591+ Sad Status In Hindi For Life | सैड स्टेटस हिंदी में

Sad Status In Hindi For Life , सैड स्टेटस हिंदी में
Author: Quotes And Status Post Published at: October 20, 2023 Post Updated at: March 27, 2024

Sad Status In Hindi For Life : दर्द हमेशा अपने ही देते हैं,वरना गैरों को क्या पता,आपको तकलीफ किस बात से होती हैं. खुद को माफ़ नही कर पाओगे,जिस दिन जिंदगी में हमारी कमी पाओगे.

एक बात कहु जिनसे बात करने की आदत हो जाती है है ना , उनसे अगर एक दिन बात न हो तो दिल उदास हो जाता है

उसके लिए क्यों रोता है यार जो जाने ही न क्या होता है प्यार …!!

“न जाने किस दरबार का चिराग़ हूँ मैं , जिसका दिल करता है जलाकर छोड़ देता है “

अच्छे होते हैं वो लोग जो आकर चले जाते हैं,थोड़ा ठहर कर जाने वाले बहुत रुलाते हैं !

बेवफा लोग बढ़ रहे हैं धीरे धीरे,इक शहर अब इनका भी होना चाहिऐ.

कभी-कभी हाथ छुड़ाने की ज़रूरत नहीं होती,कुछ लोग तो साथ रह कर भी बिछड़ जाते हैं.

“ये दिन भी क़यामत की तरह गुज़रा है न जाने क्या बात थी हर बात पर रोना आया “

अगर इतनी ही नफ़रत है हमसे, तो आज ही ऐसी दुआ करो। की तुम्हारी दुआ भी पूरी हो जाये, और मेरी ज़िन्दगी भी।।

” गुज़र जायेगा ये दौर भी ज़रा सब्र तो रख !जब खुशियाँ ही न रुकी तो ग़म की क्या औकात है !!”

जिन्हें नींद नहीं आती उन्हीं को मालूम है, सुबह आने में कितने जमाने लगते है।

“आँसुओ का कोई वज़न नहीं होता, लेकिन निकल जाने पर मन हल्का हो जाता है”

तेरी यादो को पसन्द आ गई है मेरी आँखों की नमी…हँसना भी चाहूँ तो रूला देती है तेरी कमी…!!

आँखें थक गई है आसमान को देखते देखतेपर वो तारा नहीं टूटता ,जिसे देखकर तुम्हें मांग लूँ

बुरा वक़्त कठोर होता है पर लोगों से ज्यादा नहीं, जो किसी के भावनाओ से भी खेल सकते हैं !

नींद चुराने वाले पूछते हैं सोते क्यों नही, इतनी ही फिक्र है तो फिर हमारे होते क्यों नही।

जब प्यार करने वाले अपने जज़्बातों को दबाकर,रिश्तों को कोई दूसरा नाम देते है,तो कभी न कभी,कहीं न कहीं जज्बातों फूट फूटके रोने लगते है– यादें (1964)

उनके हाथ पकड़ने की मजबूती जब ढीली हुई,तो एहसास हुआ शायदये वही जगह है जहां रास्ते बदलने है.

हम हार गए क्योंकि हमने खुद से कहा कि हम हार गए.

जरा सी बात पर ना छोड़ किसी अपने का दामन, ज़िन्दगी बित जाती है अपनों को अपना बनाने में !!

तू हजार बार रुठेगी फिर भी तुझे मना लूँगातुझसे प्यार किया है कोई गुनाह नही,जो तुझसे दूर होकर खुद को सजा दूँगा.

अब तो बस तेरे यादों के सहारे जी रहा हूँ।

उस रिश्ते को भी निभाया हमने जिसमें न मिलना पहली शर्त थी

ए खुदा सीने से, दिल निकाल दो मेरे, जब तक जिऊंगी तब तक, कोई खता नहीं करूंगी.

कहीं बाजार में मिल जाये तो लेते आना… वो चीज़ जिसे दिल का सुकून कहते हैं…!!

मेरी जिंदगी मुझे ऐसे मोड़ पर लाकर खड़ा कर चुकी है,कि मजबूरी है जीने की और चाहत है मरने की !!

तुम्हे किसी और का होना था तो एक बार हँस बोली होती, अपनी ख़ुशी तेरे चाहने वाले के हाथो में ख़ुशी से दे देता…!!

जिन से मिलना मुमकिन नहीं होता, याद भी सबसे ज्यादा वही आते हैं।

टूटे हुए काँच की तरहचकनाचूर हो गए,किसी को लग ना जायेइसलिए सबसे दूर हो गए🥺।।

दर्द का अहसास तोउन्होंने करवाया था,फिर क्यों न चाहते हुए भीउन्होंने दर्द दिया हमें.

जीवन में दर्द दो तरह के होते हैं, एक जो दर्द देता है, और एक जो आपको बदल देता है !

मेरे दिल से खेल तो रहे हो तुम पर जरा सम्भल के, ये थोडा टूटा हुआ है कहीं तुम्हे ही लग ना जाए.|

सच्चे रिश्ते कुछ नहीं मांगते, सिवाय वक़्त और इज्जत के..!!

शाम हो रही है अब, फिर इंतेजार सुबह का होगा, जिंदगी तो ढल रही है, अब इंतेजार मौत का होगा।

यूँ ना खींच मुझे अपनी तरफ बेबस कर के,ऐसा ना हो के खुद से भी बिछड़ जाऊं और तू भी ना मिले.

