1954+ Akelepan Ki Shayari In Hindi | दिल छूने वाली अकेलापन शायरी

Akelepan Ki Shayari In Hindi , दिल छूने वाली अकेलापन शायरी
Author: Quotes And Status Post Published at: September 1, 2023 Post Updated at: October 1, 2023

Akelepan Ki Shayari In Hindi : महफ़िल से दूरमैं अकेला हो गयासूना सूना मेरे लिएहर मेला हो गया। एक महफ़िल में कई महफ़िलें होती हैं शरीक जिस को भी पास से देखोगे अकेला होगा।

खुद में उलझ गया था इतना,चाहने वालों की भी कदर नहीं की khud men ulajh gayaa thaa etnaa,chaahne vaalon ki bhi kadar nahin ki

नाराजगी किसी से नहीं ज़िन्दगी से थोड़ी सिकायत है, अकेलेपन से बहोत उब गया अब सुकून की चाहत है।

इस से पहले कि मुझ को सब्र आ जाए, कितना अच्छा हो कि लौट आओ तुम।

खुद को तबाह करूं यह कभी हिम्मत नहीं हुई मैं वही हूं जिससे आज तक उसे मोहब्बत नहीं हुई

ये कैसा फासला हो गया दरमियाँ सामने होकर भी वो अलविदा कह गया

जरूरी तो नही हूं मैं – मगर !!पर मेरे बगैर कमी बहोत रहेगी तुझमे।

इश्क कहाँ मिलेगा,माफ़ी माँगनी है साहब eshk kahaan milegaa,maafi maangni hai saahab

“ किसी की मुहब्बतका अकेला वारिस होनाबड़े नसीब की बात है…!!

महफ़िल मे नही तो तन्हाई मे फरियाद करोगे,हमारे जैसा ना कही मिला है ना मिलेगा,आजमा कर देखो किस्मत पे नाज़ करोगे।

बुरी संगति से दूर रहता हूं, इसलिए अकेले रहना पसंद करता हूं।

“ तन्हा दिन, तन्हा रातेंअकेलेपन में भीयाद आती हैं सिर्फ तेरी बातेंकोशिश कर लूं छुपाने कीपर बाहर आ ही जाती हैं जज़्बातें…!!

दिल का दर्द ब्यान करना अगर, इतना ही आसान होता, तो लोग गीतों का सहारा ना लेते !!

अकेले होने का मतलब यह नहीं है कि आप अकेले हैं और अकेले होने का मतलब यह नहीं है कि आप अकेले हैं।

कौन कहता है नफरतों मैं दर्द होता है, कुछ मोहब्बत बड़ी कमाल की होती है !!

दूसरों को दुःख में हमेशा अपने गले लगाया,मुझ पर मुसीबत आई तो खुद को अकेला पाया।

कुछ सपने तुमने तोड़ दिये,बाकी हमने देखने छोड़ दिये kuchh sapne tumne tod diye,baaki hamne dekhne chhod diye

उफ्फ ये मोहब्बत भी साहब,नींद से भी जगा कर रुलाती है uphph ye mohabbat bhi saahab,nind se bhi jagaa kar rulaati hai

हमें भुलाकर सोना तो तेरी आदत ही बन गई है, अय सनम;किसी दिन हम सो गए तो तुझे नींद से नफ़रत हो जायेगी।

तुम्हें भी एक दिन प्यार जरूर होगा,जवानी का ये अकेलापन दूर होगा।

अकेले कैसे रहा जाता है,कुछ लोग यही सिखाने हमारी ज़िंदगी में आते हैं।

कुदरत के इन हसीन नजारों का हम क्या करें,तुम साथ नहीं तो इन चाँद सितारों का क्या करें !

“ तुझे अकेले पढूँकोई हम-सबक न रहे,मैं चाहता हूँ कितुझ पर किसी का हक न रहे…!!

क्यूँ रो रहा है,जब वो तेरा प्यार नहीं समझा तो दर्द क्या ख़ाक समझेगा kyun ro rahaa hai,jab vo teraa pyaar nahin samjhaa to dard kyaa khaak samjhegaa

तुम्हारे करीब हम कुछ इस तरह आते गये तन्हाइयों के नजदीक, और नजदीक जाते गये।।

“ अकेले ही तय करनेहोते हैं कुछ सफर,हर सफर में हमसफर नही होते…!!

अकेली रात है मैं भी तन्हा हूंलेकिन खुश हूं वहीं मैं जहां हूं

हर वक़्त का हँसना तुझे बर्बाद ना कर दे,​तन्हाई के लम्हों में कभी रो भी लिया कर।

अकेलापन पहली चीज है जिसे भगवान की आंख ने नाम दिया है, ठीक नहीं।

कौन कहता है अकेला रहा नही जाता है, खुद को जानने के लिए अकेलापन भी कमाल होता है।

खुद की कह कर खुद ही सुन लेते हैं, अब ना कोई सुनाने वाला है और ना कोई दल दुखने वाला है।

अब मुझे रास आ गया है अकेलापन, अब आप अपने वक्त का अचार डालिए.,

तुमने वफा करना नहीं सीखा ना सही, हम दुआ करते हैं कि तुम्हे कोई बेवफा ना मिले !

