913+ Book Shayari In Hindi | Kitab Shayari in Hindi

Book Shayari In Hindi , Kitab Shayari in Hindi
Author: Quotes And Status Post Published at: September 20, 2023 Post Updated at: September 20, 2023

Book Shayari In Hindi : किताबों सी हो गई है जिंदगी मेरी, पढ़ हर कोई रहा है, जिन्दगी मेरी. पढ़ने का शौक़ीन वो, उसे शोर पसंद नहीं, किताबों के सिवाय उसे कोई और पसंद नहीं.

इश्क़ की नाव में पहला छेदतब होता हैं,ज़ब गर्लफ्रेंड से खूबसूरतउसकी सहेली हो..!

किताब सी शख्सियत दे ऐ मेरे खुदा, सब कुछ कह दूँ, खामोश रहकर.किताब शायरी

हर सोच में बस एक ख्याल तेरा आता है, लब जरा से हिलते नहीं की नाम तेरा आता है।

जिन्दगी की रीत के बारें में कोई जान न सका,इसकी सच्चाई को कोई पहचान न सकाकिताबों में कई किस्से दफन है लेकिनपर हकीकत में हकीकत कोई जान न सका.

आशिक़ पागल हो जाते हैं प्यार में,बाकी कसर पूरी हो जाती है इंतजार में,मगर ये दिलरुबा नही समझती,वो तो गोलगप्पे और पपड़ी,खाती फिरती है बाजार में ।😝😂🤣🤣😂

ये मत सोचना कि तुम्हारे बिना मर जायेंगे हम,वो लोग भी जी रहे हैं जिन्हें छोड़ा था मैंने तुम्हारी खातिर..

चाहा है जिसे टूट कर,मन करता हैआ जाओ उसे कूट कर…

जिसे सोच कर ही चहरे पर ख़ुशी आ जाये वो खूबसूरत एहसास हो तुम!!💖

अगर हम शब्द है तो वो पूरी भाषा हैमाँ की बस यही परिभाषा है।

आज मेरे आइना ने भी कह दिया, तेरा बेबस चेहरा मुझसे देखा नहीं जाता !!

लोग कहते है कीखुश रहोमगर मजाल हैकी रहने देLog Kehte Hain Ki khush rahoMagar majal hai ki Rahane De

अच्छी किताबें और सच्चे दोस्त तुरंत समझ में नहीं आते

ऐ अँधेरे देख मुँह तेरा काला हो गया,माँ ने आँखें खोल दी घर में उजाला हो गया।

पलक से पानी गिरा है, तो उसको गिरने दो,कोई पुरानी तमन्ना, पिंघल रही होगी।Palak se Pani Gira Hai To usko Girne do koi purani Tamanna pighal Rahi Hogi

तुझे पलकों पे बिठाने को जी चाहता है तेरी बाहों से लिपटने को जी चाहता है, खूबसूरती की इंतेहा हैं तू,तुझे ज़िन्दगी में बसाने को जी चाहता है।

हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करतेवक्त की शाख से लम्हे नहीं तोड़ा करते

दूर होकर भी जो शख्स समाया है मेरी रूह में,पास वालों पर वो कितना असर रखता होगा।

मुझे देख कर तेरा मुस्कुरा देना,मुझे कई सारे सपने दिखा जाता है, तेरे संग ज़िन्दगी गुजारूं,मेरी हर धड़कन कह जाती है।

सलीका अदब का तो बरकरार रखिए जनाब, रंजिशे अपनी जगह है सलाम अपनी जगह।।

उसकी याद में कुछ इस तरह खोया हूँआंसू नही आ रहे थे,तो प्याज काट कर रोया हूँ….

लड़कियां इश्क़ में कितनी पागल होती हैं फ़ोन बजा और चुल्हा जलता छोड़ दिया

यूँ बार बार ना करा करो सवाल सनम,मोहब्बत तुमसे बेहिसाब है लफ्जों में बयान नही होगी.

