1325+ Badalna Shayari In Hindi | मौसम की तरह बदलना शायरी

Badalna Shayari In Hindi , मौसम की तरह बदलना शायरी
Author: Quotes And Status Post Published at: October 4, 2023 Post Updated at: May 31, 2024

Badalna Shayari In Hindi : तेरे जाने के बाद अब आलम यूँ है, की पहले वक़्त मिलता नहीं था अब गुज़रता नहीं है। अब अच्छा लग रहा है जो बदल रहा हूँ, जब से अकल आई है अकेला चल रहा हूँ।

बदलने वाले बदल ही जाता हैं, वक़्त तो फिर बस एक बहाना है।

एक  सुकून सा मिलता है तुझे सोचने से भी,फिर कैसे कह दूँ मेरा इश्क़ बेवजह सा है ।।

बुरा वक्त तो सबका आता हैं,कोई बिखर जाता हैं कोई निखर जाता हैं…

कुछ लोगो को एक बार समझाया जा सकता है बार बार नहीं।

बदलते लोगो को उगते सूरज को सलाम करते देखा है, मैंने तो वक़्त को भी अपना बयान बदलते देखा है ।।

वक्त की धारा में अच्छे अच्छे को मजबूर होते देखा है, कर सको तो किसी को खुश करो, दुःख देते हुए तो हजारों को देखा है!

अगर खुद के लिए ही वक्त नहींनिकाल पाओगे तो क्या खाक खुदको बेहतर बना पाओगे।

वक़्त की क़द्र हम तब तक नहीं करते,जब तक वक़्त हमें पीछे न छोड़ दे !!

वक्त की सबसे अच्छी बात ये है की ये वक्त पर ही चलता हो और बदलता है!

आज़माना अपनी यारी को पतझड़ में मेरे दोस्त  सावन में तो हर पत्ता हरा नजर आता है..

मैने भी बदल दिया है जि़न्‍दगी का उसूल,अब जो याद करेगा सिर्फ वही याद रहेगा..!!

ये रोटियाँ हैं ये सिक्के हैं और दाएरे हैंये एक दूजे को दिन भर पकड़ते रहते हैं

ना हालातों को कोसो, ना वक़्त को दोष दो सब कुछ बदलेगा जो तुम खुद को बदलो.

एक मिनट भी नहीं लगता है रिश्तों को उजाड़ने में,और सारी ज़िन्दगी बीत जाती है एक रिश्ते को बनाने में।

“जब जहां असंख्य रस्ते होंगे, वहां आगे बढ़ने की कर्मठता ही आपको सफल बनाएगी।”

वो जो कपडे बदलने का शौक रखते है, आखिरी वक्त न कह पाये कफ़न ठीक नहीं!

हमेशा किस्मत ही खराब नही होती,कभी कभी हम फैसले भी गलत लेते हैं।💛🥀💯

रोज़ बदलते है नियम ज़िन्दगी के, रोज़ फैसले भी बदल जाते है, सब उनके हक़ में आते ही, लोग वदो से मुकर जाते हो ।।

तुझे वक्त के साथ चलना पड़ेगा, जो बदलेगा रूट तो बदलना पड़ेगा.

हवाओं में सपनों की तस्वीर दिखने लगी थी,लोग बदल गए, ये गलतफहमी होने लगी थी।

कुछ इस कदर खोये हैं तेरे ख्यालो में, कोई वक्त भी पुछता है तो तेरा नाम बता देते है !

हवाएं भी आज अपनारुख बदलने लगी हैशायद इनको भी खुल करबहने की आदत होने लगी है

तकदीर ने जैसे चाहा वैसे ढल गए हम, बहुत संभल कर चले, फिर भी फिसल गए हम, किसी ने भरोसा तोड़ा तो किसी ने दिल, और लोगो को लगता है बहुत बदल गए हम ।।

“साथ ना रहने से रिश्ते टूटा नहीं करते ,वक़्त की धुंध से लम्हे टूटा नहीं करते ,लोग कहते हैं कि मेरा सपना टूट गया,टूटी नींद है , सपने टूटा नहीं करते”

एहसान तुम्हारे एकमुश्त,किश्तों में चुकाए हैं हमनें,कुछ वक्त लगा पर अश्कों के,कुछ सूद चुकाए हैं हमनें।।

बिछड़ना कुछ इस तरह से होता है.जाने वाला जाने से पहलेजा चुका होता है ..!!💔🥀🥺

हम भी होते पहले जैसे ही, वो तो तेरी जुदाई ने बदल दिया हमे।

जब घी सीधी उंगली से ना निकले, तो उसे टेडी करनी पड़ती है!!

“वक़्त रहते इश्क़ की कदर करें,ताज़महल दुनिया ने देखा है मुमताज़ ने नहीं…!”

जली को आग और बुझी को राख कहते हैं, तू जिसका का स्टेटस पढ़ रहा है, उसे दुनिया Attitude का बाप कहते हैं!!

अपना सब कुछ देदो मगर वक्त अपना ही रखना बेहतर होगा Apna sab kuchh dedo magar waqt apna hi rakhna behtar hoga

हमने बदल लिए खुद को जिनके लिए पूरी तरह से, वो रिश्ता अधूरा छोड़ चले गए अब।

अजनबी शहर में एक दोस्त मिला,पर जब भी मिला मजबूर मिला,वक्त उसका नाम था।

कभी सुकून था तेरी बातों में,अब तेरे जिक्र पर हम बात बदलदेते हैं !!🥺💔🥀

अंदाज़ तेरा वादा कर के मुकर जाने का, बन गई वजह मेरे दिल से उतर जाने का।

मुलाकात जरूरी है अगर रिश्ते निभाने हो वरना,लगाकर भूल जाने से पौधा भी सुख जाता है।

दर्द बयां करना है तो शायरी से कीजिए जनाब,लोगों के पास वक्त कहां, एहसासों को सुनने का।।

चिंता इतनी करो कि काम हो जाये, इतनी नहीं कि जिन्दगी तमाम हो जाये.