खुदा जाने यह कैसी रहगुजर है, किसकी तुरबत है, वो जब गुज़रे इधर से गिर पढ़े दो फूल दामन से.,

ये प्यार के चक्कर में,लोगों ने Best Friends जरुर खोये होंगे ye pyaar ke chakkar men,logon ne Best Friends jarur khoye honge

बहुत शौक था, दुसरो को खुश करने का, होश तब आया, जब खुदको अकेला पाया ||

वो इंसान दुनिया जीतने की हिम्मत रखता है, जो इंसान अकेले चलने की हिम्मत रखता है ।

इस चार दिन की जिंदगी में, हम अकेले रह गए, मौत का इंतजार करते करते, अकेलेपन से मोहब्बत कर गए।

“ किसे अपना कहा जायसभी दिल तोड़ जाते हैं,सज़ाकर दिल की महफिलको अकेला छोड़ जाते हैं…..!!!

वो दूर का सितारा दूर हो कर भी अब अपना सा लगता है, क्यूंकि जनाब मेरे इस अकेलेपन को वो अकेलापन मेहसूस ही नहीं होने देता है।

भीड़ में ये अकेलापन मुझसे मिलने जब आया, क्या है ये अकेलापन मुझे समझ में तब आया।

अगर आप मजबूत बनना चाहते हैं तो अकेले लड़ना सीखें।

“ अकेले में उनसे दिलकी क्या बात हो गई,लोगो केे मन में फिरशक की शुरूआत हो गई…!!

चुप रहना ताकत है मेरी कमजोरी नहीं,अकेले रहना आदत है मेरी मजबूरी नहीं !

खुद को खोकर मिले थे तुम,मगर तुमको खोकर मैं नहीं मिल पा रहा हूं।

सूरज पर प्रतिबन्ध अनेक और भरोषा रातों पर, नयन हमारे सीख रहे है हँसाना झूठी बातों पर।

मैं वो हूँ हरदिन दूसरों के लिए मुस्कुराती हूँ भले ही अंदर से अकेली हूँ।

खुदा से मौत माँग लेना,पर इंसान से मोहब्बत नहीkhudaa se maut maang lenaa,par ensaan se mohabbat nahi.

क्या बताएं अकेलापन भाता नही, जल्दी वक्त गुजर जाता नही।

वो प्यार ही क्या जो प्यार की जंग में, आधे रास्ते में हाथ छोड़ जाये..!

ज़िदगी में शेर नहीं पक्षी बन ना है, अकेले उड़ान भरने का हिम्मत रखना है|

कभी कभी सच्चाई के रास्ते भी साथ नहीं देते है, जब हम अकेले सिर्फ अकेले होते है..!

अकेले हो कर तुम उदास होते हो,कौन मनाता है जो नाराज़ होते हो।

मुझमें कहीं छुपा खुशियों का मेला है,ना जाने क्यों दुनिया समझती अकेला है.

“बड़ा अजीब सा है ये अकेलापन मेरा,चाहत रही नहीं तेरीदेख अब और जरूरत भी सिर्फ तेरी है “

हालात सिखाते है, बाते सूनना और सहना, वरना हर शक्स फितरत से बादशाह ही होता है.,

ये अकेलापन सभी को काटता है, पर न कोई इसको बाँटता है, अगर जो कोई चाहे इसको बाँटना। बुरा भला कह कर सब कोई डाँटता है।

मैं खुशियों की तलाश में अपनों से दूर गया,खुशिया मेरे अपनों से ही थी मैं ये भूल गया ।

यूंही नहीं याद आते हैं वो बचपन के दिन, जिंदगी के बोझ से तो हल्का ही था वो स्कूल बैग !

मुझे अकेला रोते देख मेरी आंखों के गिरते आंसू ने भी कह दिया, आज भी बेमिसाल प्यार करते हो तुम उससे..।

मुझे तन्हाई की आदत है मेरी बात छोड़ेंये लीजे आप का घर आ गया है हात छोड़ेंजावेद सबा

अकेले ही तय करने होते हैं कुछ सफर,जिंदगी के हर सफर मेंहमसफर नहीं मिला करते.

ख़्वाब की तरह बिखर जाने को जी चाहता है ऐसी तन्हाई कि मर जाने को जी चाहता है !!

ज़िंदगी में अकेले हो तो कभी हार मत मानो, ज़िंदगी में अकेला आदमी कुछ भी कर सकता है..!

आज परछाई से पूछ लिया मैंने, की क्यों चलते हो मेरे साथउसने मुस्कुरा कर कहा की, मेरे अलावा है ही कौन तेरा ।

वो मुझे तनहा करकेमेरा इम्तिहान लेने लगेवक्त का पता न चलाहम भी तनहाई से मोहब्बत करने लगे।

दर्द बहुत दिए उसने,लेकिन आखरी दर्द तकउसे ही चाहा है मैंने dard bahut dia usne,lekin aakhri dard takuse hi chaahaa hai mainne

मैं किसी का दिल तोड़ नहीं सकता शायद इसलिए मैं अकेला हूँ ..

“ जब थक जाओ दुनियाकी महफ़िल से तुम,आवाज़ देना हमअक्सर अकेले ही रहते है…!!

मुझे सच बोलने की आदत है इसलिए तो मैं आज अकेला हूँ ..

लडकियाँ रोती है टूट जाती है,और फिर खामोश हो जाती है ladakiyaan roti hai tut jaati hai,aur phir khaamosh ho jaati hai

हम चुप रह गए बस तेरी सोच कर, वरना कहने को बातें तो कई थी मेरे पास।

पास आकर सभी दूर चले जाते है,अकेले थे हम अकेले ही रह जाते है!इस दिल का दर्द दिखाये किसे?मल्हम लगाने वाले ही जख्म दे जाते है!!

Recent Posts