मैं भी हो गयी हूँ बिल्कुल किताबों सी अब,शब्दों से भरी पड़ी पर बिल्कुल ख़ामोश सी अब.

खुद को प्रेरित करने के लिए व्यक्ति को, महान लोगो की किताबे पढ़नी चाहिए।

वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर, आदत इस की भी आदमी सी है।

हम जानते है आप जीते हो जमाने के लिए,एक बार तो जीके देखो सिर्फ हमारे लिए,इस नाचीज़ की दिल क्या चीज़ है,हम तो जान भी दे देंगे आप को पाने के लिए।

कुछ कहानियों की कोई किताब नहीं होती पर, मशहूर जमाने भर में होती है.Book Shayari

जिन्दगी की किताब कई पन्नों से पूरी है, पर कुछ कहानियाँ है, जो लफ्जों में भी अधूरी है.Kitab Shayari

कल उसकी भीशादी हो गईजो कभी कहती थी कीपति है आप हमारे

“शहरों का फासला है हमारा, लेकिनदिल के सबसे करीब हो तुम “ये लाइनें मेरे जेसे चार – चार कोचिपका रखी थी उसने

शिकायत तुझसे नही तेरे वक़्त से है, जो तुझे कभी मिला ही नहीं मेरे लिए !

❤️तेरी यादें, तेरी बातें, बस तेरे ही फसाने है, हाँ कबूल करते है, कि हम तेरे दीवाने है..❤️

प्यार कभी ना करो परदेशी से,रोते रोते नैना थक जाएंगे,प्यार करो पड़ोसी से, खिड़की सेभी दर्शन हो जायेंगे ?

यूँ तो मैंने बुलन्दियों के हर निशान को छुआ,जब माँ ने गोद में उठाया तो आसमान को छुआ।

इतनी हसीं, इतनी दिलकश,वो सबसे जुदा निकली,मैं मोहब्बत तो कर बैठा, परवो शादीशुदा निकली…!!

दुनिया मे मोहब्बत आज भी बरकरार है,क्योंकि एकतरफा प्यार अब भी वफादार है..

आज भी मैंने वो किताब छुपा रखी है,जिसमें मैंने तेरी याद को सजा रखी है.

बचपन में भरी दुपहरी में नाप आते थे पूरा मोहल्ला,जब से डिग्रियां समझ में आयी पांव जलने लगे हैं।

ऐ सनम… होगी कितनी चाहत उस दिल में,जो खुद ही मान जाये कुछ पल खफा होने के बाद।

कुछ कहानियों की कोई किताब नहीं होती पर,मशहूर जमाने भर में होती है.

मैंने जिंदगी में दोस्त नहीं ढूँढे, मैंने एक दोस्त में जिंदगी ढूँढी है.

मैंने मौत को देखा तो नहीं, पर शायद वो बहुत खूबसूरत होगी। कमबख्त जो भी उससे मिलता हैं,जीना ही छोड़ देता हैं।।

तारीकियों को आग लगे और दिया जले ये रात बैन करती रहे और दिया जले उस की ज़बाँ में इतना असर है कि निस्फ़ शब वो रौशनी की बात करे और दिया जले

समझता ही नहीं वो मेरे अलफ़ाज़ की गहराईमैंने हर लफ्ज़ कह दिया जिसे मोहब्बत कहते है

किताबों की तरह होती है हम सब की जिन्दगी, ना तो लिखा है हमारा उस पर लेकिन लिखी किसी और ने होती है.

ਏਹਸਾਸ-ਏ-ਮੁਹੱਬਤ ਲਈ ਇਹ ਹੀ ਕਾਫੀ ਹੈ,ਅਸੀਂ ਤੇਰੇ ਬਿਨਾਂ ਵੀ ਜਿਉਂਦੇ ਹਾਂ।

रात को चाँदनी तो ओढ़ा दो, दिन की चादर अभी उतारी है।

न होके भी तू मौजूद है मुझमें, क्या खूब तेरा वजूद है मुझमें।

ठहर जा नजर में तू जी भर के तुझे देख लूं, बीत जाए ना ये पल कहीं इन पलों को मैं समेट लूं।

इन आँखों में कभी हमारे आंसू आये न होते,अगर वो पीछे मुड़ कर मुस्कुराये न होते,उनके जाने के बाद यही गम रहेगा,के काश वो हमारी जिंदगी में आये न होते।

उदास कर देती है हर रोज ये शाम, ऐसा लगता है जैसे भूल रहा है कोई धीरे धीरे !

