1721+ Hate Shayari In Hindi | I Hate You Love Shayari

Hate Shayari In Hindi , I Hate You Love Shayari
Author: Quotes And Status Post Published at: September 14, 2023 Post Updated at: October 19, 2023

Hate Shayari In Hindi : इतनी नफरत हैं उसे मेरी मोहब्बत से, उसने अपने हाथ जला लिए मेरी तकदीर मिटाने के लिए, एक झूठ मैने तुमसे कहाँ मुझे नफरत हैं तुमसे, एक झूठ तुम भी कह दो तुम्हें मोहब्बत हैं मुझसे,

तकलीफें तो हज़ारों हैं इस ज़माने में💔बस कोई अपना Nazar अंदाज़ करे 😏तो बर्दाश्त नहीं होता 💔

​नफरत इतनी भी नहीं करनी चाहिए कि किसी का अहित करने का मन में विचार आए। ​👎❤️⃠

दर्द ही सही मेरे इश्क का इनाम तो आया, खाली ही सही हाथों में जाम तो आया, मैं हूँ बेवफ़ा सबको बताया उसने, यूँ ही सही, उसके लबों पे मेरा नाम तो आया।

नफरत जिस व्यक्ति के हृदय में घर बना लेती हैवह व्यक्ति फिर खुद से भी प्रेम करना छोड़ देता है।

नहीं था मुझसे प्यार, तो पहले ही बता देती मुझे, मुझे प्यार के झूठे सपने दिखा कर, क्यों धोखा देती थी तुम मुझे।

मेरे दिल ने उस पर यकीन किया था, नफरत क्यों करुँ अगर उसने दिल तोड़ दिया,

मोहब्बत करने से फुरसत नहीं मिली यारो, वरना हम करके बताते नफरत किसको कहते है !!

टूट कर चाहा था तुम्हे 💓और तोड़ कर रख दिया तुमने मुझे 😢

किसी ने खूब कहा हैं !!मोहब्बत नहीं जनाब !!यादे रुलाती हैं !!

कामयाबी के बाद अछाईयों की नज़रअंदाजगी करने वाले वो होते है जो आपसे नफरत करते है।

यकीन नहीं दिलाना पड़ता दुनिया को नफरत का,पर सबूत देना पड़ता है मोहब्बत का,|

नफरत करने वाले भी गज़ब का प्यार करते हैं मुझसे जब भी मिलते हैं कहते हैं कि तुझे छोड़ेंगे नहीं

परेशानियां थी पर उनसे !!हम अनजान ही रहे !!रात आई फिर उनके !!ख्वाबो के तराने निकले !!

जरूरत है मुझे नये नफरत करने वालों की,पुराने तो अब मुझे चाहने लगे है |

“ न मोहब्बत संभाली गई,न नफरतें पाली गईं,अफसोस है उस जिंदगी का,जो तेरे पीछे खाली गई…!

यकीन भी रखा सबर भी किया इंतज़ार के सब हद भी पार किया,नाही तो वक़्त बदला और नहीं खुशियां नसीब हुई, |

“ बैठ कर सोचते हैअब कि क्या खोया क्या पाया,उनकी नफरत ने तोड़ेबहुत मेरी वफ़ा के घर..!!

घृणा एक ठंडी आग हैऔर यह कोई गर्माहट प्रदान नहीं करती

प्यार करता हूँ इसलिए फिक्र करता हूँ, नफरत करुगा तो जिक्र भी नहीं करुगा,

“ दिलों में गर पली बेजाकोई हसरत नहीं होती,हम इंसानों को इंसानोंसे यु नफरत नहीं होती…!!

तरक्की के दौर में नफरत लिये फिरते हैं,जब अंहकार टुटता तो दर दर भटकते है,|

“ मेरे दिल को यु कैदना कर, ए पगली,दिल के नवाब हे,तेरे पिंजरे के पंछी नही…!!!

अपके खुबसूरत चेहरे की कायल हु मै.. अपके इस तिखे आन्दाज से घयाल हू मै.. आप जेयसे सुंदर हैं नही कोइ, पार अपके नजर मे मैं काबिल नेही !!

