2138+ Kabiliyat Shayari In Hindi | Best Kabiliyat Shayari Collection

Kabiliyat Shayari In Hindi , Best Kabiliyat Shayari Collection
Author: Quotes And Status Post Published at: October 2, 2023 Post Updated at: November 6, 2023

Kabiliyat Shayari In Hindi : जिन्दगी में सफलता पाने के लिए,थोड़ा जोखिम उठाना पड़ता है,सीढ़ियाँ चढ़ते समय ऊपर जाने के लिए,नीचे की सीढ़ी से पैर हटाना पड़ता है… ना पूछो कि मेरी मंजिल कहाँ है,अभी तो सफर का इरादा किया है,ना हारूंगा हौंसला उम्र भर,ये मैंने किसी से नहीं खुद से वादा किया है…

डर मुझे भी लगा फ़ासला देख कर,लेकिन मैं बढ़ता गया रास्ता देखकर,खुद-ब-खुद मेरे नजदीक आती गई,मेरी मंजिल, मेरा हौसला देखकर…

हमने तरक्की का राज क्या खोला, सारे अपने नीलाम हो गए।

बात ये नहीं कि तेरे बिना जी नहीं सकते ~ ज़िद ये हैं कि तेरे बिना जीना नहीं हमें!!!

बाद में पछतावा करने से अच्छा हैं, एक बार और जी जान लगा कर कोशिश कर ली जाए !

ज़िन्दगी में तनहा हु तो क्या हुआ…, ~ जनाजे में सारा शहर होगा देख लेना…

है होंठ तेरे किताबों में लिखी तहरीरों जैसे, ऊँगली रखो तो आगे पढने को जी करता है…

आपके सारे सपने साकार होंगे केवल धैर्य के साथ परिश्रम करते रहिए .

चुनौतियों से तू क्यों डरता है, उनका सामना करना सीख क्यूकि चुनौतियां ही तुझे, तेरे महान सफलता के लिए तैयार करेगी।

अक्सर वो इंसान खुद से रूठ जाता है ,जो दूसरो को मनाने की,बेशुमार काबिलयत रखता है।

उन लोगों के सामने हमेशा खुश रहो , जो आपको खुश ना देखना चाहते हों

“बहुत मेहनत लगती है साम्राज्य बनाने में, पर जब बनता है तो राजा भी आप ही होते हो।”

हमारी हँसी मिटाने की कोशिस में,ना जाने कितनो का वजूद मिट गया.

जब कि पहलू से यार उठता है दर्द बे-इख़्तियार उठता है

वो रोता बहुत ज्यादा है, पर पता लगने नहीं देता मर्द की हैसियत से नीचे खुद को उतरने नहीं देता …

बूझी शमां भी जल सकती है,तूफ़ान से कश्ती भी निकल सकती है।होके मायूस यूँ ना अपने इरादे बदल,तेरी किस्मत कभी भी बदल सकती है।

अपनी सोच बदल दीजिए , आपकी दुनिया अपने आप बदल जाएगी

◆ जब आपको अपनी तारीफ़ सुनकर मजा आये, तो समझ लेना, सफलता आप से बहुत दूर हैं।

बेख़बर हो गये हैं कुछ लोग, जो हमारी ज़रूरत तक महसूस नही करते, कभी बहुत बातें किया करते थे हमसे, अब ख़ैरियत तक पूछा नही करते…

मैं खुद पहल करूँ या उधर से हो इब्तिदा ~ बरसों गुज़र गएँ हैं इसी पशोपेश में!!!

सारा ही शहर था जनाजे मे उसके शरीक, तन्हाईयो के खौफ से जो शख्स मर गया… *************************************

आपको शुरुआत करने के लिए महान होना ज़रूरी नहीं है ! आपको महान बनने के लिए शुरुआत करनी होगी !!”

मौसमें मिज़ाज़ गुलज़ार कर गये.. ~ उफ़्फ़् वो मुस्कराकर, कर्ज़दार कर गये….