कटते नही मुझसे ये तन्हा दिन रात आज मैं सूरज से कहूंगा, मुझे साथ लेकर ङूबे|

तुम्हें अपनी गलती कैसे कहूँ तुम तो वो सबक हो जो मुझे प्यार में मिला

किसी को समझो या ना समझो, पर किसी को गलत मत समझो.

आज जिस्म में जान है तो देखते नही हैं लोग…जब रूह निकल जाएगी तो कफ़न हटाहटा कर देखेंगे लोग…

कोई था हमारी जिंदगी में जिसे हमारे चुप रहने से भी कभी फर्क पड़ता था, फिर न जाने अचानक क्या हुआ आज रोने से भी फर्क नही पड़ता।

कुछ सीख लो फूलों से, खुद महकना ही नहीं गुलशन को महकाना भी है.

” किसी को उजाड़ कर बसे तो क्या बसे किसी को रुलाकर हँसे तो क्या हँसे “

कभी कभी हम किसी के लिए, उतने जरुरी भी नहीं होते, जितना हम सोच लेते है.

” क्यूँ नहीं महसूस होतीउसे मेरी तकलीफ,जो कहते थे,बहुत अच्छे से जानते है तुझे “

गिला करूँ भी तो किससे😑,इधर👇 दिल💔 अपना उधर👆 तुम अपने।

हो ताल्लुक तो रूह से ही हो,दिल तो अक्सर भर ही जाता है।।

एक वक़्त था तब वो उदास देख के सब कुछ समझ जाती थी आज बोल रहे है रो रो कर फिर भी नहीं समझ पा रही है

” और फिर भी हर बुरे से भी बुरा कुछ होता है। “

उसके लिए क्यों रोता है यार, जो जाने ही न क्या होता है प्यार।

अगर कुछ चाहों और वह ना हो न तो बहुत तकलीफ़ होती हैं।

तेरे साथ बिताया समय जब भी याद आता है, सोच में पड़ जाता हूँ और दिल को बहुत रुलाता है।

मै उन बेवफा से कहूंगा की हर लड़का बजबूत नही होता कुछ लड़के टूटे कांच की तरह टूट के बिखर जाते है

वो जिंदगी भी मौत से कम नहीं है,अगर दिल में रहने वाले जिंदगी में नही हैं !!

दरिया दिया और प्यासे रहे, उम्र भर साथ दिलाते रहे। जैसे थे वैसे न रहने दिया, न सोना बने, न कांसे रहे।

बदला नहीं हूं मैं, मेरी भी कुछ कहानी है; बुरा बन गया मैं….बस अपनों की मेहरबानी है।

मेरी हर आह को वाह मिली है यहाँ….. कौन कहता है दर्द बिकता नहीं है|

उम्रकैद की तरह होते है कुछ रिश्ते, जहाँ जमानत देकर भी रिहाई मुमकिन नहीं।

आपकी यादो को लेकर दुनिया से चले जायेंगे,आसमा में रह कर आपको न भूल पाएंगे,करोगे याद जो एक पल भी हमे तो,बन के बारिश आपके कदमो में बिखर जायेंगे.

तेरी तो फितरत ही थी सभी से मोहब्बत करने की, हम तो बेवजह ही खुद को खुशनसीब समझने लगे थे.|

अब मेरी कोई ज़िंदगी ही नहीं, अब भी तुम मेरी ज़िंदगी हो क्या.?

तुम से बिछड के फर्क बस इतना हुआ,तेरा गया कुछ नहीँ और मेरा रहा कुछ नहीँ !

लफ़्ज़ों से कहाँ लिखी जाती है ये बेचैनियां मोहब्बत की, मैंने तो हर बार तुम्हे दिल की गहराईयो से पुकारा है।

जिंदगी से बड़ी कोई सज़ा ही नहीं और जुर्म क्या है पता ही नही. इतने हिस्सो में बट गया हूं मैं, मेरे हिस्से में कुछ बचा ही नहीं.

हम तो खुशियां उधार देने का कारोबार करते हैं पर, कोई वक्त पर लौटाता नहीं बस इसिलीए घाटे में है।

दर्द का कहर बस इतना सा है…आँखें बोलने लगी और आवाज़ रूठ गयी..

कभी कभी हम किसी के लिए उतना जरूरी भी नहीं होते जितना हम सोच लेते है |

बारिश के बाद तार पर टंगीआख़री बूंद से पूछना,क्या होता है अकेला पन.

ये इश्क है जनाब यहां इंसान निखरता भी कमाल का हैऔर बिखरता भी कमाल का हैं !!

निगाहों की बात निगाहों से कर लिया करो, मोहब्बत को नजर लगते देर नहीं लगती.

मरने वाले तो एक दिन बिन बताए मर जाते हैं, रोज तो वो मरते है जो खुद से ज्यादा किसी को चाहते है।

बड़ी अजीब सी मोहब्बत थी तुम्हारी,पहले पागल किया..फिर पागल कहा,फिर पागल समझ कर छोड़ दिया.

यहाँ की बातें वहाँ बताने वालें, खुश रहते हैं आजकल आग लगाने वालें..

गिरे हुए पैसों को तो सब उठाते है, पता नहीं ये लोग अपना ईमान कब उठाएंगे.

Recent Posts