456+ Dard Shayari In Hindi | Dard Bhari Shayari In Hindi

Dard Shayari In Hindi , Dard Bhari Shayari In Hindi
Author: Quotes And Status Post Published at: October 10, 2023 Post Updated at: October 10, 2023

Dard Shayari In Hindi : सफेद लिबास उसे बहुत पसंद था मगर, आज जो हम कफन में लिपटे हैं, तो वो रोता क्यों है !! कभी सोचा न था के वो मुझे तनहा कर जायेगा, जो अक्सर परेशां देख कर कहता था मैं हूँ ना !!

अजीब हालत हो गयी है दिल की, ना तू इसकी हुई और ना ये मेरा रहा💔

इतना दर्द तो मौत भी नहीं देती है, जितना तेरी ख़ामोशी ने दिया है

उसने पूछा भी लेकिन मैंने कहा कुछ नहीं, दिल से उतरे हुए लोगों से शिकायत कैसी💔

यूँ ना बर्बाद कर मुझे, अब तो बाज़ आ दिल दुखाने से मै तो सिर्फ इन्सान हूँ, पत्थर भी टूट जाता है, इतना आजमाने से। 💔

मैं तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती !मैं जवाब बनता अगर तू सवाल होती !!सब जानते है मैं नशा नही करता !मगर में भी पी लेता अगर तू शराब होती !!

मिलेगी चीजें आसानी से !तो वह जिंदगी नहीं कहलाती !!सबक देती है जिन्दगी !

दर्द की चाहत किसे होती है मेरे यारो, ये तो मोहब्बत के साथ मुफ़्त में मिलता है💔

तुझे पाने की कोशिश की बहुत मैने,लेकिन शायद मेरी कोशिश में कमी रह गई,वो कहते थे तुमको कभी दुख ना देंगे,उनके नाम की मेरी आंखो में नमी रह गई.

साँस थम जाती है पर जान नहीं जाती, दर्द होता है पर आवाज नहीं आती, अजीब लोग हैं इस जमाने में ऐ दोस्त, कोई भूल नहीं पाता और किसी को याद नहीं आती !

हर शक्स में देखने तेरा चेहरा !जिंदगी बिता दी मुसाफिरों को देखते !!बुढ़ापे में नज़र हुईं है कमजोर !घुटने भी अब मुझे चलने नहीं देते !!

कुछ लोग खाने के इतने शौक़ीन होते है की वो दूसरों की खुशियाँ भी खा जाते है💔

रोज़ पिलाता हूँ एक ज़हर का प्याला उसे, एक दर्द जो दिल में है मरता ही नहीं है💔

कभी सोचा न था के वो मुझे तनहा कर जायेगा, जो अक्सर परेशां देख कर कहता था मैं हूँ ना !!

हम तो नरम पत्तो की शाख हुआ करते थे, छिले इतने गए की खंजर हो गए💔

तेरे न होने से ज़िन्दगी में इतनी कमी रहती है, मैं चाहे लाख मुस्कुराऊं इन आँखों में नमी रहती है💔

मैं तो आईना हूँ टूटना मेरी फितरत है,इसलिए पत्थरों से मुझे कोई गिला नहीं।

तुमने वफा करना नहीं सीखा ना सही, हम दुआ करते हैं कि तुम्हे कोई बेवफा ना मिले !

मेरा ख़याल ज़ेहन से मिटा भी न सकोगे,एक बार जो तुम मेरे गम से मिलोगे,तो सारी उम्र मुस्करा न सकोगे.

रोने की सजा न रुलाने की सजा है, ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सज़ा है, हँसते हैं तो आँखों से निकल आते हैं आँसू ! ये उस शख्स से दिल लगाने की सज़ा है !

ज़ख्म जब मेरे सीने के भर जाएंगे !आंसू भी मोती बन के बिखर जाएंगे !!ये मत पूछना किसने दर्द दिया !वरना कुछ अपनों के सर झुक जाएंगे !!

रोज़ उदास होते है हम,और रात गुजर जाती है,कहने को तो जी रहे है लेकिन,हर पल हर लम्हा सांस निकलती जाती है.

दिल का रिश्ताऐ हवा जाकर उसका दिल धड़का देउसे याद दिला दे कि कोई है।

तेरी यादों को पसंद आ गयी मेरी आँखों की नमी, हँसना चाहूँ भी तो रुला देती है तेरी कमी !!

