1348+ Hath Shayari In Hindi | Hath Shayari Status In Hindi

Hath Shayari In Hindi , Hath Shayari Status In Hindi
Author: Quotes And Status Post Published at: September 27, 2023 Post Updated at: October 11, 2023

Hath Shayari In Hindi : हाथ हर किसी से मिलाया करो,पर दिल सिर्फ दिलवाले से ही मिलाया करो. मेरे हाथों में तू अपना हाथ दे दें,जिन्दगी खुशी से गुजर जाएं अगर तू साथ दे दें.

जब-जब कागज पर लिखा मैंने माँ का नाम,कलम अदब से बोल उठी हो गये चारों धाम।

माँ भगवान से भी ज्यादा कीमती है,क्योंकि भगवान ने तो हमारी किस्मत मेंसुख और दुख दोनों लिखे हैं।जबकि माँ सिर्फ सुख ही लिखती है।Love you MAA😘😘

तेरे हर दर्द को हम अपना समझते है, तेरे हर गम को हम अपना समझते है, ए सनम तू भी कभी हमे अपना समझ कर देख, तेरे कदमों में जहां रख देंगे !!

चाहे घर में कितने ही कमरे हो,लेकिन रौनक वही होती हैजहां पर “माँ” बैठी हो।

बार-बार नजरें तुम पर ही क्यूँ ठहरती हैं,जैसे पिछले जन्म की अधूरी मोहब्बत होंतुम…❣️🥀

कहता है पल पल तुमसे हो कर दिल ये दिवाना,एक पल भी जाने जाना हमसे दूर नही जाना.

हर बात पर किसी से नही उलझता है, मेरा बड़ा भाई मुझे बहुत समझता है।

“एक पिता के चेहरे की मुस्कान उसके बच्चे के पूरे दिन को रोशन कर देती है।” —सुसान गाले

मेरे हाथों की लकीरों में तू नही,पर मेरे दिल में तेरे सिवा कोई और नही.

बातों में आकर किसी की मुझे छोड़ तो रहे हो तुम, लेकिन याद रखना मैं याद आऊंगा बहुत !!

बन्द आँखों में चले आते हो मेरी अपनों की तरह,और आंख खुलतें ही चले जाते हो सपनो की तरह.

हुए पागल के अब कैसे कहें, हाँ एक मर्ज़ था जिसे मोहब्बत कहते हैं

जिसके होने से मैं खुद को मुक्कम्मल मानता हूँ, में खुदा से पहले मेरी माँ को जानता हूँ।

बहुत अच्छे से वो अपना किरदार निभाते हैं बेईमान हैं बेईमानी से साथ निभाते हैं

पिता के लिए बेटी होती है परी, घर के खुशियों की होती है कली।

खूबसूरती की इंतहा बेपनाह देखी…जब मैंने मुस्कराती हुई माँ देखी..

माँ की बूढी आंखों को अब कुछ दिखाई नहीं देता,लेकिन वर्षों बाद भी आंखों में लिखा हर एक अरमान पढ़ लिया।

माना कि तू पढ़ी-लिखी नहीं है,लेकिन जिंदगी को पढ़ना तोमुझे तूने ही सिखाया है ” माँ “

माँ खुद भूखी होती है, मुझे खिलाती है, खुद दुःखी होती है, मुझे चेन की नींद सुलाती है।

दुनिया में तो बहुत से दोस्त जाते है मिल, दोस्त जैसा मेरा बड़ा भाई ही है मेरा दिल।

बहुत शानदार ये रिश्ता अपना हैजिन पे बस खुशियों का पेहरा हेना बुरी नजर लगे इस रिश्ते कोक्योंकि मेरा भाई सारे संसार सेप्यारा है.

सुना था किसी से नाम तुम्हारा निकली मोहब्बत काम तुम्हारा हर कहीं घर बना के बैठे हो पता नहीं अभी तुम्हें अंजाम तुम्हारा

माँ के लिए शायरी घर में धन, दौलत, हीरे, जवाहरात सब आए, लेकिन जब घर में माँ आई तब खुशियां आई.

ख्वाहिश ए जिंदगी बस इतनी सी है कि, साथतुम्हारा हो और जिंदगी कभी खत्म ना हो…Love u.

कहते हैं कि दुनिया में पहला प्यारकभी भुलाया नहीं जा सकता।तो फिर लोग माँ का प्यारकैसे भूल जाते हैं?

मुश्किलें तमाम हो पर साथ तेरा हो गिरू अगर तो संभाले मुझे वो हाथ तेरा हो

बद्दुआ संतान को इक माँ कभी देती नहीं, धूप से छाले मिले जो छाँव बैठी है सहेज।

जिससे सब कुछ पाया है, जिसने सब कुछ सिखाया है, शत शत प्रणाम उस प्यारे पिता को।

उदासीयों की वजह तो बहुत हैं जिंदगी में,वेवजह खुश रहने का कारण तुमहों..!

जब जिंदगी से कभी थक हार जाओ,तो माँ की गोद में सर रखकर सो जाना,अगले ही पल तुम्हें हिम्मत महसूस होगी।Love you MAA😚😘

मेरा और मेरे भाई का रिश्ता है बहुत खास,क्योंकि वो मेरे दिल के है हुत पासअगर किसी ने देखा मुझे नजरे उठा के,अगले ही पल हो जायेगा उसका नाश।

छुपा लो मुझे अपने सांसो के दरमियां,कोई पूछे तो कह देना जिंदगी है मेरी..!

पिता के बिना जिंदगी वीरान है,सफर तन्हा और राह सुनसान है।वही मेरी जमीं वही आसमान है,वही खुदा वही मेरा भगवान है।

तेरी याद आये तो हथेलियाँ अपनी चूम लेती हूँ मैं,इतनी तो खबर है...कि तू मेरी लकीरों में रहता है!

