1319+ Chaplusi Shayari In Hindi | Chaplusi Quotes in Hindi

Chaplusi Shayari In Hindi , Chaplusi Quotes in Hindi
Author: Quotes And Status Post Published at: October 4, 2023 Post Updated at: April 11, 2024

Chaplusi Shayari In Hindi : झूठो की तारीफें और सच्चों की फरियाब ज्यादा है, इस मतलबी दुनिया में चापलूसों की तादाद ज्यादा है। जों इंसान चापलूसों से घिरा रहता है, वो एक दिन मुसीबतों के दलदल में गिरा रहता है।

यार तुम भी कमाल करते हो हम से सीख कर ~ मोहब्बत किसी और पर इस्तेमाल करते हो

बचपन से ही शौक था हमें अच्छा इंसान बनने का बचपन ख़त्म और शौक भी खत्म अब जैसी दुनिया वैसे हम ।

“ तुम क्या हो इससे फ़र्क़नहीं पड़ता पर अगर तुम चापलूस नहींतो तुम नौकरी में ज्यादादिन नहीं टिक सकते…!!

तेरी कुर्बत भी नहीं है मयस्सर… ~ और देखो , दिन भी बारशो के आ गए ….!!!

वजह कोई न थी ,कदमों के लडखडाने की ~ आदत सी बन गयी है , गिरकर संभल जाने की !!

बॉस के प्रेजेंटेशन मेंसबसे अधिक सिर वो ही हिलाता हैंजिसकी EMI सबसे जादा होती हैं

चापलूसी के दम पे कई शहरों में ठेकेदार बन आए। मीठी चाशनी में भीगे शब्द मोहक रसीले खूब भाए।

हम गुलामी तो सिर्फ अपने मां बाप की करते हैंदुनिया की नहीं लोग कल भी हमेंशेरनी कहते थे और आज भी हम वोी हैं

हे मेरे ईश्वर, दे दे त्राण दे कर मुझ की आत्म-ज्ञान जीवन-मरण के इस चक्कर से छूटें मेरे प्राणहे भगवन, सुन मेरा आहवान्।

“💐💕 जिन्हें हम जवाब नहीं देते उन्हें ख़ुदा जवाब देता है। 💕💐”

नहीं परवाह मुझे किसी की मुझे कौन क्या मानता है, मैं खुद की नजरों में सही हूं मेरे लिए बस इतना ही काफी है।

सुहाना सहाना लगे यह मौसम, यह रिमझिम यह सरगम, यह गुंजनयादों के बीच चले जब बचपनसुहाना सूहाना लगे यह मौसम यह रिमझिम

चूल्‍हा मिट्टी कामिट्टी तालाब कीतालाब ठाकुर का ।

आजकल हम लोग बच्चों की तरह लड़ने लगेचाबियों वाले खिलौनों की तरह लड़ने लगे

कुछ की फितरत और कुछ की मजबूरी होती है, कुछ भी हो मतलबी होना ही गलत होता है.,

“💐💕 उम्मीद जिंदा रखिये साहब, आज हँसने वाले कल तालियां भी बजायेंगे ! 💕💐”

मैं अपनी एटीट्यूड उसे ही दिखाती हूं जिसे मेरी तमीज समझ नहीं आती ।

वादा करके भी आया नहीं आज वो ~ मिलेगा नये कुछ बहाने लिये

दुबले पतंगी कागज़ काउड़ता हुआ टुकड़ा नहींप्रसूती मन कीबलवती संतान हैं।

किसी दुश्मन को पहचानना मुश्किल नहीं होता, लेकिन घटिया लोगो को पहचानना मुश्किल होता, क्योंकि ये लोग किसी अपने की भेस में ही होते है !

मत रहना चाहे दुश्मनों और जासूसों से बचकर, पर ज़रूर रहना ज़िन्दगी में चापलूसों से बचकर।

किनारा वह हमसे किये जा रहे हैं।दिखाने को दर्शन दिये जा रहे हैं।

होती है ज़रूरत अमीर के बच्चों को “खिलोनों” की.. ~ गरीब के बच्चे तो एक “बोरी” में भी खुशिया तलाश लेते है…!!

कितने ऐश से रहते होंगे कितने इतराते होंगे ~ जाने कैसे लोग वो होंगे जो उस को भाते होंगे

ख़रीदने आये थे कुछ लोग हमें,हम ना बिकें तो बदनाम हो गए,चंद पैसों से सौदा कर मेरे अपने,आज उन्हीं लोगों के ग़ुलाम हो गए

क्या पूछना उससे अब कोई सवाल….. मै सच कहूँगा मगर ~ फिर भी हार जाऊँगा वो झूठ बोलेगी और लाजवाब कर देगी ..! ________________________________________

जो हमारा दिल रखेंउसी की हम रखते हैंबाकी सब को हमसाइड में रखते हैं

माना कि मैं तेरे लिए कुछ नहीं हूंलेकिन जैसा भी कोई नहीं मिलेगा

“💐💕 किसी से बात करो तो खुशी से करो मज़बूरी से नहीं.. 💕💐”

किसी के जैसे नहीं हूं मैं, मेरा एक अलग ही रुतबा है ।

इश्क़ पर ज़ोर नहीं, यह वो आतिश ग़ालिब; ~ के लगाए ना लगे और बुझाए ना बुझे।

मैंने हर एक ख्वाइश को जिलाधीश बना रखा हैजो करना तो बहुत कुछ चाहती है मगरजिन्दगी भी बड़ी शातिर हैइसने टोकने के लिए हर काम मेरा एकनेता बिठा रखा है.

“ चापलूसों का मुँह एकजैसा होता है, वोसभी को अपना कहते है…!!