जो कभी डरा ही नहीं मुझे खोने से, वो क्या अफसोस करता होगा मेरे ना होने से !!

सुकून की तलाश में निकले हम, तो दर्द बोला औकात भूल गए क्या💔

चलते रहेंगे जिंदगी में तो मिल जाएगी !आपको तमन्नाओं की जमीन !!तभी तो दुआएं होंगी पूरी और कहेंगे !लोग आमीन सुम्मा आमीन !!

फलक में अपनी जनन्तो के सितारे नहीं;हम उनके है, पर वो हमारे नहीं;छोटी सी नाव लेकर, उस समुंदर में उतर गए;जिसमे दूर-दूर तक किनारे नहीं.

तजुर्बे ने एक ही बात सिखाई है, नया दर्द ही पुराने दर्द की दवाई है.

जिनकी हँसी खूबसूरत होती है,उनके ज़ख्म काफी गहरे होते है।

खून बन कर मुनासिब नहीं दिल बहे;दिल नहीं मानता कौन दिल से कहे;तेरी दुनिया में आये बहुत दिन रहे;सुख ये पाया कि हमने बहुत दुःख सहे.

प्यार सभी को जीना सिखा देता है,वफा के नाम पर मरना सिखा देता है,प्यार नहीं किया तो कर के देख लो यारों,जालिम हर दर्द सहना सिखा देता है.

मुझे बहुत प्यारी है तुम्हारी दी हुई हर एक निशानी, अब चाहे वो दिल का दर्द हो या, आँखों का पानी.

चाह थी हर खुशी नसीब हो;हर मंज़िल दिल के करीब हो;वाहा ख़ुदा भी क्या करे;जहाँ इंसान ही बदनसीब हो.

अगर मुझे रुला कर तुमखुश होतो मैं सारी जिंदगी रोनेके लिए तैयार हूँ।

मोहब्बत का इशारा याद रहता है;हर प्यार को अपना प्यार याद रहता है;दो पल जो गुज़रे प्यार की बाहों मे;मौत तक वो नज़ारा याद रहता हैं.

कमाल का जिगर रखते हैं कुछ लोग दर्द लिखते हैं और आह तक नहीं करते💔

उदास नहीं होना मुझे याद कर के,मांगना चाहता हूं तुझसे कुछ फरियाद कर के,ज़िन्दगी में मेरी फिर लौट के ना आना,मै जी नहीं पाऊंगा तुझे बर्बाद कर के.

दर्द की शाम हो या सुख का सवेरा हो सब कुछ कबूल है अगर साथ तेरा हो

बहोत कुछ सीखा है !जिंदगी से हमने भी !!इजहार करने वाले ही !हमेेशा मोहब्बत नहीं करते !!

प्यार सभी को जीना सिखा देता है, वफा के नाम पे मरना सिखा देता है, प्यार नहीं किया तो करके देख लो यार, जालिम हर दर्द सहना सिखा देता है ।

मुझे बहुत प्यारी है तुम्हारी दी हुई हर एक निशानी, अब चाहे वो दिल का दर्द हो या आँखों का पानी !

दिल की ख्वाहिश को नाम क्या दूँ, प्यार का उसे पैगाम क्या दूँ, इस दिल में दर्द नहीं यादें है उसकी, अब यादें ही मुझे दर्द दे तो उसे इलज़ाम क्या दूँ.

मरना लिखा होगा तो मर जायेंगे वैसे भी मर मर के जी रहे है💔

तकदीर के आईने में मेरी तस्वीर खो गई, आज हमेशा के लिए मेरी रूह सो गई, मोहब्बत करके क्या पाया मैंने, वो कल मेरी थी आज किसी और की हो गई !!

खर्च जितना भी करुं बढ़ती जाती है !ये यादे तेरी अजीब दौलत है !!

दर्द की बारिशों में हम अकेले ही थे, जब बरसी ख़ुशियाँ न जाने भीड़ कहा से आई 💔

मैं बुरा कैसे बन गया ? दर्द लिखता हूँ किसी को देता तो नहीं💔

रेत पर नाम कभी लिखते नहीं !रेत पर नाम कभी टिकते नहीं !!लोग कहते है कि हम पत्थर दिल हैं !लेकिन पत्थरों पर लिखे नाम कभी मिटते नहीं !!