वह औलाद बड़ी किस्मत वाली है।जिन्हें माँ के हाथ का खानानसीब होता है, वरना दुनिया मेंकितनों के पास खाना नहीं होता औरकितनों के पास माँ नहीं होती।

चुरा के दिल वो मुठ्ठी मे दबाएँ बैठे है, बहाना ये बनाते है के मेंहदी लगाएँ बैठे है.

रेस वो लोग लगाते हैजिसे अपनी किस्मत आजमानी होहम तो वो खिलाडी हैजो अपनी किस्मत के साथ खेलते है।।

जा ओ बेवफा तुझसे क्या शिकायत तूने तो मोहब्बत को धंधा बना कर रखा है

उसके रहते जीवन में कभी कोई गम नहीं होता,दुनिया साथ दे या ना दे पर माँ का प्यार कभी कम नहीं होता.

पैसों से सब कुछ खरीद सकते हो,लेकिन माँ की ममताकिसी कीमत पर नहीं मिल सकती।

इश्क़ क्या होता है तुम्हें बताऊंगा मैं बिछड़ने की भी रस्में निभाउंगा जा तो रहे हो मुझे छोड़ कर, मगर याद रखना मैं याद आऊंगा

मेरी पहचान आप हैं, मेरी जमीं और आसमान भी आप हैं पापा।

बुरे वक़्त की ये भी एक निशानी है हर अच्छा इंसान बुरा हो जाता है

मेरी रूह मेरी कब्र पर आकर कहती है जिसके लिए तू मर गया वो अब औरों पे मरती है

आँखों में आंसू और होठों पे मुस्कान रखते है, जब माँ की याद आए, दुनिया से छुप कर रो लेते है.

तकिए बदले हमने बेशुमार लेकिन तकिए हमें सुलाते नहीं, बेखबर थे हम कि तकिए में मां की गोद को तलाशते नहीं।

अंदाज़ा मेरी मोहब्बत का सब लगा लेते हैं.जब तुम्हारा नाम लेकर हम मुस्कुरा देते हैं..।

जिंदगी में मेरी खुशियो का आना बाकी हैमेरी सलामती के लिएमेरी मां की दुआ काफी है..

इस बात से भले ही सारी दुनिया जले,मेरे हिस्से की खुशियाँ भी भाई तुझे मिले।

दिल का एहसास जानना है तो प्यार करके देखो,अपनी आँखों में किसी को उतार कर तो देखो,चोट उन्हें लगेगी दर्द तुम्हे होगा,जरा अपना दिल एक बार हार कर तो देखो.

मुस्कान आती है चेहरे पर हमारी, जब उनकी यादों में सिर्फ और सिर्फ हम होते है.

कमाल की चीज़ हैं ये मोहब्बत अधुरीहो सकती हैं, पर कभी खत्म नहीं होंसकती !!

मेरी ज़िन्दगी में खुशियां तेरेबहाने से हैं आधी तुझे सताने से हैंआधी तुझे मनाने से हैं..।

बिना बताए मेरे मन की हर बात पढ़ लेते हैं, मेरे पापा मेरी हर बात मान लेते हैं।

मोहब्बत करना गलत नहीं हैंसाहब मगर,मेरी मोहब्बत से मोहब्बत करनागलत हैं।❣️❣️

माँ की अजमत से अच्छा जाम क्या होगा, माँ की खिदमत से अच्छा काम क्या होगा,खुदा ने रख दी हो जिस के कदमों में जन्नत, सोचो उसके सर का मुकाम क्या होगा।

बहुत होंगे दुनियां में तुम्हें चाहने वाले,मगर, इस पागल की दुनियां ही तुमहों …❣️❣️

खुदा भी उसके साथ होता है,जिसे भरोसा खुद के हाथ पर होता है.

गैरों से मुझे मोहब्बत होने लगी है जैसे जैसे अपनों को आज़माता जा रहा हूँ

सब खरीद सकते हो मतलब की इस दुनिया में, मगर कहां से खरीदोगे पिता का निःस्वार्थ प्यार।

किस किस से छुपाऊं तुम्हें,अब तो तुम मेरी मुस्कुराहट में भीनज़र आने लगें हो..!!

माँ की ममता,माँ का प्यार,माँ का गुस्सा औरमाँ के हाथ का खानासिर्फ किस्मत वालों को हीनसीब होता है।

मैं और मेरी सिगरेट!आज ना कुछ सुनने का मन है ना सुनाने का ,सिगरेट पी रहा हूं मन है हाथ पर बुझाने का।

जब नींद नहीं आती,तब मां की लोरी याद आती है।

इस गम का कही और बसेरा नहीं था वो मेरा था पर सिर्फ मेरा नहीं था

याद बनकर जो तू मेरे साथ रहती है तेरे इस एहसान का सौ बार शुक्रिया.

पागल तेरे पीछे कितने मौसम ख़राब किये किसे पता था तू एक दिन मौसम बन जाएगा

कैसे रोने दे सकता हूँ मैं उस शख्स को जिसे मैंने खुदा से रो रो कर माँगा है

जाए कहाँ अपना ये शहर छोड़ कर मगर इस शहर में अब अपना कोई नहीं

दुआएँ माँ की पहुँचाने को मीलों मील जाती हैं, कि जब परदेस जाने के लिए बेटा निकलता है।

सख्त राहों में भी आसान सफर लगता है,यह मेरी मां की दुआओं का असर लगता है।

उसूल है एक मेरे प्यार का, कबूल उनके नखरे हज़ार है.

Recent Posts