वक्त पर सुधर जाओ मेरे यारों, वरना जिंदगी सुधरने का मौका नहीं देती है !

आज मुझे देखकर मेरी खुशी भी रो गई !!बोली की थोड़ी मुस्कुराता भी नहीं !!और जब हम दूबे तो पानी को भी हेरानी हुई !!अजीब शेख है किसी को पुकारता ही नहीं !!

वो बोली I Hate You !!मेरी कसम खाकर बोलने को कहा तो !!पगली रोने लग गयी !!

“ तेरे नफरत को मैंने,प्यार समझकर अपनाया हैंप्यार से ही नफरत खत्म होता है,तूने ही तो समझाया है….!!!

“ ये दुनिया वाले मुझे यूँही सतायेंगे,मेरी कमियों को गिनाकर मुझे निचा दिखायेंगे…!!!

खोखले होते हैं वह इंसान,जो किसी से नफरत करते हैं।

जो मुझसे नफरत करे… अब मुझे वो ही पसंद है ऐ दोस्त , मोहब्बत करने वाले तो अक्सर … बर्बाद कर दिया करते है.

तुझे प्यार भी तेरी औकात से ज्यादा किया था !!अब बात नफरत की है तो नफरत ही सही !!

हो सके तो दोस्ती कर लेना !!पर दिल किसी से कभी न लगाना !!

गुजरे हैं तेरे इश्क़ में कुछ इस मुकाम से, नफरत सी हो गई हैं मोहब्बत के नाम से।

प्यार किया तुझसे एक खता हो गयी मुझसे अब सिर्फ जी रहे हैं नफरत से।

“ पूरा हक दोगे उसे निभाने का,तो तेरी नफरत भी कबूल करते हैं,,जो हमे खैरात में मिले उसकी तो….!!

“ ना जाने क्यु कोसते हैलोग बदसुरती को,बरबाद करने वाले तोहसीन चहेरे होते है…!!

“ एक गलतफ़हमी के चलते उन्होंनेहमसे रिश्ता तोड़ दिया,खुद से मेरी दूरियाँ बढ़ा कर सिर्फमुझे नफरत के लिये छोड़ दिया….!!

मोहब्बत करने से फुरसत नहीं मिली यारो,वरना हम कर के बताते की नफरत किसको कहते हैं।

“ हजार अच्छाइयाँ होनेपर भी नफरत के घूँट पी रहा हूँ,प्यार के काबिल होकर भीमें नफरत में जी रहा हूँ…!!

हमेशा समझौता करना सीखो ,क्योंकि थोड़ा सा झुक जाना !!किसी रिश्ते का हमेशा के लिए खो देने से बेहतर है !!

कोई गुस्सा हो तुम्हारी भलाई के लिए, समझ लेना उसके दिल में प्यार बहुत हैं तुम्हारे लिए,

देख कर उसको तेरा यूँ पलट जानानफरत बता रही है…तूने मोहब्बत गज़ब की की थी।

इश्क़ करे या नफरत इजाज़त है उन्हें, हमे इश्क़ से अपने कोई शिकायत नहीं।

​“मोहब्बत ना सही, कोई नफरत ही कर ले हमसे… सुना है लोग नफरतें, सच्चाई से किया करते हैं.!!” ​👎❤️⃠

​“तुझे प्यार भी तेरी औकात से ज़्यादा किया था, अब बात नफरत की है तो नफरत ही सही।” ​👎❤️⃠

चला जाऊँगा मैं धुंध के बादल की तरह,देखते रह जाओगे मुझे पागल की तरह,जब करते हो मुझसे इतनी नफरत तो क्यों,सजाते हो आँखो में मुझे काजल की तरह |

नफरतों के बाजार में प्यार बेचते हैऔर कीमत में बस दुआ लेते हैNafraton ke baajaar mein pyaar bechate hai Aur keemat mein bas dua lete hai

“ मैं नफरत करूँ,तुझसे इतनीअब तेरी औकात नहीं…!!

