2150+ Kasam Shayari In Hindi | कसम पर शायरी

Kasam Shayari In Hindi , कसम पर शायरी
Author: Quotes And Status Post Published at: October 2, 2023 Post Updated at: October 25, 2023

Kasam Shayari In Hindi : कसम से बहुत सताते हो तुम,अक्सर बिना आवाज, बिना दस्तक, दबे पाँव,मेरे ख्यालों में चले आते हो तुम… हम तुम्हे कभी खोना नहीं चाहते,कसम खुदा की तुम्हारे सिवा,हम किसी और के होना नहीं चाहते…

समंदर न सही पर एक नदी तो होनी चाहिए, तेरे शहर में ज़िंदगी कहीं तो होनी चाहिए !

दोनों ही बातों से तेरी एतराज है मुझको ~ क्यूँ तू जिंदगी में आई,और क्यूँ चली गई!!!

बेहिसाब हसरते ना पालिये, जो मिला हैं उसे सम्भालिये।

दोस्तों🤟 एक बात🤨 तो है 👍 शरीफ लोगों ✊की शराफत 🙏और हमारा 🤨कमीनापन किसी😯 को अच्छा 👍नही लगता🔥🔥🔥

जान में जान बाक़ी है ~ तो इम्तहान बाकी है…

जो भी Whats app से वक़्त बचता है, ~ तेरी यादों मे बीत जाता है…

इक तुम्हारे सिवा कौन है मेरा ~ फ़िर तन्हा किस के सहारे छोड़ देते हो

ज़िंदगी में कुछ खत्म होना जरूरी होता है, कुछ नया शुरू करने के लिए !

उम्र ए रवानी फिर ना मुस्कराई बचपन की तरह, हमने बड़ों के खिलौने भी ख़ूब खरीद के देख लिए *************************************

जिंदगी बहुत तेज भगाती है , बचपन गुजर जाने के बाद .!!” *************************************

रात खोले थे कुछ पुराने ख़त, ~ फिर मुहब्बत दराज़ में रख दी

रोई है किसी छत पे, अकेले ही में घुटकर, उतरी जो लबों पर तो वो नमकीन थी बारिश।

उड़ रही है पल पल ज़िन्दगी रेत सी, ~ और हमको वहम है की हम बडे हो रहे है

मिटा दिये हैं सभी फासले तुम्हारी मोहब्बत ने, ~ मेरा दिमाग धड़कता है मेरे दिल की तरह…

कौन कहता है कि बचपन वापस नहीं आता,कभी माँ की गोद में सर रखकर तो देखो,😌😌बड़े होने का मन ही नहीं करेगा।Love you maa 😘😚

युँ तो मुद्दते गुजार दी है हमने तेरे बगैर.. ~ मगर आज भी तेरी यादों का एक झोंका ~ मुझे टुकड़ो में बिखेर देता है …

“तुम्हारा दोस्त बनना ही हमेशा से मेरी चाह थी और तुम्हारा प्रिय बनना ही मेरा सपना था।”

जिंदगी में थक तो वो भी जाती हैलेकिन हमारी खुशी के लिएवह बेहद मेहनत भी करती रहती है

बिन मांगे ही मिल जाती है मोहब्बत किसी को,और कोई हजारो दुआओं के बाद भी खाली हाथ ही रह जाता है.

राख़ तले चिंगारी रख़ कुछ तो पर्दा दारी रख़ अम्न ज़रूरी है लेकिन जंग की भी तैयारी रख़

ये आंसू है इन्हें फूलों में शबनम की तरह रखना ग़ज़ल एहसास है एहसास का मातम नहीं होता

जिंदगी के हर दर्द कीऔर हर सुकून कीबस एक ही दवा हैऔर वह है माँ।

कुरेद कुरेद कर बड़े जतन से हमने रखे हैं हरे, ~ कौन चाहता है की उनका दिया कोई ज़ख्म भरे…

हकीकत 😓 जान लो जुदा होने से पहले, मेरी सुन लो 😝 अपनी सुनाने से पहले, 😥 ये सोच लेना भूलने से पहले, 😮 बहुत रोई हैं ये आँखें 😌 मुस्कुराने से पहले.

कभी कभी वो मुझे इतना याद आता है ~ कि मैं ज़िद में आ के कुछ और याद करता हूँ

कायदे बाजार के इस बार उल्टे हो गए! ~ वो तो आए ही नहीं और फूल महँगे हो गए! **************************************

गैरों से कहा तुमने गैरों से सुना तुमने ~ कुछ हमसे तो कहा होता कुछ हमसे तो सुना होता…

Maa Par Shayari Status in Hindiडांट कर बच्चो को खुद अकेले में रोटी हैवो माँ है साहब जो ऐसी ही होती है

बिन 😍 मेरे रह ही जाएगी कोई न कोई कमी 😀 तुम ज़िंदगी को जितनी 😰 मर्जी सँवार लेना ।

वो अनजान चला है,जन्नत पाऩे की खातिर ~ बेखबर को इत्तला कर दो,कि माँ-बाप घर पर ही है..

शेर 🦁घायल 😯है मगर दहाड़ना🐯 नहीं भूला🤟…एक बार 😱में सौ को 🤨पछाड़ना 😏नहीं भूला❌❌

ख़राब हम नहीं हमारी किस्मत है जहां भी जाते है अकेले ही रह जाते है. khrab Hum nahi humari kismat hai jahan bhi jate hai akele hi reh jate hai.

वक़्त ने ज़रा सी करवट क्या ली गैरो की लाइन में सबसे आगे पाया अपनों को !!

दो 😂 तरह से देखने में इन्सान 😝 छोटे नजर आते है, एक दूर से 😱 और एक गुरुर से.