होगी तुम्हारी बात लाख कीमेरा तो एटीट्यूड हीसवा लाख का है

झुकने का हुनर भी बहुत है मुझमें, पर हर चौखट पर सजदा करूं ये गवारा नहीं।

“💐💕 केवल ज़िद की एक गांठ खुल जाए… तो उलझे हुए सब रिश्ते सुलझ जाएं. 💕💐”

मेरी औक़ात का ऐ दोस्त शगूफ़ा न बना कृष्ण बनता है तो बन, मुझको सुदामा न बना

"लेखक बनने के लिये क्या करना होगा?""लेखकों की चापलूसी।"

आज एक एक शेर दिल के पार होने वाला है ,., ~ तेरे शहर में आज कोई क़त्ल होने वाला है ,.,!!!

ना रूठने का डर ना मनाने की कोशिश दिल से उतरे हुए दोस्तों से शिकायत कैसी।

“ लो हमने भी सीख लियाचापलूसी करने का ढंग अब पराएभी हमे अपना लिए करेंगे…!!!

तुझ बिन कोई हमारा, रक्षक नही यहाँ पर; ढूँढा जहान सारा, तुम सा नही रखैया॥

इंसान की अच्छाई पर सब खामोश रहते हैं, चर्चा अगर उसकी बुराई पर हो, तो गूॅगे भी बोल पङते हैं.,

अगर कोई आपकी कीमत ना समझे तो निराश मत होना क्योंकि कबाड़ के व्यापारी को कभी भी हीरे की परख नहीं होती ।

कोन किसको दिल में जगह देता हैं, सूखे पत्तो तो पेड़ भी गिरा देता हैं, वाकिफ है हम दुनिया के रिवाजो से, मतलब निकल जाए तो हर कोई भूल जाता हैं.,

ज़मीर काँपता जरूर है, आप कुछ भी कहो ज़नाब… ~ कभी गुऩाह से पहले और कभी गुनाह के बाद..!!!

गर्मी के मौसम में भी ओला पड़ने लगा है, जिसका पेट भरा वो बेवजह लड़ने लगा है.

कोई हद ही नहीं शायद मुहब्बत के फसाने की, ~ सुनाता जा रहा है जिसको जितना याद आता है

अपनी भाषा में कबीला दिया ऐ समझा,काम करो उतना, जितने में गुजरा चल जाय।

अचानक तुम्हारे पीछे कोई कुत्ता भोंके, तो क्या तुम रह सकते हो बिना चोंके?

“💐💕 निंदगी मुश्किल है -तो चलो थोड़ा आसान कर लें कुछ ख्वाहिशे भूल जाये और कुछ का इंतऩार कर ले. 💕💐”

काँटों की शैया में जिसनेकोमलता को छोड़ा ना,चुभन पल-पल होने पर भीसाहस जिसने तोड़ा ना।

एक दुःख पे हज़ार आंसू, ~ उफ़ आँखों की ये फज़ूल खर्चियाँ ,.,!!!

प्रश्न था - " नाम ?" हमने लिख दिया - "बदनाम" "काम" "बेकाम।" "आयु ?" "जाने राम ।" "निवास स्थान ?" "हिन्दुस्तान।" "आमदनी ?" " "आराम हराम ।"

क्या इससे भी ग़मगीन कोई होगा फसाना, ~ हम जान से जाते रहे और उसने न माना

“ मैंने गलती कर दी शायदमेहनती बनकर, लोग चापलूसबनकर मुझसे ज्यादा कमा रहे हैं…!!

काम आए ना मुश्किल में कोई यहां, मतलबी दोस्त हैं मतलबी यार हैं.,

“ आदत होती हैउसे हराम की घूस की,जी हजूरी करना निशानी होती हैचापलूस की…;;

भर दीजे गर हो सके, जीवन अंदर रंग।वरना तो बेकार है, होली का हुड़दंग॥

माना की बहोत खूबसूरत हुश्न है तुम्हारा, ~ लेकिन काश दिल भी होता तो और ही बात होती..!!!

सूरज उगे या शाम ढले,मेरे पाँव सजनवा के गाँव चले।

एक ही बात का तो एटीट्यूड है मुझमें , कोई सल्तनत नहीं है मेरे पास फिर भी मेरा बाप कहता है बेटा तू बादशाह है।

“ हर जगह पर वो जलवे काटते है,आज कल के ज़माने मेंजो तलवे चाटते है…!!!

कुछ कह रही हैं आप के सीने की धड़कनें ~ मेरा नहीं तो दिल का कहा मान जाइए ,.,!!

कौन-सी बात कहाँ, कैसे कही जाती हैये सलीक़ा हो तो हर बात सुनी जाती है

चापलूसी धर्म हो चूका है हर शख्स बेशर्म हो चूका है।

जब भी होती है गुफ्तगु खुद से, ~ ज़िक्र तेरा जरूर होता है,.,!!

“💐💕 जरूरी नहीसबकी नजरो में अच्छ ही बनो, कुछ लोगों की नजरों मे खटकने का मजा ही कुछ और है. 💕💐”

“💐💕 खुश रहने का बस एक ही मंत्र है, उम्मीद बस खुद से रखो, किसी और से नही ! 💕💐”

अपनी लड़ाई हमें खुद लड़नी पड़ती है क्योंकिलोग सिर्फ भाषण देते हैं साथ कभी नहीं।

मुसीबतें नज़दीक नहीं आएगी बस तुम चापलूसों से दूर रहो।

“ मुँह पर अच्छे पीठ पीछे बुराई करना,चापलूसों का तो काम ही हैजुबां से सफाई करना….!!

Recent Posts