◆ किसी ने कहा था सफलता की बस तीन बातें है, खुद से वादा, मेहनत ज़्यादा, और मजबूत इरादा।

“अगर चाहते हो कि सूरज की तरह दमकना तो रोज उगाना सीखो”

“फ़िक्र करता है क्यों, से होता है क्या, रख भगवान पे भरोसा देख फिर होता है क्या। ”

बदला वफ़ा का देंगे बड़ी सादगी से हम तुम हम से रूठ जाओगे और जिंदगी से हम!

मुश्किलों से भाग जाना आसान होता है,हर पहलू ज़िन्दगी का इम्तेहान होता है।डरने वालों को मिलता नहीं कुछ ज़िन्दगी में,लड़ने वाले के कदमों में जहान होता है।

मसला दिल का कभी कभी उलझ जाता है पर उससे बढ़कर कोई भी हमराज़ नहीं है

कभी टूटते है तो कभी बिखरते हैं,विपत्तियों से ही इन्सान,,ज्यादा निखरते हैं।

◆ मंजिल उन्हें नही मिलती जिनके ख्वाब बड़े होते है, मंजिल उन्हें मिलती है… जो डट कर खड़े होते है।

साथ रहने की औकात बनानातभी लौट के वापस आना.

हम तो आँखों में संवरते हैं वहीं संवरेंगे हम नहीं जानते आईने कहाँ रखें हैं!!

याद रखिए अपमान का बदला लड़ाई करके नही सामने वाले व्यक्ति से ज्यादा सफल बनकर लिया जाता है ।

रिश्ते उन्ही से बनाओ जो निभानेकी औकात रखते हो, ~ बाकी हरेक दिल काबिल-ऐ-वफा नही होता ।

सबके कर्ज़े चुका दूँ मरने से पहले ऐसी मेरी नीयत है ~ मौत से पहले तू भी बता दे ज़िंदगी तेरी क्या कीमत है!!!

जिंदगी तेरी , सपने तेरे , मंजिले तेरी तो फिर मेहनत भी तो तुझे ही करना होगा ना ।

हम हौसला बहुत रखते है, लोग तो ऐसे ही जलते रहेंगे, हम आगे बढ़ने का जुनून कुछ अलग रखते है।

बुझी समा भी जल सकती है , तुफानों से भी कस्ती निकल सकती है , होके मायूस यूं ना अपने इरादे बदल, तेरी किस्मत कभी भी बदल सकती है ।

हादसों की गर्द से ख़ुद को बचाने के लिए माँ ! हम अपने साथ बस तेरी दुआ ले जायेंगे ****************************************

जिस किसी ने ठुकराया आपको, क्यों उसको याद करें. अभी तो पूरी जिंदगी पड़ी है चलो एक नई शुरुआत करें.

बच्ची को धुप में रोते हुवे देखा, ~ क्या Fashion ने माँओं के आँचल जला दिए

सिर्फ सुकून ढूढ़िए जनाबजरूरतें तो कभी ख़त्म नहीं होंगी

तु विजेता है मेरे दोस्त,तुझे कोई हरा नहीं सकता।तु कुछ नहीं कर सकता कहकर,तुझे कोई डरा नहीं सकता।

अजब क़िस्म के अन्धो से मिलता हूँ रोज़… वो जो पत्थर में खुदा ढूंढ लेते हैं मगर दिल में नहीं..

मोहब्बत नापने का कोई पैमाना नहीं होता कहीं तू बढ़ भी सकता है कहीं तू मुझ से कम होगा

आँखे न फाड़ पगली दिल को आराम दे ,मुझे क्या देखती है अपने वाले पर ध्यान दे.

कोई भी लक्ष्य इंसान के संघर्ष से बड़ा नहीं !हारा वही जो लड़ा नहीं !!