“कभी लफ्ज़ भूल जाऊं कभी बात भूल जाऊं,तूझे इस कदर चाहूँ कि अपनी ज़ात भूल जाऊं,कभी उठ के तेरे पास से जो मैं चल दूँ,जाते हुए खुद को तेरे पास भूल जाऊं”

एक सपना टूट जाने पर दूसरा सपना देखने के हौसले को ही जिंदगी कहते है!

उलझ गया था तुम्हारे दुपट्टे का कोना मेरी घड़ी से,वक्त तब से जो रुका है तो अब तक रुका ही पड़ा है।।

सुनो ये जो वक़्त तुम्हारे बिना गुज़रता है ना,बस अपनी ज़िंदगी के इसी हिस्से से बहुत नफ़रत है मुझे।

बड़ी छोटी सी है ये जिंदगी,इसमें कैसे शिकवे कैसे गिले,कुछ रिश्ते पुराने रफ़ू किए,कुछ ताल्लुक़ मैंने नए सिले।

बात जब जरुरत की हो तो इंसान की बोली, इस चाय की तरह हो जाती है ।

“ये तेरे इश्क का कितना हसीन एहसास है,लगता है जैसे तू हर-पल मेरे साथ है,मोहब्बत तेरी दीवानगी बन चुकी है मेरी,अब जिंदगी की आरज़ू सिर्फ तेरा साथ है”

कल अगर मिला वक़्त,तो ज़ुल्फ़ें तेरी सुलझा लूंगा,आज उलझा हूँ ज़रा वक़्त को सुलझाने में।

“आपका भाग्य आपके कर्मों के अनुसार बदलेगा।” “कभी-कभी स्थान बदलना ही सही रास्ता साबित हो सकता है।”

लोग कहते है कीखुश रहोमगर मजाल हैकी रहने देLog Kehte Hain Ki khush rahoMagar majal hai ki Rahane De

दुनिया समझती है बेकार जिसे,वो खोटा सिक्का भी एक दिन चल जायेगा,मंजिल चुन कर बढ़ चुका हूँ मैं,हौसले बढ़ रहे हैं मेरे और वक्त भी बदल जायेगा।

हम ने भी चाहा हर मंजिल करीब हो कर,हर वक्त आप का साथ नसीब हो पर।वहां खुदा भी क्या करे,जहां इंसान खुद बदनाम हो।

हम वे परिंदे हैं, जो हारने के बाद भी उड़ने की हिम्मत रखते हैं!!

बेवजह तुम्हें यु याद करना,बेवजह दोस्तो को यु परेशान करना,फिजूल ही था तुम पर वक्त बर्बाद करना।

जीवन में थोड़ी मुश्किलें आती है, लेकिन बहुत कुछ सिखा जाती है.

वक्त ने थोड़ा सा साथ नहीं दिया तो लोगो ने, काबिलियत पर शक करना शुरू कर दिया।।

वक़्त कहता है के फिर न आऊंगा,तेरी आँखों को अब न रुलाऊंगा,अगर जीना है तो इस पल को जी ले,शायद मैं कल तक नहीं रुक पाउँगा।

कहते है की मतलब तो इंसान के चहेरे पर साफ़ दिख जाता है, लेकिन हम तो बस सभी पर भरोसा करने की गलती कर बैठते है!

खामोशियाँ बयां कर रही है बदलाव को, लगता है तजुर्बे ने जख्म गहरे दिया है ।

वक्त की यारी तो हर कोई कर लेता है,जब वक़्त बदले और यार न बदले, मजा तो तब है।

जिसने कभी हाँ में हाँ मिलाई थी,आज वो साथ देने से मुकर गया,जिसे कभी सर पर बैठाया था,हमने आज वो नज़रों से उतर गया।

अब डर मोत से नहीं कुछ लोगो,के उनके टाइम पास का हिस्सा,,बनने से डर लगने लगा है।

सुना है कुछ लोगो का वक़्त बुरा सा चल रहा है,और वो हैं कि नफरत हम ही से कर रहे हैं।

“जहां इरादे नहीं, वहां रास्ते बदल दें।”

खफा हम किसी से नहीं जनाब बस जरा वक़्त की कमी है,आसमान में उड़ने का एक ख्वाब है और पैरों तले जमीं है।

बदला तो वो लेते है जिनके दिल छोटे होते है, हम तो माफ़ करके दिल से निकाल देते है ।।

वक़्त मिले गर तो थोड़ा हिसाब भी कर देना ऐ जिंदगी,ये बिना पगार की नौकरी अब मुझसे नहीं होगी !!

“सोच बदली नहीं जा सकती, उसे बदलना पड़ता है।”

जो सामने मिलकर करते भाई-भाई है,ज्यादातर वही करते पीठ पीछे तुम्हारी बुराई है।

वक़्त की सितम कुछ ऐसी छाई,दूर गए वो और आँख मेरी भर आई !!

दिल नरम दिमाग गरम, बाकी सब ऊपर वाले की करम!!

छल से नहीं इस दुनिया को, मेहनत से झुकानी है मेरे यारो!!

“धड़कन मेरी तुमसे है,आशिकी मेरी तुमसे है,बताये तो कैसे बताये तुम को,मेरी जिन्दगी मेरी साँसे तुमसे हैं”

जिन्दगी जख्मो से भरी है वक्त को मरहम बनाना सीख लो,हारना तो है एक दिन मौत से फिलहाल जिन्दगी जीना सीख लो..!!

Recent Posts