​“नही हो अब तुम हिस्सा मेरी किसी हसरत के, तुम बस काबिल हो बस मेरी नफरत के।” ​👎❤️⃠

दर्द ही सही मेरे इश्क का इनाम तो आया खाली ही सही हाथों में जाम तो आया मैं हूँ बेवफ़ा सबको बताया उसने यूँ ही सही, उसके लबों पे मेरा नाम तो आया

जीते थे कभी हम भी शान सेमहक उठी थी फिजा किसी के नाम सेपर गुज़रे हैं हम कुछ ऐसे मुकाम सेकी नफरत सी हो गयी है मोहब्बत के नाम से।

हमें बर्बाद करना है !!तो हम से प्यार करो !!नफरत करोगे तो !!खुद बर्बाद हो जाओगे !!

मैंने सोचा ही नहीं था कभी !!ये फसल इतने भी खराब जाएंगे !!मेरे अपने ही मेरी मोहब्बत को !!इक दिन कुछ यूँ तबह कर जाएंगे !!

समझ नहीं आता किस पर भरोसा करू,यहाँ तो लोग नफरत भी करते है प्यार की तरह।

​“क्यों फास्ले में नजदिकीयाँ हैं…! क्यों जिंदगी में तबदीलियां…!! क्यों तन्हा दिल ये मेरा कहें… तु आज भी है सिर्फ मेरा….!!!” ​👎❤️⃠

अगर इतनी ही नफरत है हमसे तो !!दिल से कुछ ऐसी दुआ करो !!की आज ही तुम्हारी दुआ भी पूरी हो जाये !!और हमारी ज़िन्दगी भी !!

ग़म की बारिश ने भी तेरे नक़्श को धोया नहींतू ने मुझ को खो दिया मैंने तुझे खोया नहीं

तुम से जो मोहबत थी ना,अब वो नफरत में बदल गयी है।

नहीं हो तुम हिस्सा अब मेरी हसरत के,तुम काबिल हो तो सिर्फ नफरत के,|

वो बोली I Hate You मेरी कसम खाकर बोलने को कहा तो पगली रोने लग गयी

दिल टुटना लाज़मी था इस शहर में, जहाँ हर कोई दिल में नफरत लिये चलता है,

“ खुदा सलामत रखना उन्हें,जो हमसे नफरत करते हैं।प्यार न सही नफरत ही सही,कुछ तो है जो वो सिर्फ हमसे करते हैं…!!

जो लोग कहते है कि उन्हें प्यार से बहुत नफरत है,ये वही लोग है जिन्हें प्यार में सिर्फ नफरत ही मिलती है।

नफरत जिस व्यक्ति के हृदय में बस जाती है, वह व्यक्ति खुद कैसे ऊपर उठना है यह सोचना छोड़ कर दूसरों को कैसे गिराना है यह सोचना शुरू कर देता है

जो लोग अंदर से मर जाते हैं !!वो लोग दूसरों को जीना सिखाते हैं !!

“ प्यार करने वाले एकदूसरे को अच्छे से जानते है,नफरत करने वाले एकदूसरे को बहुत अच्छे से जानते है…!!

“ नफरत हो तो यकीननहीं दिलाना पड़ता है,मोहब्बत में ही सबूतकी जरूरत पड़ती है…!!

​“कुछ लोगों से हमें नफरत तो नहीं होती पर उनकी कुछ बातें सोच कर हम उनसे दोबारा मोहब्बत नहीं कर पाते।” ​👎❤️⃠

​“जिन लोगों से प्यार बेइंतहा होता है, उन लोगों से नफरत भी बेमिसाल होती है।” ​👎❤️⃠

प्यार किया तुझसे एक खता हो गयी मुझसे अब सिर्फ जी रहे हैं नफरत से.

मुझसे नफरत करनी है तो इरादे मजबूत रखना,वरना जरा सा भी चुके तो मोहब्बत हो जाएगी,|

नफरत कभी न करना तुम हमसे !!ये हम सह नहीं पायेंगे !!एक बार कह देना हमसे ज़रूरत नहीं अब तुम्हारी !!तुम्हारी दुनिया से हसकर चले जायेंगे !!

Recent Posts