सुना था दर्द अक्सर बेदर्द लोग देते है, मगर हमारी दुनिया उजाड़ी है एक मासूम चेहरे ने

कुछ अजीब सा रिश्ता है,उसके और मेरे दरमियां,ना नफरत की वजह मिल रही हैना मोहब्बत का सिला।

फिर नहीं बसते वो दिल जो एक बार टूट जाते हैं,कब्र कितनी ही संवारो कोई ज़िंदा नहीं होता।

जाने दुनियाँ मे ऐसा क्यू होता है, जो सब को खुशी देता वही रोता है, उमर भर जो साथ ना दे सके वही, ज़िंदगी का पहला प्यार क्यू होता है !

मेरी बर्बादी पर तू कोई मलाल ना करना; भूल जाना मेरा ख्याल ना करना; हम तेरी ख़ुशी के लिए कफ़न ओढ़ लेंगे; पर तुम मेरी लाश ले कोई सवाल मत करना💔

तेरी याद आई तो थोड़ा उदास हो जाऊंगा,ज़िन्दगी से फिर एक बार निराश हो जाऊंगा,कभी सोचा भी ना था ऐसा भी होगा,तेरी ख़ुशी के लिए मै खुद को रूलाऊंगा.

कश्ती का डूब जाना ही अच्छा था, किनारे ने और बदनाम कर दिया, पुरानी गलतियां भूलने की कोशिश थी, नए इश्क ने और बर्बाद कर दिया !

चाहे तुझसे बाते होया ना हो,,पर तेरी फिक्र मुझे हर पलहोती रहती है…!

अगर खुदा ने पूछा तो कह देंगे हुई थी, मोहब्बत मगर जिससे हुई, हम उसके काबिल न थे !

कुछ और नहीं बस जीने का हुनर दे दे, तेरे बगैर अब हमसे जिया नहीं जाएगा💔

एक उमर बीत चली है तुझे चाहते हुए, तू आज भी बेखबर है कल की तरह।💔

अनजाने में यूँ ही हम दिल गँवा बैठे,इस प्यार में कैसे धोखा खा बैठे,उनसे क्या गिला करें, भूल तो हमारी थी,जो बिना दिल वालों से ही दिल लगा बैठे.

हर पल यही सोचता रहा,के कहा कमी रह गयी थी मेरी चाहत में;उसने इतनी शिदत्त से मेरा दिल तोड़ा,के आज तक नहीं संभल पाए.

प्यार सभी को जीना सिखा देता है, वफा के नाम पे मरना सिखा देता है, प्यार नहीं किया तो करके देख लो यार, जालिम हर दर्द सहना सिखा देता है.

दुआ करना दम भी उसी तरह निकले,जिस तरह तेरे दिल से हम निकले.

अगर मिल जाती सबको अपनी मोहब्बत की मंजिल, तो फिर इन रातों के अंधेरे में शायरी कौन लिखता !

याद कितनी खूबसूरत होती है ना, ना लड़ती है ना झगड़ती है, खामोशी से बस किसी का नाम लेकर, दिल में उतर जाया करती है.

बस सह सकता हूं इस दर्द को,कहने को कुछ बचा नहीं है,उसके जाने के बाद ज़िन्दगी में,अब और कुछ रहा नहीं है.

तेरे बिना तनहा हम रहने लगे हैं !दर्द के तुफानो को सहने लगे हैं !!बदल गई है इस कदर मेरी जिंदगी !अश्क़ बनकर पलकों से बहने लगे हैं !!

टूट सा गया है मेरी चाहतों का वजूद,अब कोई अच्छा भी लगे तो इज़हार नहीं करते

आसान नहीं होता मुश्किलों से लड़ना !इंसान बनकर जिंदगी से भागना !!अकेले राह नहीं कटती है कभी !सब के नसीब में नहीं होता सच्चा साथ पाना !!

इतना आसान नहीं है !जीवन का हर किरदार निभा पाना !!इंसान को बिखरना पड़ता है !रिश्तों को समेटने के लिए !!

उसी का शहर, वही मुद्दई, वही मुंसिफ,हमें यकीन था हमारा क़सूर निकलेगा।Usi Ka Shahar, Wahi Muddai, Wahi Munsif,Humein Yakeen Tha Humara Qasoor Niklega.

दर्द भी वो दर्द जो दवा बन जाये !मुश्किलें बढ़ें तो आसांन बन जाये !!जख्म पा कर सिर झुका देता हूँ !न जाने कौन पत्थर ख़ुदा बन जाये !!

Recent Posts