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद है की नहीं वही यानी वादा निभाने का तुम्हें याद है की नहीं।

तेरे बिना ज़िन्दगी से कोईशिकवा तो नहींतेरे बिना पर ज़िन्दगी भी लेकिनज़िन्दगी तो नहीं

बेबसी किसे कहते हैं ये पूछो उस परिंदे से, जिसका पिंजरा रखा भी, तो खुले आसमान के तले… *************************************

सूखे फूलों की तरह हम शायद ~ गिर चुके हैं तेरी किताबों से

सच कहती थी माँ की जब तक मैं हूंतब तक कर ले मनमानीबाद में पता चलेगा कि जिंदगी क्या है?

Maa Facebook Whatsapp Shayari Statusना अपनों से खुलता है और ना ही गैरो से खुलता हैजन्नत का दरवाजा मेरी माँ के कदमो से खुलता है

फिर पलट रही हैं सर्दियों की सुहानी रातें, फिर तेरी याद में जलने के जमाने आ गए।

जिंदगी में जो कभी हमसेखफा नहीं होती वह माँ ही होती है।

मुक्कमल सी तब लगती है शायरी…मेरी लफ्ज़ जब सारे मेरे हों और ज़िक्र सारा तेरा !

कुछ पता नही ये दिल सुधर गया,या किसी की मोहब्बत में उजड़ गया.

न जाने किस ख्याल से इक दस्तकार ने…. ~ घुँघरू के मीठे बोल को पायल में रख दिया

गलतफहमी निकाल दो अपनीशरीफ़ सिर्फ चेहरा है हम नही.!

कुछ बुंदे पानी की… ना जाने कब से रुकी हैं पल्कों पे… ~ ना ही कुछ कह पाती हैं… और… ना ही बह पाती हैं….!!!

कमाल 🤟करते है👍 हमसे जलन 🔥रखने वाले,महफ़िलें😇 खुद की🤟 सजाते है🔥🔥और 😯चर्चे हमारे 🤟करते है💥💥

तुम 😝 से उल्फत के तकाज़े निभाये न 😮 जाते वरना हमको भी तमन्ना थी 😓 के चाहे जाते

खुल जाती हैं गाँठें बस जरा से जतन से…. ~ मगर लोग कैंचियां चलाकर सारा फ़साना बदल देते हैं…..

जिसने राज बहुत से दफन हैं,एक ऐसा कब्रिस्तान हूं मैं,मेरी शायरी पर यकीन मत करना,एक बेवफा इंसान हूं मैं.!

पायेदारी क्या कि एक ही लहर से गिर गए ~ कुछ मकां तूफ़ान की झूठी खबर से गिर गए!

सारा ही शहर था जनाजे मे उसके शरीक, तन्हाईयो के खौफ से जो शख्स मर गया… *************************************

मेरी हैसीयत का अंदाज़ा ये सोंच के लगा लो ~ हम उसके नहीं होते जो हर किसी के हो जाते हैं

तेरे लहज़े से याद आया, ~ मौसम कितना… बे-ईमान है…

बादशाह बनने के लिए लोगोपर राज नहीं दिलों पर राजकरना पड़ता है।

जिंदगी में कभी कोई यह नहीं कहता किहमसे भी आगे निकलो।लेकिन एक माँ ही ऐसी शख्स होती है।जो हमेशा यह दुआ देती हैं, कि हमसे भी आगे बढ़ो

एक बार फिर इश्क़ करेंगे हम,अभी सिर्फ भरोसा उठा है जनाजा नहीं।।

जिन्दगी तू ही बता कैसे तुझसे प्यार करू ! तेरी हर एक सुबह मेरी उम्र कम कर देती है !

थक कर बैठे हैं हार कर नहीं ~ सिर्फ बाज़ी हाथ से निकली है ज़िंदगी नहीं **************************************

खौफ तो आवारा कुत्ते भीमचाते हैं पर दहशत हमेशाशेर की ही रहती है।

अपनी तनहाई तेरे नाम पे आबाद करे कौन होगा जो तुझे मेरी तरह याद करे…!!!

उनके ही साथ चल रही क़ायनात ये सारी और किसी में भी मौजूद ये अंदाज़ नहीं हैं

वो बड़ा लाजवाब और बाजवाब शख्श था, ~ बस एक मोहब्बत के सवाल में उलझ गया…

भाई ♥️बोलन का हक़ मैंने ✊सिर्फ दोस्तों को🤟 दिया है 😦वरना दुश्मन तो 😣आज भी हमें 😯बाप के नाम ✊से पहचानते हैं 💥💥💥

पहचान कफ़न से नहीं होती हैं दोस्तोंलाश के पीछे काफिला बयां कर देता हैंरुतबा किसी हस्ती का हैं.!

बात कोई भी हो जिकर तो मेरा ही आता है

Shayari Maa ke Liyeकौन सी है वो चीज़ जो यहाँ नहीं मिलतीसब कुछ मिल जाता है पर माँ नहीं मिलती

सबका ध्यान रखने में“माँ”खुद अपना ध्यान रखना भूल जाती है।

बीमारी में भीखुद की परवाह से बेपरवाह रहती हैएक माँ ही तो होती हैजो सब कुछ सह कर भीबच्चों का ख्याल रखती है

उन्हे हम याद आते है मगर फुर्सत के लम्हों में, मगर ये बात ~ भी सच है की उन्हे फुर्सत नहीं मिलती..

उड़ा दो सारी रंजिशें इन हवाओं में , ~ छोटी सी जिंदगी है , नफ़रत कब तक करोगे….. ???

Recent Posts