ज़िंदगी से मुलाकात हो गई !

दोस्तों 🙏मुझे खैरात😯 में मिली हुई😁 खुशियां अच्छी❌ नही लगती क्योंकि🙄 में अपने😟 गमों में भी रहता👍 हूं नवाबों की तरह💥💥💥

कामयाबी🤟 की राह पर 😯चले है तो 🤨कुछ दुश्मन भी😬 बनेंगे साहब👍 अब सब का 🙄पसंदीदा बन जाऊ🤟यार मे पैसा 🤑थोड़ी हूं.😣😣😣

इंकार जैसी लज्जत इक़रार में कहाँ ~ बढ़ता रहा इश्क ग़ालिब, उसकी नही-नही से..

चाहे घर में कितने ही कमरे हो,लेकिन रौनक वही होती हैजहां पर “माँ” बैठी हो।

Recent Posts