किताब को खोलने से डर लगता है,अब तो मुझे सच बोलने से डर लगता है.

खड़क सिंह के खड़कने सेखड़कती है खिड़कियां,बिना मेकअप के चुड़ैल लगतीहै लडकियां..

तेरा यूँ मेरे सपनो में आना ये तेरा कसूर था,और तुझ से दिल लगाना ये मेरा कसूर था,कोई आया था पल दो पल को जिंदगी में,और सर अपना समझ लेना वो मेरा कसूर था।

मास्टर जी – गजल और भाषण में क्या अंतर होता है…?छात्र – पराई स्त्री का हर शब्द गजल होता हैऔर बीवी का हर शब्द भाषण…

हसीन तो और भी है इस जहाँ में मौला पर जब उसने अपना घुँगट खोला तो चाँद भी मुझसे शर्मा के बोला ये रात की चाँदनी है या दिन का शोला.

चुभते हुए ख्वाबों से कह दो अब आया ना करे, हम तन्हा तसल्ली से रहते है बेकार उलझाया ना करे !

❤️एक अच्छा फ्यूचर देने वाली तो सबको मिल जाती है लेकिन सच्चा प्यार करने वाली किस्मत से मिलती है.❤️

जरूरी नहीं इश्क़ में बनहूँ के सहारे ही मिलेकिसी को जी भर के महसूस करना भी मोहब्बत है

“खूबसूरती की इंतहा बेपनाह देखी…जब मैंने मुस्कराती हुई माँ देखी..”

तुम हक़ीकत नहीं हो हसरत हो, जो मिले ख़्वाब में वही दौलत हो, किस लिए देखती हो आईना,तुम तो खुदा से भी ज्यादा खूबसूरत हो।

एक हुस्न की परी को मैं अपना दिल दे बैठा अपनी ज़िन्दगी को एक मकसद दे बैठा पता नहीं वो मुझे चाहती है या नहीं बस यही ख्याल मुझे भी ले बैठा.

ज़िन्दगी की हर शाम हसीन हो जाए….,अगर मेरी मोहब्बत मुझे नसीब हो जाये

गिरा दे जितना पानी है तेरे पास ऐ बादल.ये प्यास किसी के मिलने से बुझेगी तेरे बरसने से नही।

एक अच्छा मित्र,बुरे से बुरे वक्त को भी अच्छा बना देता हैं…Ek accha mitra,Bure se bure waqt ko bhi accha bana deta hain….

थोड़े गुस्से वाले थोड़े नादान हो तुम, मगर जैसे भी हो मेरी जान हो तुम।

पती- काश तुम शक्कर होतीकभी तो मीठा बोलतीपत्नी- काश तुम अदरक होतेकसम से, जी भर के कूटती

इश्क की किताब का ऊसूल है जनाब,मुड़ कर देखोगे तोमोहब्बत मानी जायेगी।

कोई अपना रिस्ता पुछे तो बता देना, दो दिलो में एक जान बसती है हमारी।💝

प्यार कभी ना करो परदेशी से,रोते रोते नैना थक जायेंगे,प्यार करो पड़ोसी से,खिड़की से भी दर्शन हो जायेंगे।

मेरे पड़ोसी का आज हीनया फोन चोरी हो गया9 तो मैं उनसे कितनी देर बादबोलूं,कि वो उसका चार्जर है वोमुझे दे दे

यूँ ना पढिये कहीं कहीं से हमे,हम इंसान है किताब नही।

Recent Posts