2432+ Achi Shayari In Hindi | बेस्ट हिंदी शायरी

Achi Shayari In Hindi , बेस्ट हिंदी शायरी
Author: Quotes And Status Post Published at: September 16, 2023 Post Updated at: March 9, 2024

Achi Shayari In Hindi : “बिखरे है अश्क कोई साज नही देता खामोश है सब कोई आवाज नही देता कल के वादे सब करते है । मगर क्यू कोई साथ आज नही देता । कभी-कभी थक जाइये जब जीवन की भागदौड़ से तो खुद के लिए भी कुछ वक्त निकाल लीजिये !

ऐसे भी खिलाड़ी बन कर क्या करना ! जब उसको ही न जीत पाएं !!

अल्फ़ाज़ सिर्फ चुभते हैं,खामोशियां मार देते हैं।

जन्मदिन है तुम्हारा,दिल में हमारे बाहर है,मुबारकबाद देने आया हूं जन्मदिन की,क्योंकि पार्टी जो लेनी है तुमसे,हैप्पी बर्थडे…

अब तुझसे शिकायत करना,मेरे हक मे नहीं।क्योंकि तू आरजू मेरी थी,पर अमानत शायद किसी और की।

छोटी सोच #इन्सान के व्यक्तित्व को भी ‘छोटा’ बना देती है.

वो जो कहते थे अपना टाइम आएगा मिला हु मैं उनसे वो आज भी वक़्त के भरोसे बैठे है ⏰😏🔥💯😎💪😈

“समझने ही नहीं देती सियासत हम को सच्चाई,कभी चेहरा नहीं मिलता कभी दर्पन नहीं मिलता।

उसके रहते जीवन में कभी कोई गम नहीं होता,दुनिया साथ दे या ना दे पर माँ का प्यार कभी कम नहीं होता.

हम तुमसे दूर कैसे रह पाते,दिल से तुमको…कैसे भूल पाते,काश तुम आईने में बसे होते,हम खुद को देखते तो तुम नज़र आते।

कट रही है जिंदगी रोते हुएऔर वो भी तुम्हारे होते हुए।

सोचता रहा ये रातभर करवट बदल बदल कर,जानें वो क्यों बदल गया, मुझको इतना बदल कर।

ना ज्यादा ना कम,जैसे आपकी सोच वैसे हम।

किसे फुर्सत है के कोई मेरा गम सुने मैं भी एक दिन सबके लिए याद बन जाऊंगा

तू देख या न देख इसका गम नही,पर तेरे न देखने की अदा किसी देखने से कम नही।

अजीब सबूत मांगा उसने मेरी मोहब्बत काकि मुझे भूल जाओ तो मानू मोहब्बत है … ।।

हम आज से और अभी से राब्ता तो सबसे रखेंगे पर वास्ता किसी एक से न रखेंगे !!

मेरे जीने की नई आस हो तुम,मेरी जिंदगी की प्यास हो तुम,ढूंढता है दिल जिसे बेसब्र होकर,जिंदगी की वो तलाश हो तुम...Happy Propose Day...

कितने मजबूर है हम तक़दीर के हाथों ना तुझे पाने का नसीब है 💔 और ना तुझे खोने का हौंसला 😥

जो रिश्ते दिल से बनाए जाते है,वो दूर रहने पर भी दिल केसबसे करीब पाए जाते है।

पूछा था हाल उन्होंने मेरा,बड़ी मुद्दतों के बाद।कुछ गिर गया है आँख में,कह कर हम रो पड़े।

ज़िन्दगी जीना तो एक बहाना है,सारी खुशियां ख्वाहिशें और लुटाना है।क्या कहा ?अभी दुनिया की जिम्मेदारियां उठाना है,आँख खोलो सब को मिटटी में मिल जाना है।

हर गम निभा रही हूँ खुशी के साथ,फिर भी आँसू आ ही जाते हैं हँसी के साथ।

हर दिल जो प्यार करता है किसी को पाने की उम्मीद में , मगर हर दिल ये उम्मीद नहीं करता किसी को पाने के लिए किसी को खोना भी पड़ेगा..!!!