किनारों से मुझे ऐ नाख़ुदा दूर ही रखना.. ~ वहाँ ले कर चलो, तूफ़ान जहां से उठने वाला हैं।

दुनिया हमसे ही चिढ़ती है, अक्सर हमसे ही भिड़ती है।

“मुझे तो अपनी हद में रहना पसंद है पर क्या करूं लोग इसे गुरुर समझते हैं”

कर्म करो बस तुम अपना लोग उसे जानेगें ही,आज नहीं तो कल ही सही लोग तुम्हें पहचानेगें ही।

कैसा डर है जो दिन निकल गयाअभी तो पूरी रात बाकी है,यूँ ही नहीं हिम्मत हार सकता मैंअभी तो कामयाबी से मुलाकात बाकी है।

अलविदा कहते हुए,जब उससे कोई निशानी मांगी वो मुस्कुराते हुए बोली जुदाई काफी नही है.क्या ?

हमने तो खुद से इंतकाम लिया ~ तुमने क्या सोचकर मुहब्बत की ?

सफलता तब मिलती है, जब आपके सपने,आपके बहानों से भी ज्यादा बड़े हो जाते हैं।

मिल ही जाएगी मंजिल भटकते भटकते,गुमराह तो वो हैं जो घर से निकले ही नहीं।

कभी हार मत मानो , आज कठिन है कल और भी बदतर होगा ,लेकिन परसों धूप खिलेगी    – जैक मा

अभी ज़रा वक़्त है उसको मुझे आज़माने दो ~ वो ख़ुद बुलायेगा मुझे बस मेरा वक़्त तो आने दो

इस स्वार्थी दुनिया में जीना है तो सोते हुए भी पैर हिलाते रहो…* ~ वर्ना लोग मरा हुआ समझ कर जलाने में देर नहीं लगाएंगे…

दो दिन की जिंदगी हैं,दो दिन जिना हैं।आज हो या कल खुद को,हमें खुद ही संभल जाना हैं।

सूखे पत्ते भीगने लगे हैं अरमानों की तरह मौसम फिर बदल गया इंसानों की तरह!!!

सुनो, तुम भी तो कभी आओ… हर रोज़ अपनी याद भेज देते हो बस.

खुल जायेंगे बंद रास्ते तू मुश्किलों से लड़ तो सही हासिल होंगे तेरी मंजिलें तू जिद पर अड़ तो सही।

“🔥🔥 मुझमें हज़ार कमियां हैं। माफ़ कीजिए पर आप भी तो अपना आईना साफ़ कीजिए… 🔥🔥”

रह कर खामोश वो मेरी बात सुनता गया ~ कभी-कभी ऐसे भी मेरी हार हुई है…

दूर से हमें आगे के सभी रास्ते बंद नजर आते हैं,क्योंकि सफलता के रास्ते हमारे लिए तभी खुलते,,जब हम उसके बिल्कुल करीब पहुँच जाते है।

ऐसी कोई भी मंजिल नहीं है जहां तक पहुंचने का कोई रास्ता ना हो ।

तेरे बगैर इस मौसम में वो मजा कहाँ, ~ कांटो की तरह चुभती है दिल में बारिश की बूंदे.. *************************************

शोरगुल मचाने से नाम नहीं बनता,काम ऐसा करो की ख़ामोशी भी अखबारों में छप जाए.

तुम यहाँ धरती पर लकीरें खींचते हो​,हम वहाँ अपने लिये नये आसमान ढूँढ़ते हैं।​तुम बनाते जाते हो पिंजड़े पे पिंजड़ा​,हम अपने पंखों में ​नयी उड़ान ढूँढ़ते हैं।

“किसी को बदलने के लिए नहीं कुछ बदलाव लाने के लिए मेहनत करो”

गम की इन अंधेरी रातो में,दिल को तू न बेकरार कर।ऐ नादान ! सुबह ज़रूर आएगी,तू सुबह तक का तो इंतेज़ार कर।

Recent Posts