जिंदगी की हर चीज़ ठोकर खाने से टूट जाती है, बस कमयबी ही ठोकर खाने से मिलती है।

चाहत बन गए हो तुमकी आदत बन गए हो तुम,हर सांस में यू आते जाते हो,जैसे मेरी इबादत बन गए हो तुम !

कोई दुआ असर नहीं करती, जब तक वो हमपर नजर नहीं करती हम उसकी खबर रखे न रखे, वो कभी हमें बेखबर नहीं करती।

ख़ुद को इस भीड़ में तन्हा नहीं होने देंगे, माँ ! तुझे हम अभी बूढ़ा नहीं होने देंगे।

हमारी शराफत का फायदा उठाना बंद कर दो, जिस दिन हम बदमाश हो गए क़यामत आ जायेगी !

तुम जो सोचते हो वैसे ही बन रहे,थोड़ा मधुर नहीं सोच सकते।

प्यार को निराकार से साकार होने का मन हुआ, तो इस धरती पर माँ का सृजन हुआ।”

बड़े भाई के साथ रहने में जो मजा आता है, वैसा मजा किसी के साथ नही आता है।

ख़्वाहिश है कि मैं फिर से फ़रिश्ता हो जाऊँ, माँ से इस तरह लिपट जाऊँ कि बच्चा हो जाऊँ।

मैं सुकून की तलाश में भटकता रहा सारे जहान में, थक के घर पहुंचा तो मिला सुकून अपने ही मकान में.

जाते जाते मुड़ कर देखा ही नहीं उसने अपने कदमों को रोका ही नहीं यादें तो सताएगी ज़िन्दगी भर पर उसने मेरे बारे 2 पल सोचा ही नहीं

जब नम हवाएं चलें तो सोच लेना! कि हम तुम्हे कितना याद करते है !!

एहसास-ए-मोहब्बत क्या है,ज़रा हमसे पूछो।करवट तुम बदलते हो.नींद मेरी खुल जाती है।

अच्छे समय में तोसभी पास आ जाते हैं,लेकिन बुरे समय मेंएक माँ ही होती है, जो हमारीताकत और हौसला बनकरहमारे साथ रहती है।

जो सब करते हैं तुमने भी वही कियापहले आदत डाली फिर छोड़ दिया..।

उन्होंने पूछा तोहफे में क्या चाहिए आपको हमने कहा वो मुलाकात जो कभी खत्म ना हो !

तन्हाई सी थी दुनिया की भीड़ में,सोचा कोई अपना नहीं तकदीर में,एक दिन जब दोस्ती की आपसे तो यूँ लगा,कुछ ख़ास था मेरे हाथ की लकीर में.

मेरे दिल को अगर तेरा एहसास नहीं होता,तू दूर रह कर भी यूं मेरे पास नहीं होता,इस दिल में तेरी चाहत ऐसे बसा ली है,एक लम्हा भी तुझ बिन ख़ास नहीं होता।

जो कोई समझ न सके वो बात है हम,जो ढल के नई सुबह लाये वो रात हैं हम,छोड़ देते हैं लोग रिस्ते बनाकर यूँ ही,जो कभी न छूटे ऐसा साथ हैं हम.

पहचान तो सब से है हमारी,लेकिन भरोसा सिर्फ खुद पर है।

जला दो सारी बुराईयां,मिटा दो सारी गलतफहमियां,अपना लो सारी अच्छाईयां,मुबारक हो होली की रंगीलियाँ।

क्या करोगे अब मेरे पास आकर,खो दिया तुमने बार बार आज़मा कर।

माँ को याद कर लेता हूँ, जब भी खुद को अकेला पाता हूँ,

आज कल वो हमसे डिजिटल नफरत करते हैं,हमें ऑनलाइन देखते ही ऑफलाइन हो जाते हैं।

आंखों से आँखे मिला गया कोई,दिल की कलियाँ खिला गया कोई।दिल की धड़कन यूँ बेताब न थी,मुझको दीवाना बना गया कोई।

हर लम्हा तेरी याद का पैगाम दे रहा है,अब तो तेरा इश्क मेरी जान ले रहा है |

मेरी कब्र की मचान पर आईना लगा देना,उसे देखने की आखरी उम्मीद बाकी हैं…Meri kabra ki machan par aayna laga dena,Use dekhne ki akhiri ummeed baki hain…

रफ्ता रफ्ता खुदको मिटाया है हमने हर लम्हा मुश्किलों में बिताया है हमने तुम्हारी तरह हम बेवफा नहीं हैं तेरी यादों से भी रिश्ता निभाया है हमने

किसी के साथ आप वक़्त भूल जाते हो, तो कोई वक्त के साथ आपको भूल जाता है।

बहुत खास है वो शक्स मेरे लिए,फिर भी वो मेरा दिल दुखाता है,सब के लिए वक्त है उसके पास,बस मुझसे ही दूरियां बनाता है।

तेरे दामन में सितारे हैं तो होंगे ऐ फलक, मुझको मेरी माँ की मैली ओढ़नी अच्छी लगी।

सोचा था न करेंगे किसी से दोस्ती,न करेंगे किसी से वादा,पर क्या करे दोस्त मिला इतना प्याराकी करना पड़ा दोस्ती का वादा.

अपने वो होते हैं जो समझते भी हैंऔर समझाते भी हैं.।

जो आप कल थे उससे बेहतरबनने की कोशिश करनी चाहिए।

मोहब्बत करके खुद तबाह हुए हैं बहुत मिलकर हम जुदा हुए हैं

होली का त्यौहार हर किसी को लुभाता,रंगों की खुशबू से वातावरण महकाता,कही हरा तो कही लाल रंग दिखाई देता,चारों तरफ हैप्पी होली का शोर सुनाई देता।

सिर्फ एक ही बात सीखी इन हुस्न वालों से हमने​​,हसीन जिसकी जितनी अदा है वो उतना ही बेवफा है।

जो तुम्हे चाहे उसको चाहो तो,प्यार खुद बा खुद हो जाता है।क्या सच में ऐसा होता है,या कोई बस कहानियां बनाया है।

आपको सताना अच्छा लगता है,आपको मनाना अच्छा लगता है,हर लम्हा आपको अपनी याद दिलाना अच्छा लगता है।

क्या टाइम चल रहा है हमारा दुखी होकर भी हसना पड़ता है।।

अच्छा लगता है तेरे नाम 👩‍❤️‍👨 मेरे नाम के साथ जैसे कोई सुबह हो किसी हसीन शाम के साथ 💞

मेरे बारें में अपनी सोच को थोड़ा बदलकर देख, मुझसे भी बुरे हैं लोग तू घर से निकलकर देख.

कोई मुझे अच्छा तो कोई बुरा भी कहता है, इंसान कुछ नहीं कहता नजरिया कहता है.

किसी जमाने में दूसरे के,पैर से काटें निकालते थे लोग,मगर अब एक दूसरे की राहों में,काटें बिछाते है लोग।

करो कुछ ऐसा दोस्ती में कि, Thanks And Sorry ऐसे Words बेईमान लगे, निभाओ दोस्ती ऐसे कि, यार को छोड़ना मुश्किल और दुनिया छोड़ना आसान लगे !

मत आने दो किसी को करीब इतना,कि उससे दूर जाने से इंसान खुद से रूठ जाये।

चाहा ना उसने मुझे बस देखता रहा,मेरी ज़िंदगी से वो इस तरह खेलता रहा।ना उतरा कभी मेरी ज़िंदगी की झील में,बस किनारे पर बैठा पत्थर फेंकता रहा।

ये आईने नही दे सकते तुम्हे तुम्हारी खूबसूरती की सच्ची ख़बर,कभी मेरी इन आँखों में झांक कर देखो की कितनी हसीन हो…

तुम्हे इतना पसंद करता है कम्बख्त दिल ए सनम,कि मेरी पहली और आखिरी आरजू बस तुम हो !

Recent Posts